Top
Home » वाणिज्य » क्रिप्टो करेंसी पर पाबंदी की तैयारी, संसद में पेश होगा बिल

क्रिप्टो करेंसी पर पाबंदी की तैयारी, संसद में पेश होगा बिल

👤 mukesh | Updated on:24 Nov 2021 4:37 AM GMT

क्रिप्टो करेंसी पर पाबंदी की तैयारी, संसद में पेश होगा बिल

Share Post

नई दिल्ली। उन तमाम लोगों की नींद अब उड़ने वाली है, जिन्होंने क्रिप्टो करेंसी (Crypto Currency) में अपना पैसा लगा रखा है। दरअसल भारत सरकार जल्द ही क्रिप्टो करेंसी (Crypto Currency) पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने वाली है।

संसद के शीतकालीन सत्र में जो नए विधेयक (Bill) पेश किए जाएंगे, उनकी सूची में 10 वें नंबर पर Crypto Currencny से जुड़ा बिल है। उसमें साफ-साफ लिखा है कि भविष्य में Reserve Bank Of India की ओर से जारी की जाने वाली Crypto Currency को छोड़कर बाकी सभी Private Crypto Currencies पर प्रतिबंध लगाया जाएगा।

शीत सत्र में आएगा क्रिप्टो पर विधेयक

संसद के शीत कालीन सत्र में पेश होने वाले इस बिल का नाम है-The Cryptocurrency & Regulation of Official Digital Currency Bill, 2021. इसमें लिखा है कि Reserve Bank of India की Official Digital Currecny के लिए एक Fram work बनाया जाएगा और इस बिल का उद्धेश्य भारत में सभी Private Crypto Curency को प्रतिबंधित करना भी है।

हालांकि इसमें कुछ Digital Currecnies जिनकी Technology महत्वपूर्ण है, उन्हें छूट दी जा सकती है। ये कौन सी Crypto Currencies होंगी ये अभी साफ नहीं है। लेकिन एक बात स्पष्ट है कि अगर ये बिल कानून बन गया तो भारत में भारत में Crypto Currency का बाज़ार हमेशा के लिए बदल जाएगा।

क्रिप्टो इस्तेमाल करने में भारतीय आगे

भारत में जितने लोगों ने Crypto Currency में निवेश किया है, वो भारत की आबादी का लगभग 8 प्रतिशत हैं. इन लोगों ने अपने 70 हज़ार करोड़ रुपये इस समय ऐसी Digital Currency के रूप में दांव पर लगाए हुए हैं, जिसे अभी तक भारत में मान्यता भी नहीं मिली है और जिस पर अब सरकार प्रतिबंध लगाने वाली है. पूरी दुनिया में Crypto Currency का इस्तेमाल करने के मामले में भारतीय सबसे आगे हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के शहरों में रहने वाले करीब 19 प्रतिशत लोग आने वाले 6 महीने में किसी ना किसी Crypto Currency में निवेश करना चाहते हैं. इनमें 19 से 35 वर्ष के युवाओं की संख्या सबसे ज्यादा है. ये वो युवा हैं जो रातों रात अमीर बनने के लालत में Crypto Currency पर लॉटरियों की तरह दांव लगा रहे हैं।

'डिजिटल करेंसी को रेगुलाइज करने की जरूरत'

पिछले हफ्ते गुरुवार को ही प्रधानमंत्री नरेंद्र् मोदी ने कहा था कि पूरी दुनिया के लोकतांत्रिक देशों को ये सुनिश्चित करना चाहिए कि नए ज़माने की ये Digital Currency गलत हाथों में ना पड़ जाए. अगर ऐसा हुआ तो कई युवाओं का भविष्य बर्बाद हो जाएगा. ये Crypto Currency पर भारत के प्रधानमंत्री का पहला बयान है।

इस समय पूरी दुनिया में 7 हज़ार से ज्यादा अलग अलग Crypto Coins चलन में हैं। ये एक प्रकार के डिजिटल सिक्के हैं, जबकि वर्ष 2013 तक दुनिया में सिर्फ एक ही Crypto Currency थी, जिसका नाम है BitCoin.इसे वर्ष 2009 में Launch किया गया था. BitCoin आज भी भारत समेत पूरी दुनिया में सबसे लोकप्रिय Crypto Currency है, जिसकी वर्ष 2010 में कीमत 75 पैसे भी नहीं थी. आज की तारीख में ये कीमत करीब 46 लाख रुपये है।

यानी अगर किसी व्यक्ति ने आज से 11 साल पहले साढ़े सात रुपये में 10 BitCoin खरीदे होंगे तो वो आज की तारीख में 4 करोड़ 60 लाख रुपये का मालिक बन चुका होगा. Crypto Currencies के दाम बढते भी तेज़ी से हैं और घटते भी तेज़ी से हैं. लेकिन जल्दी अमीर बनने की चाहत में ज्यादातर युवा ये जोखिम उठाने के लिए तैयार रहते हैं।

सीमित संख्य में हो सकती है क्रिप्टो माइन

Block Chain Technology एक ऐसे Algorithm पर काम करती है, जिसकी वजह से हर बार सिर्फ एक सीमित संख्या में ही नए Coins Mine किए जा सकते हैं. इसलिए कितनी करेंसी मार्केट में आएगी, ये पहले से पता होता है. उदाहरण के लिए अब तक 90 प्रतिशत Bitcoin Mine किए जा चुके हैं. लोग अक्सर उस चीज को ज्यादा खरीदते हैं, जो भविष्य में दुर्लभ हो सकती है और Crypto करेंसी के दाम एकदम से बढ़ने की ये एक बड़ी वजह है।

इसके अलावा ये पूरी Market Speculation यानी अनुमान एक तरह की स्ट्टेबाजी पर आधारित है, इसलिए जब दुनिया का कोई बड़ा उद्योगपति अचानक से किसी Crypto Currency में पैसा लगाता है या उसकी तारीफ करता है तो उसके दाम एकदम से बढ़ने लगते हैं। ऐसे ही जब किसी Crypto करेंसी का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा लेन देन में होने लगता है और लोग रोजमर्रा का सामान भी इससे खरीदने लगते हैं तो इसका चलन बढ़ जाता है और इसकी कीमत बढ़ने लगती है।

चीन ने लगाया क्रिप्टोकरेंसी पर बैन

दुनिया में बहुत सारे लोग ऐसे भी हैं, जिन्होंने बड़ी संख्या में Crypto Currency खरीद रखी है. जब ये लोग अचानक से अपनी Crypto Currency बेचने लगते हैं तो मार्केट Crash कर जाता है. इसके अलावा अन्य कारणों से भी ऐसा होता है. उदाहरण के लिए चीन ने हाल ही में Crypto Currency की Mining पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है और ये खबर आते ही दुनिया भर में Crypto Currency की कीमतें तेजी से गिरने लगी हैं।

पूरी दुनिया में Crypto इस्तेमाल करने वालों की संख्या 30 करोड़ से ज्यादा है, जो अमेरिका की आबादी से कुछ ही कम है. पूरी दुनिया में इस समय 75 लाख करोड़ रुपये की Crypto Currency चलन में है और ये इस समय दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी करेंसी बन गई है।

Share it
Top