Top
Home » संपादकीय » दिल्ली में राष्ट्रवाद और रोजगार के मुद्दे पर वोट पड़े

दिल्ली में राष्ट्रवाद और रोजगार के मुद्दे पर वोट पड़े

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:14 May 2019 4:44 PM GMT
Share Post

दिल्ली में रविवार को मतदाताओं ने दोपहर में दिखाया उत्साह, सुबह-शाम रहे सुस्त। वैसे तो दिल्ली में दिनभर वोट बरसा पर 2014 के मुकाबले (65.09 पतिशत) से 2019 में कम (60.27 पतिशत) वोट ही पड़ा। शुरुआती दो घंटे में दिल्ली के 8 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का पयोग किया, दिन चढ़ते थोड़ी बढ़ोतरी हुई और आखिरी घंटे में मतदान में छह फीसदी इजाफा हुआ। रमजान का असर सुबह दिखा। मुस्लिम बहुल इलाकों में असली रौंनक 11 बजे के बाद ही देखने को मिली। चांदनी चौक, मटिया महल और बल्लीमारान में सुबह की वोटिंग में रमजान का असर नजर आया। पॉश इलाकों में मिला-जुला उत्साह दिखा। शालीमार बाग, माडल टॉउन, अशोक विहार समेत कई जगह मतदान केन्द्राsं में दोपहर बाद अच्छी वोटिंग हुई। साउथ दिल्ली में वोटिंग के लिए इस बार भी लोग घरों से नहीं निकले। ज्यादातर इलाकों में सुबह 10 बजे तक 15 से 20 पतिशत वोटिंग हुई। गांव-देहात और बस्तियों वाले इलाकें में दोपहर तक चहल-पहल fिदखी। राजधानी में बिजली, पानी, शिक्षा, महंगाई जैसे मुद्दों पर राष्ट्रवाद और रोजगार का मुद्दा हावी रहा। दिल्ली में हर वर्ग और उम्र के लोगों ने राष्ट्रवाद और रोजगार को ध्यान में रखकर अपने पसंद के उम्मीदवार के पक्ष में मतदान किया। हालांकि कुछ लोगों ने बिजली, पानी, शिक्षा, सरकारी स्कूलों में सुविधाएं व निजी स्कूलों में फीस को ध्यान में रखकर वोट डाला। उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के लोकसभा क्षेत्र पल्ला बख्तावरपुर में मतदान के बाद एक 50 वर्षीय वोटर ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रवाद को ध्यान में रखकर वोट दिया। उन्होंने कहा कि मतदान करते वक्त उनके जहन में सिर्प और सिर्प देश की सुरक्षा का ख्याल रहा। वहीं दक्षिण दिल्ली के एक मतदाता ने वोट डालने के बाद कहा कि हमें यह सरकार हटानी है हर कीमत पर। चांदनी चौक क्षेत्र के दरियागंज में मतदान करने के बाद एक व्यक्ति ने बताया कि उन्होंने रोजगार को ध्यान में रखकर वोट किया है। उन्होंने कहा कि आज चारों तरफ बेरोजगारी है। रेहड़ी-पटरी वालों को भगाया जा रहा है। आखिर यह छोटे कारोबारी जाएं तो जाएं कहां? उन्होंने कहा कि ऐसी सरकार बनाने के लिए मतदान किया है जो सबको रोजगार का अवसर मुहैया करवा सके। यह हमारी सबसे बड़ी जरूरत है। एक मतदाता का कहना था कि देश की तरक्की के लिए मतदान किया है। देश को सुरक्षित रखने के साथ-साथ देश की तरक्की को भी ध्यान में रखें। कुल मिलाकर लगता है कि दिल्ली का वोटर घर से मन बनाकर आया था कि उसने किसको वोट देना है।

-अनिल नरेन्द्र

 सीरिया :  इदिलिब प्रांत में 33 तुर्की सैनिकों की मौत

सीरिया : इदिलिब प्रांत में 33 तुर्की सैनिकों की मौत

दमासकस । सीरिया के इदिलिब प्रांत में हवाई हमलों में तुर्की के 33 सैनिक मारे गए हैं। तुर्की के प्रांत हेते प्रांत के गवर्नर रहमी दोगन ने बताया कि...

 ईरान की उप राष्ट्रपति मसुमेह कोरोना वायरस से पीड़ित

ईरान की उप राष्ट्रपति मसुमेह कोरोना वायरस से पीड़ित

तेहरान । ईरान की उप राष्ट्रपति मसुमेह एब्तेकार भी कोरोना वायरस के ग्रसित हो गई हैं। उनकी सलाहकार फरीबा इब्तिहाज ने ईरान मीडिया से बताया कि मसुमेह का...

 चीन : कोरोनावायरस से मरनेवालों की संख्या 2,788 हुई

चीन : कोरोनावायरस से मरनेवालों की संख्या 2,788 हुई

बीजिंग । चीन में शुक्रवार को कोरोना वायरस से मरनेवालों की संख्या बढ़कर 2,788 हो गई है। चीन की स्टेट हेल्थ कमिटी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि...

 दुनिया भर में फैल रहा जानलेवा कोरोना वायरस : डब्ल्यूएचओ

दुनिया भर में फैल रहा जानलेवा कोरोना वायरस : डब्ल्यूएचओ

लॉस एंजेलिस । विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक डॉ॰ टेडरोस घेबरेएसस ने कहा है कि कोरोना वायरस दुनिया भर में फैल रहा है, यह एक वैश्विक...

 कोरोना वायरस की दहशत के बीच सऊदी अरब ने उमरा तीर्थयात्रियों के प्रवेश पर प्रातिबंध

कोरोना वायरस की दहशत के बीच सऊदी अरब ने उमरा तीर्थयात्रियों के प्रवेश पर प्रातिबंध

रियाद । सऊदी अरब ने गुरुवार को उमरा तीर्थयात्रा और पर्यटन के लिए विदेशियों के प्रवेश पर रोक लगा दिया है। ऐसा चीन के बाहर कोरोना वायरस के मामलों की...

Share it
Top