Top
Home » संपादकीय » योगी के गढ़ में भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर

योगी के गढ़ में भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:15 May 2019 6:39 PM GMT
Share Post

एक साल पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की छोड़ी सीट पर उपचुनाव में झटका खाकर लोकसभा चुनाव के लिए योगी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर में उपचुनाव की हार का बदला लेने के लिए मौजूदा सांसद प्रवीण निषाद को पार्टी में शामिल कराने से लेकर निषाद पार्टी का समर्थन लेने जैसी सभी संभव रणनीतिक दांव चल चुके हैं। इसके बावजूद वह किसी तरह का खतरा नहीं उठाना चाहते, इसलिए गोरखपुर में डेरा डाल दिया है। पूरी रणनीति की खुद ही तैयारी की है। सभी विधानसभा क्षेत्रों में बूथ सम्मेलन कर चुके हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का रोड शो 16 मई की शाम को होना है। उपचुनाव में भाजपा इस संसदीय सीट से जुड़ी पांच में से तीन विधानसभा सीटें कैपियरगंज, गोरखपुर ग्रामीण और सहजनवां हार गई थी। भाजपा और गठबंधन की लड़ाई को त्रिकोणीय बनाने के लिए कांग्रेस संघर्ष करती नजर आ रही है। लड़ाई भाजपा व गठबंधन के बीच है। भाजपा ने फिल्म स्टार रवि किशन को अपना उम्मीदवार बनाया है। पिछला चुनाव कांग्रेस की टिकट पर जौनपुर से रवि किशन लड़े, लेकिन हार गए थे। भाजपा ने उपचुनाव की तरह फिर ब्राह्मण प्रत्याशी पर दांव लगाया है। गठबंधन ने राम भुआल निषाद को खड़ा किया है। मौजूदा सांसद प्रवीण के भाजपा में जाने के बाद सपा ने निषाद को मौका दिया है। पिछला चुनाव वह बसपा से लड़े थे और 1.76 लाख वोट पाए थे। वह पूर्व विधायक और मंत्री रहे हैं। कांग्रेस ने सिविल बार एसोसिएशन गोरखपुर के पूर्व अध्यक्ष और यूपी बार काउंसिल के सदस्य मधु सूदन तिवारी को अपना प्रत्याशी बनाया है। पहली बार कांग्रेस से लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं। जहां तक जातीय गणित का सवाल है गोरखपुर सीट पर निषाद 2.75 लाख, यादव 2.25 लाख, मुस्लिम 2 लाख, एससी 2 लाख, ब्राह्मण 2 लाख, वैश्य 1.30 लाख, सैंथवार 1.40 लाख, अन्य पिछड़े वर्ग 1.50 लाख, कायस्थ 75 हजार और क्षेत्रीय 50 हजार हैं। बता दें कि गोरखपुर लोकसभा सीट पर 10 बार रह चुके हैं गोरक्षपीठ के तीन पीठाधीश्वर। महंत दिग्विजय सिंह 1967 में, महंत अवैद्यनाथ 1970, 1989, 1991, 1996 और योगी आदित्यनाथ 1998 से 2014 तक लगातार 5 बार। इसलिए योगी के लिए अब यह प्रतिष्ठा की लड़ाई बन गई है। खासकर उपचुनाव के बाद।

 कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

नई दिल्ली । कतर के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सोमवार को कोरोना के कारण 3 अन्य लोगों की मौत और 1751 नए संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं।इसके बाद...

 यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

नई दिल्ली। यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक ने चीन के प्रति 'अधिक मजबूत रणनीति' रखने का आह्वान किया है क्योंकि वह एशिया वैश्विक शक्ति के केंद्र के रूप में ...

 रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

नई दिल्ली । रूस में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 8,946 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 353,427 हो गई है।...

 अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को धोखा बताया

अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को 'धोखा' बताया

नई दिल्ली । हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने कहा कि चीन ने अर्ध-स्वायत्त क्षेत्र पर नियंत्रण कड़ा करके शहर को धोखा दिया है।क्रिस पैटन ने टाइम्स ऑफ...

 कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

नई दिल्ली । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कोरोनावायरस संकट शुरू होने के दो महीने बाद पहली बार गोल्फ खेलने के लिये गोल्फ क्लब पहुंचे। ट्रंप का...

Share it
Top