Home » दिल्ली » महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर विशाल यज्ञोपवीत संस्कार यज्ञ महोत्सव मनाया गया

महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर विशाल यज्ञोपवीत संस्कार यज्ञ महोत्सव मनाया गया

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:2018-08-09 17:52:38.0

महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर विशाल यज्ञोपवीत संस्कार यज्ञ महोत्सव मनाया गया

Share Post

वीर अर्जुन संवाददाता

नई दिल्ली। केंद्रीय आर्य युवक परिषद नई दिल्ली के तत्वधान मे आज विशाल यज्ञोपवीत संस्कार यज्ञ महोत्सव का आयोजन प्रात 9ः00 बजे डीडीए पार्क सेक्टर 3 द्वारका में किया गया है इसमे यज्ञ के ब्रह्मा डॉ. रमेश कुमार योगाचार्य ने कहा कि यज्ञ के द्वारा हमारा वातावरण शुद्ध होता है, हम जो भी यज्ञ में घृत और सामग्री डालते हैं वह अग्नि में जल कर के सम्पूर्ण वायुमंडल में मिलकर हमारे वातावरण को शुद्ध करता है उसी इसी शुद्ध वातावरण से शुद्ध प्राण वायु को ग्रहण करके सभी जीव जंतु स्वास्थ्य रहते हैं, इसलिए हम जो भी सामग्री हवन में डालते हैं वह सभी प्राणियों को बराबर रूप में प्राप्त होती है । वेद के मंत्रों के उच्चारण करने से हमारा शारीरिक मानसिक और आध्यात्मिक विकास होता है और मानसिक रोग धीरे-धीरे दूर हो जाते हैं अत हमें वेद के मंत्रों का जाप करना चाहिए। मुख्य अतिथि के रूप मे पघारे डॉ. अनिल आर्य ?राष्ट्रीय अध्यक्ष? केंद्रीय आर्य युवक परिषद नई दिल्ली ने संबोधित करते हुए कहा कि परिषद एक ऐसी संस्था है जो दिन-रात लोगों की निस्वार्थ सेवा में लगी हुई है, हमारी संस्था 15 दिनों के अंदर 45 प्रोग्राम करने जा रही हैं और इसकी शुरुआत आज द्वारका से कि गई है जो बच्चों के चरित्र निर्माण व स्वास्थ्य और राष्ट्रभक्ति कि भावना को जागृत करने के लिए और देशभक्त बनाने के लिए ये सभी आयोजन किए जा रहे हैं। द्वारका में इस प्रकार का आयोजन पूर्व में भी हुआ है और आगे हम करते रहेंगे ताकि द्वारका के निवासी और द्वारका से सटे हुए जितनी भी जेजे कॉलोनी , क्लस्टर कालोनियां हैं उनको भी अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त हो सके वह भी धर्म कर्म से जुड़े देशभक्त बने राष्ट्रभक्त बने। विशेष अतिथि के रुप में आमंत्रित श्रीमती प्रवीण आर्या ने यज्ञोपवीत संस्कार कराते हुए कहा कि यह तीन धागे मातृऋण, पितृ ऋण, और आचार्य ऋण हैं बच्चे इनको पहनकर के सदैव अपने माता- पिता और गुरुजनों के प्रति कृतज्ञता का भाव रखें इसलिए इस को पहनना अनिवार्य है, उन्होंने वैज्ञानिक रहस्य को बताते हुए कहा यज्ञोपवीत धारण करने से हार्ट अटैक और हाई बीपी की समस्या से निजात मिलता है इसलिए वैदिक काल में हमारे ऋषि मुनि और विद्वान लोग इसका धारण करते थे। सम्मानित अतिथि के रुप में कुंवर राज किशोर सिंह, बृजराज पारीक, मनमोहन गुप्ता, और अनिल बाल्याण, रोहतास यादव उपस्थित हुए।

Share it
Top