Home » दिल्ली » नेतृत्व को जिम्मेदारी निभाते हुए कठोर फैसले लेने चाहिए : किरण बेदी

नेतृत्व को जिम्मेदारी निभाते हुए कठोर फैसले लेने चाहिए : किरण बेदी

👤 manish kumar | Updated on:7 Nov 2019 5:53 AM GMT

नेतृत्व को जिम्मेदारी निभाते हुए कठोर फैसले लेने चाहिए : किरण बेदी

Share Post

नई दिल्ली तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच हुई भिड़ंत तथा साकेत कोर्ट में पुलिस पर हुए हमले के बाद मुख्यालय पर जवानों द्वारा किए गए प्रदर्शन को लेकर पुडुचेरी की उपराज्यपाल और पूर्व आईपीएस अफसर किरण बेदी ने कहा है कि नेतृत्व एक चरित्र है जो कठोर निर्णय लेता है। इस समय निर्णय लेना चाहिए। निर्णय लेने से यह कठिन समय चला जाएगा। इस तरह से किरण बेदी ने इशारों-इशारों में कमिश्नर अमूल्य पटनायक को नसीहत दे दी। उन्होंने कहा कि इससे स्मृतियों में कठिन कानून रहेंगे।

इससे पहले किरण बेदी ने दिल्ली पुलिस का समर्थन करते हुए कहा कि पुलिस को अपने रुख पर दृढ़ता से कायम रहना चाहिए, नतीजा चाहे जो भी हो। किरण बेदी ने कहा कि पुलिस अधिकारियों के पास जीवन और संपत्ति की रक्षा करने और कानून व कानून के निर्देशों के सम्मान को लागू करने की कानूनी जिम्मेदारी है। उन्हें करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। पुलिस के पुरुष और महिलाएं अपना कर्तव्य निष्पक्षता से, दृढ़ता से, निडरता और जिम्मेदारी से निभाते हैं, तो उन्हें अपने वरिष्ठों द्वारा संरक्षित करने की आवश्यकता भी होती है क्योंकि जब वे असफल होते हैं तो उपेक्षा व कायरता के शिकार भी होते हैं। इसलिए यह विभाग का कर्तव्य है कि वह अपने कामों को जोरदार तरीके से अंजाम दे और भी घटनाएं हों, उसकी गहनता से जांच करें। यहीं नेतृत्व की भूमिका होती है। यह सुनिश्चित करना नेतृत्व का कर्तव्य है कि कोई भी व्यक्ति अपनी ड्यूटी करने से पहले से अपमानित न हो। कभी भी पुलिसकर्मी वर्दी में दीवार पर न चढ़ाएं और उन्हें अपनी सेवा और अपने वरिष्ठों पर विश्वास न खोने दें।

बेदी ने कहा कि यदि हम इस ज़िम्मेदारी को कमजोर करते हैं तो हमारे मातहत लंबे समय तक पीड़ित होंगे। इसलिए अपने जवानों की सर्वांगीण सुरक्षा के लिए एक निर्णायक शक्ति की आवश्यकता है। संकट आएंगे और जाएंगे लेकिन इससे निपटने के लिए नेतृत्व को अपनी पूरी क्षमता के साथ कर्तव्य का निर्वाह करना होगा। गलत होने पर कठोर निर्णय लेना होगा तो अपमानित होने से बचाना भी होगा। नहीं तो उन्हें और उनके परिवारों के स्वाभिमान को ठेस पहुंचती है। इसलिए पुलिस नेतृत्व को इसके प्रति संवेदनशील होने की जरूरत है क्योंकि ऐसे क्षण पुलिस के नेतृत्व के लिए निर्णायक होते हैं। इस घटना से सभी को सबक लेना चाहिए।

दरअसल पुलिस मुख्यालय पर मंगलवार को जवानों द्वारा किए गए धरना-प्रदर्शन के दौरान 'वी वांट जस्टिस' और 'हमारा सीपी कैसा हो, किरण बेदी जैसा हो' के नारे लगाए जा रहे थे। इतना ही नहीं कमिश्नर सहित तमाम आला अधिकारियों के बार-बार समझाने के बाद भी वे मान नहीं रहे थे। एक दिन पहले अपने सहयोगियों की पिटाई किए जाने और उन पर ही कार्रवाई किए जाने को लेकर नाराज थे। इस कारण वे अपना गुस्सा निकालने के लिए मुख्यालय पर हजारों की तादात में एकत्र होकर प्रदर्शन किया था। मुख्यालय के बाहर जमा हुए पुलिसकर्मियों ने पूरी तरह सड़क जाम कर दिया था और व्यस्त चौराहे पर आवागमन रुक गया था। हिस

 इजराइल और गाजापट्टी के बीच हवाई हमलों में 32 की मौत

इजराइल और गाजापट्टी के बीच हवाई हमलों में 32 की मौत

तेल अवीव । इस्लामिक जेहाद का मुखिया बहा अबू अल-अटा और उसकी पत्नी की इजराइली हवाई हमले में मृत्यु के बाद इजराइल और गाजा के बीच हवाई हमलों में अभी तक...

 ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग पर सुनवाई शुरू

ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग पर सुनवाई शुरू

वाशिंगटन । अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग मामले की सुनवाई शुरू हो चुकी है। मामले की पड़ताल के पहले दिन 'सार्वजनिक साक्ष्य' में...

 अमेरिका के अस्पताल में दोनों फेफड़ों का एक साथ सफल प्रत्यारोपण

अमेरिका के अस्पताल में दोनों फेफड़ों का एक साथ सफल प्रत्यारोपण

लॉस एंजेल्स । दुनिया में पहली बार अमेरिका में मिशिगन के हेनरी फ़ोर्ड अस्पताल में एक सत्रह वर्षीय किशोर के दोनों फेफड़ों का सफल प्रत्यारोपण किया...

 चीन में किंडरगार्डन स्कूल में रासायनिक हमला, 54 झुलसे

चीन में किंडरगार्डन स्कूल में रासायनिक हमला, 54 झुलसे

बीजिंग । चीन के यूनान प्रांत के केयुआन शहर में स्थित एक किंडरगार्डन स्कूल में मंगलवार शाम को एक व्यक्ति ने रासायनिक हमला किया जिसमें 51 बच्चे और तीन...

 काबुल में कार बम धमाका, सात लोगों की मौत

काबुल में कार बम धमाका, सात लोगों की मौत

काबुल । काबुल में बुधवार सुबह कार बम धमाके में सात लोगों की मौत हो गई है जबकि सात लोग घायल हो गए । यह जानकारी अफगान के आंतरिक मंत्रालय ने दी। ...

Share it
Top