Home » संपादकीय » टीम इंडिया का विराट प्रदर्शन

टीम इंडिया का विराट प्रदर्शन

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:2019-01-08T23:53:51+05:30
Share Post

आस्ट्रेलिया के सिडनी क्रिकेट टेस्ट मैच में आखिरी दिन बारिश ने भले ही भारत को इस टेस्ट में जीत से महरूम कर दिया हो लेकिन विराट कोहली की टीम इंडिया को आस्ट्रेलिया में इतिहास रचने से नहीं रोक पाई। सोमवार को सिडनी टेस्ट के पांचवें दिन जब बारिश के कारण अम्पायर्स ने स्टम्पस का फैसला किया तब इसके साथ ही भारत ने चार टेस्टों की सीरीज पर 2-1 से कब्जा कर लिया। 72 साल और 11 सीरीज के बाद टीम इंडिया पहली बार आस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीती है। 1947 से लगातार आस्ट्रेलिया का दौरा कर रही भारतीय टीम वहां कोई सीरीज नहीं जीत पाई थी। लेकिन विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम ने इतिहास रच दिया। आस्ट्रेलिया की टीम को उन्हीं के घर में हराना कोई साधारण काम नहीं था। पर विराट कोहली की टीम ने यह भी कर दिखाया। ऐतिहासिक जीत के बाद टीम इंडिया के खिलाड़ी अचानक मैदान पर ही अनोखे अंदाज में नाचने लगे। कोहली से जब बाद में प्रेस कांफ्रेंस में पूछा गया तो उन्होंने कहा हमने पुजारा डांस किया था क्योंकि जब पुजारा चलते हैं तो अपना हाथ नहीं हिलाते। ऋषभ पंत ने डांस शुरू किया और हम भी इसमें शामिल हो गए। विराट कोहली ने कहा कि मैं 2011 वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा था, पर तब ऐसी संभावनाएं नहीं उठ रही थीं, जैसी आज हैं। इस लिहाज से यह मेरे लिए बेहद भावनात्मक क्षण है। टीम के कोच रवि शास्त्राr का कहना था कि यह जीत 1983 के विश्व कप और 1985 की क्रिकेट विश्व चैंपियनशिप से भी बड़ी है क्योंकि यह जीत सबसे मुश्किल टेस्ट फॉर्मेट में मिली है। भारतीय टीम आस्ट्रेलियाई ईयर में एक परिपक्व टेस्ट टीम की तरह खेली। उसने अपनी कई बुनियादी गलतियां सुधारीं और चाहे वह बॉलिंग हो, बैटिंग हो या फील्डिंग हो हर विभाग में टीम ने अपनी चमक दिखाई। विराट कोहली ने जरूरत के हिसाब से परिवर्तन किए और उन्होंने जिन खिलाड़ियों को आजमाया उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया। उन्होंने साबित कर दिया कि महेंद्र सिंह धोनी की टक्कर के वह कप्तान हैं। भारतीय गेंदबाजों को अकसर घर में ही शेर कहा जाता है। बाहर उनका कोई खौफ नहीं होता, खासकर तेज गेंदबाजों का। लेकिन इस बार भारत के तेज गेंदबाजों के सामने आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों की कंपकंपी छूटती नजर आई। जसप्रीत बुमराह ने लगातार 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तर से सटीक गेंदबाज की। स्पिनरों में रवींद्र जडेजा ने और मौका मिलने पर कुलदीप यादव ने भी शानदार गेंदबाजी की। सीरीज में 500 रन बनाने वाले इकलौते चेतेश्वर पुजारा मैन ऑफ द मैच, मैन ऑफ द सीरीज बने। इस सीरीज से भारत ने एक विश्व विजयी टेस्ट टीम की झलक दिखाई है और शानदार वापसी करके तमाम आलोचकों का मुंह बंद कर दिया है। हम विराट कोहली और उनकी जाबांज टीम के तमाम खिलाड़ियों, कोच को इस शानदार उपलब्धि पर बधाई देते हैं।

Share it
Top