Top
Home » वाणिज्य » थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अगस्त 2020 माह में 0.16 प्रतिशत रही

थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अगस्त 2020 माह में 0.16 प्रतिशत रही

👤 mukesh | Updated on:14 Sep 2020 8:52 AM GMT

थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अगस्त 2020 माह में 0.16 प्रतिशत रही

Share Post

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने सोमवार को अगस्त 2020 माह के थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े जारी कर दिए हैं।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने कहा कि थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अगस्त में 0.16 प्रतिशत रही, जो जुलाई में नकारात्मक 0.58 प्रतिशत थी और जून में नकारात्मक 1.81 प्रतिशत थी। गत वर्ष की समान अवधि अगस्त 2019 में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की दर 1.17 प्रतिशत थी।

अगस्त 2020 में खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति 3.84 प्रतिशत रही। आलू की कीमतों में 82.93 प्रतिशत वृद्धि हुई। वहीं सब्जियों में मुद्रास्फीति 7.03 प्रतिशत रही, प्याज में (-)34.48 प्रतिशत थी। ईंधन और बिजली की बात करें, तो अगस्त में इनकी महंगाई दर 9.68 प्रतिशत रही। हालांकि, इस दौरान विनिर्मित उत्पादों की मुद्रास्फीति बढ़कर 1.27 प्रतिशत हो गई, जो जुलाई में 0.51 प्रतिशत थी।

थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की दर पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) के वी सुब्रमण्यम ने भरोसा जताया है कि लॉकडाउन में ढील के बाद आगामी दिनों में खुदरा मुद्रास्फीति नीचे आएगी। उन्होंने कहा कि आपूर्ति की दिक्कतों की वजह से मुद्रास्फीति बढ़ी है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार जुलाई में खुदरा मुद्रास्फीति की दर बढ़कर 6.93 प्रतिशत हो गई है।

उल्लेखनीय है कि भारतीय रिजर्व् बैंंक के गवर्नर शक्तिकांत दास की अगुवाई वाली छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) को 31 मार्च, 2021 तक वार्षिक खुदरा मुद्रास्फीति को चार प्रतिशत पर रखने का लक्ष्य दिया गया है।

Share it
Top