Top
Home » वाणिज्य » शेयर समीक्षा: उतार चढ़ाव के बीच 1 प्रतिशत की मजबूती

शेयर समीक्षा: उतार चढ़ाव के बीच 1 प्रतिशत की मजबूती

👤 mukesh | Updated on:4 Dec 2021 7:42 PM GMT

शेयर समीक्षा: उतार चढ़ाव के बीच 1 प्रतिशत की मजबूती

Share Post

नई दिल्ली। शुक्रवार को खत्म हुआ कारोबारी सप्ताह भारतीय शेयर बाजार के लिए उतार-चढ़ाव वाला सप्ताह साबित हुआ। पूरे सप्ताह के कारोबार के बाद शेयर बाजार में ओवरऑल 1 प्रतिशत तक की मजबूती दर्ज की गई। सेंसेक्स पूरे सप्ताह के कारोबार के बाद 589.31 अंक की मजबूती के साथ 57,696.46 अंक के स्तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी भी 0.99 प्रतिशत यानी 170.50 अंक की बढ़ोतरी के साथ 17,196.70 अंक के स्तर पर बंद हुआ।

पिछले कारोबारी सप्ताह के दौरान जीडीपी और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के आंकड़ों ने बाजार का उत्साह बढ़ा दिया, जिसकी वजह से शेयर बाजार में इसके पहले के 2 सप्ताह से जारी गिरावट का दौर भी थमता हुआ नजर आया। हालांकि इस सप्ताह के कारोबार में शेयर बाजार में तेजी जरूर दर्ज की गई, लेकिन इस दौरान कारोबार में जोरदार उतार-चढ़ाव की स्थिति भी बनी रही।

सप्ताह के पहले दिन सोमवार को ही सेंसेक्स 724.22 अंक गिरने के बाद रिकवरी करके 1,245.58 अंक तक चढ़ गया। हालांकि शानदार ऊंचाई पर पहुंचने के बाद सेंसेक्स में दोबारा 400 अंक से अधिक की गिरावट आ गई। कारोबार के दूसरे दिन सेंसेक्स दिन के सर्वोच्च स्तर से 1,316.26 अंक तक नीचे लुढ़क गया। कारोबार के दौरान सेंसेक्स ने पहले 923.19 अंक की छलांग लगाई, लेकिन कारोबार के बीच में ही ये सूचकांक 393.07 अंक तक नीचे फिसल गया। तीसरे कारोबारी दिन बुधवार को सेंसेक्स ने 619.2 अंक की शानदार तेजी दिखाई। वहीं चौथे दिन गुरुवार को सेंसेक्स 776.50 अंक चढ़ गया। लेकिन इसके बाद आखिरी कारोबारी दिन सेंसेक्स 295 अंक तक चढ़ने के बाद 820 अंक तक नीचे लुढ़क गया। शुक्रवार को सेंसेक्स में 1,116.52 अंक का मूवमेंट देखा गया। जाहिर है कि पूरा सप्ताह शेयर बाजार के लिए उतार-चढ़ाव वाला बना रहा। अब आने वाले सप्ताह के लिए माना जा रहा है कि भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति, कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के संक्रमण की स्थिति और यूएस फेड की ओर से होने वाली घोषणाएं शेयर बाजार को काफी हद तक प्रभावित करेंगी।

शुक्रवार को खत्म हुए कारोबारी सप्ताह में बीएसई लार्ज कैप इंडेक्स में करीब 1 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई। लार्ज कैप के शेयरों में से टाटा कंसलटेंसी सर्विसेज, हिंदुस्तान जिंक, एचसीएल टेक्नोलॉजी, इंडसइंड बैंक और एनएमडीसी में 5 प्रतिशत तक की तेजी दर्ज की गई। वहीं अडाणी ट्रांसमिशन और सिप्ला के शेयरों में ओवरऑल 5 प्रतिशत तक की गिरावट दर्ज की गई।

पिछले कारोबारी सप्ताह के दौरान बीएसई मिडकैप इंडेक्स में भी 1 प्रतिशत की तेजी दर्ज की गई। मुनाफा कमाने वाले शेयरों में जीएमआर इंफ्रास्ट्रक्चर, वोडाफोन-आइडिया, बजाज होल्डिंग्स एंड इन्वेस्टमेंट्स, सुप्रीम इंडस्ट्रीज, आदित्य बिरला कैपिटल और ऑयल इंडिया लिमिटेड शामिल रहे। वहीं ग्लेनमार्क फार्मा, अपोलो हॉस्पिटल्स इंटरप्राइजेज, क्रिसिल, बैंक ऑफ इंडिया और अशोक लीलैंड जैसे शेयरों में गिरावट दर्ज की गई।

बीएसई स्मॉल कैप इंडेक्स भी ओवरऑल 1 प्रतिशत से अधिक की बढ़त के साथ बंद हुआ। इस सेगमेंट के गुजरात फ्लोरोकेमिकल्स, रैमको सिस्टम, एचसीएल इंफोसिस्टम्स, नियो-जेन केमिकल्स, मिर्जा इंटरनेशनल और टाटा टेलीसर्विसेज (महाराष्ट्र) के शेयरों में 20 से 25 प्रतिशत तक की तेजी दर्ज की गई। वहीं जयप्रकाश एसोसिएट्स, गणेश हाउसिंग कारपोरेशन, रिलायंस कैपिटल्स, एसएस वेंचर्स और ट्राइडेंट जैसे शेयरों में 10 से 20 प्रतिशत तक की गिरावट भी दर्ज की गई।

पिछले कारोबारी सप्ताह के दौरान सेक्टोरियल इंडेक्स के लिहाज से निफ्टी में शामिल आईटी इंडेक्स ने सबसे बेहतर प्रदर्शन किया। इसी तरह निफ्टी के मीडिया और मेटल इंडेक्स में भी शानदार बढ़त देखी गई। जबकि निफ्टी का फार्मा इंडेक्स पूरे सप्ताह के कारोबार के बाद 2.5 प्रतिशत गिरकर बंद हुआ।

इस कारोबारी सप्ताह में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने एक बार फिर जोरदार बिकवाली कर अपने पैसे निकाले। इस कारोबारी सप्ताह के दौरान विदेशी निवेशकों ने 15,809.81 करोड़ रुपये की बिकवाली की, वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों (डीआईआई) में 16,450.10 करोड़ रुपये की खरीदारी की। आपको बता दें कि इसके पहले नवंबर में विदेशी निवेशकों ने भारतीय बाजार से अपना पैसा निकालने के लिए कुल 39,901.92 करोड़ रुपये की बिकवाली की है। वहीं इस अवधि में घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 30,560.27 करोड़ रुपये के शेयरों की खरीदारी की है। माना जा रहा है कि अगर आने वाले सप्ताह में कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमीक्रोन के संक्रमण की रफ्तार बढ़ी तो विदेशी निवेशकों की ओर से बिकवाली और भी तेज की जा सकती है। ऐसा होने पर शेयर बाजार पर गिरावट का दबाव बन सकता है। (एजेंसी, हि.स.)

Share it
Top