Top
Home » दिल्ली » कन्हैया पर दोस्त ने लगाए गंभीर इल्जाम, बताया- जातिवादी और झूठा

कन्हैया पर दोस्त ने लगाए गंभीर इल्जाम, बताया- जातिवादी और झूठा

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:12 Aug 2018 5:59 PM GMT

कन्हैया पर दोस्त ने लगाए गंभीर इल्जाम, बताया- जातिवादी और झूठा

Share Post

वीर अर्जुन संवाददाता

नई दिल्ली। जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर उनके एक करीबी ने गंभीर आरोप लगाए हैं। वर्षों तक कन्हैया के साथ काम करने वाले और जेएनयू कैंपस में उनके क़रीबी माने जाने वाले जयंत जिज्ञासू ने एआईएसएफ और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से इस्त़ीफा दे दिया है। इस्तीफे के साथ ही उन्होंने कन्हैया पर जातिवादी होने, जेएनयू कैंपस में संगठन को बर्बाद करने और कन्हैया पर झूठ बोलने का आरोप लगाया है।

अपने इस्त़ीफे की घोषणा करते हुए जयंत ने फ़ेसबुक पोस्ट में एक पत्र भी शेयर किया है, जो उन्होंने कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के महासचिव, सुधाकर रेड्डी के नाम लिखा है। जयंत अपने लेटर के दूसरे पैरा में लिखते हैं, 'कॉमरेड, संगठन और पार्टी में एक पूरा पैटर्न दिखता है कि शोषित-उपेक्षित-वंचित-लांछित-उत्पीड़ित लोगों को बंधुआ मज़दूर समझ कर उनके साथ व्यवहार किया जाता रहा है। झंडा कोई ढोता है, नेता कोई और बनता है। 'सुधाकर रेड्डी के नाम लिखे गए इस ख़त में जयंत ने ना केवल कन्हैया पर हमला बोला है, बल्कि कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के काम करने के तौर-तऱीकों पर भी सवाल उठाया है। वो अपने पत्र में लिखते हैं, 'आज भी पार्टी किसी दलित को अपना महासचिव बनाने में इतना क्यों सकुचाती-शर्माती है, यह भी समझ से परे है। हर महत्वपूर्ण कार्यक्रम, सर्वदलीय बैठक, विपक्षी जमावड़े के म़ौके पर डी राजा नज़र आते हैं, वह राष्ट्रीय सचिव हैं, मगर वो पार्टी को चला सकें, उस अपेक्षित विवेक का दर्शन पार्टी उनमें क्यों नहीं कर पा रही है। 'कन्हैया के बारे में लिखते हुए जयंत बहुत सख़्त हो जाते हैं। वो कन्हैया पर जातिवादी होने का आरोप लगाते हैं। वह जेएनयू कैंपस में संगठन को बर्बाद करने का आरोप लगाते हैं और तो और कन्हैया कुमार पर झूठ बोलने का भी आरोप लगाते हैं। सोशल मीडिया पर शेयर किए अपने पत्र में जयंत लिखते हैं, 'दलित-पिछड़े-आदिवासी-अकलियत किन्हीं के भी नेतृत्व में काम कर लेते हैं, मगर तथाकथित उच्च जातियों के लोगों को पिछड़े-दलित-आदिवासी का नेतृत्व सहज भाव से स्वीकार्य नहीं है। अपमानित करने के इतने लेयर्स हैं कि कहां-कहां से बचा जाए, जूझा जाए।'

यहां स़ाफ है कि इशारा कन्हैया कुमार की तऱफ है। लेकिन इसके बाद जयंत कन्हैया का नाम लेकर सीधे-सीधे हमला करते हैं। उनके मुताबिक, 'जोभी लोग जेएनयू में चुनाव लड़ लेते हैं, वो ख़ुद को आश्चर्यजनक ढंग से संगठन की गतिविधियों से किनारा कर लेते हैं। कहीं कास्ट एरोगेंस है तो कहीं क्लास एरोगेंस। मुझे आपके साथ हुई एक बैठक याद है जिसमें कॉमरेड कन्हैया ने कहा कि मैं जेएनयू एआईएसएफ यूनिट का हिस्सा नहीं हूं।'वो आगे लिखते हैं, 'जिसव्यक्ति के साथ हुई ज़्यादती के ख़िल़ाफ पूरा जेएनयू और देश का प्रगतिशील व सामाजिक न्यायपसंद धड़ा साथ खड़ा था, उसी कन्हैया ने जेएनयू स्ट्युडेंट कम्युनिटी के साथ धोखा किया।'अपने पत्र में जयंत जिज्ञासू ने कन्हैया कुमार और पूरी पार्टी पर कई आरोप लगाए हैं। लेकिन पत्र के आख़िर में जो लिखा है वो बेहद चौंकाने वाला है। वो लिखते हैं, 'कॉमरेड, मौजूदा हालात में जबकि 'ज्ञानी-ध्यानी' लोगों ने पूरे तंत्र को हाइजैक कर रखा है, पूरा संगठन वन मैन शो बनकर रह गया है, शक्ति-संतुलन के नाम पर मुझे धमकी दिलवाई गई, इन गुंडों से मेरी जान पर ख़तरा है, बहुत घुटन का माहौल है।'अपने पद से इस्त़ीफा देते हुए जयंत ने जो आरोप कन्हैया पर लगाए हैं वो क़ाफी गंभीर हैं। खबर लिखे जाने तक कन्हैया की तऱफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। आख़िर में यह समझ लीजिए कि जनंत-कन्हैया की जोड़ी के क्या मायने हैं। कैंपस में जयंत और कन्हैया की जोड़ी वैसे ही थी जैसे, शोले ]िफल्म में जय और वीरू की थी और राजनीति में मोदी और अमित शाह की है।

 कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

नई दिल्ली । कतर के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सोमवार को कोरोना के कारण 3 अन्य लोगों की मौत और 1751 नए संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं।इसके बाद...

 यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

नई दिल्ली। यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक ने चीन के प्रति 'अधिक मजबूत रणनीति' रखने का आह्वान किया है क्योंकि वह एशिया वैश्विक शक्ति के केंद्र के रूप में ...

 रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

नई दिल्ली । रूस में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 8,946 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 353,427 हो गई है।...

 अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को धोखा बताया

अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को 'धोखा' बताया

नई दिल्ली । हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने कहा कि चीन ने अर्ध-स्वायत्त क्षेत्र पर नियंत्रण कड़ा करके शहर को धोखा दिया है।क्रिस पैटन ने टाइम्स ऑफ...

 कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

नई दिल्ली । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कोरोनावायरस संकट शुरू होने के दो महीने बाद पहली बार गोल्फ खेलने के लिये गोल्फ क्लब पहुंचे। ट्रंप का...

Share it
Top