Top
Home » संपादकीय » मुस्लिम महिलाओं और यंग इंडिया ने मोदी को खुलकर वोट दिया

मुस्लिम महिलाओं और यंग इंडिया ने मोदी को खुलकर वोट दिया

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:25 May 2019 5:56 PM GMT
Share Post

लोकसभा चुनाव नतीजों से साबित होता है कि मुस्लिम वोटरों ने भी भाजपा को बड़ी तादाद में वोट दिया। खासकर मुस्लिम महिलाओं ने। दरअसल स्वच्छ भारत अभियान के तहत घर-घर में शौचालय बनाने की जो स्कीम मोदी लाए उससे सबसे ज्यादा लाभ महिलाओं को ही मिला। घर-घर में शौचालय बनाया जाना अभूतपूर्व है। 70 साल में इस बारे में नहीं सोचा गया। महिलाओं को उज्जवला योजना के तहत घर-घर में गैस चूल्हे का इंतजाम करके मोदी ने सभी महिलाओं खासकर ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं पर खासा असर पड़ा। इन कदमों से महिलाओं की कठिन जिन्दगी को आसान बना दिया है। वहीं समीना बेगम बताती हैं कि एक बार में तीन तलाक देने वालों के खिलाफ कानून बनाकर मोदी सरकार ने मुस्लिम महिलाओं को बड़ी सोशल सिक्यूरिटी दी है। इस कारण मुस्लिम महिलाओं का भी उन्हें समर्थन मिला है। ग्रामीण क्षेत्रों में घर बनाने के लिए सरकारी मदद भी एक फैक्टर रही और यह इसलिए भी ज्यादा प्रभावी हुआ कि इन स्कीमों में कोई धर्म-जाति के आधार पर भेदभाव नहीं किया गया। मुस्लिमों के लिए खुशखबरी यह भी है कि 2019 में 26 सांसद जीते हैं। 2014 में यह संख्या 23 थी। मुस्लिम बहुल 92 सीटें हैं जिन पर मुस्लिम मतदाता सीधा असर डालता है। केंद्र में मोदी सरकार की वापसी के लिए तमाम फैक्टर के साथ-साथ पहली बार वोट करने वाले यंग वोटर्स और महिला वोटर भी अहम साबित हुए हैं। महिलाओं और पहली बार वोट करने वाले यंग वोटर्स ने वोट के समीकरण पर खासा प्रभाव डाला और भाजपा को इसका सीधा फायदा मिला। एक तरफ जहां फर्स्ट टाइमर ने राष्ट्रवाद के मुद्दे पर मोदी सरकार का साथ दिया तो वहीं महिलाओं ने जीवन की जद्दोजहद से निजात दिलाने वाली मोदी सरकार की तमाम योजनाओं के कारण भाजपा पर विश्वास जताया। एक्सपर्ट बताते हैं कि नरेंद्र मोदी जब प्रधानमंत्री बने तो सबसे पहले उनके निशाने पर पहली बार वोट डालने वाले युवा और महिलाओं का कल्याण रहा। ऐसे वोटर आमतौर पर राजनीतिक पार्टियों के राडार पर नहीं होते थे। लेकिन मोदी ने यंग इंडिया को सबसे पहले राडार पर लिया और उनसे सीधा सम्पर्प साधा। इसके लिए तकनीक का सहारा भी लिया गया और सोशल मीडिया के जरिये माहौल बनाया। यही कारण है कि राहुल गांधी, अखिलेश यादव और प्रियंका गांधी जैसे युवा चेहरे होने के बावजूद मोदी यंग जेनरेशन और महिलाओं में सबसे लोकप्रिय हुए। बालाकोट और जवाबी कार्रवाई का युवाओं पर खासा असर हुआ। पुलवामा अटैक के बाद एक युवा का कहना था कि प्रधानमंत्री मोदी ने देश को भरोसा दिलाया था कि सैनिकों की शहादत बेकार नहीं जाएगी और वही हुआ। पहली बार युवाओं और महिलाओं खासकर मुस्लिम महिलाओं को इस बात का अहसास हुआ कि वह मोदी के हाथों में सुरक्षित हैं। उन्होंने खुलकर व बढ़कर मोदी को वोट दिया।

-अनिल नरेन्द्र

 चीन : कोरोना वायरस के असर से हजारों कंपनियों पर कर्ज का संकट

चीन : कोरोना वायरस के असर से हजारों कंपनियों पर कर्ज का संकट

बीजिंग । कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच बढ़ते कर्ज संकट ने चीन की कंपनियों को बहुत प्रभावित किया है। चीन की छोटी और मझोली कंपनियां मजदूरों और माल के...

 अमेरिका : ट्रम्प के फिर जीतने के आसार, 49 प्रतिशत लोगों की पसंद बने

अमेरिका : ट्रम्प के फिर जीतने के आसार, 49 प्रतिशत लोगों की पसंद बने

वाशिंगटन । डोनाल्ड ट्रम्प की लोकप्रियता की रेटिंग इस चुनावी वर्ष के महत्वपूर्ण समय में सुधर रही है। इससे व्हाइट हाउस के लिए ट्रम्प के दूसरा कार्यकाल...

 इजराइल का गाजा और सीरिया में जिहादी ठिकानों पर हमला

इजराइल का गाजा और सीरिया में जिहादी ठिकानों पर हमला

येरुसलम । इजरायली सेना ने कहा है कि उसने रॉकेट हमलों के जवाब में गाजा और सीरिया में एक फिलिस्तीनी आतंकवादी समूह के खिलाफ हवाई हमले शुरू किए हैं।...

 चीन में मरनेवालों की संख्या हुई 2663, संक्रमितों की संख्या 77 हजार से अधिक

चीन में मरनेवालों की संख्या हुई 2663, संक्रमितों की संख्या 77 हजार से अधिक

बीजिंग । चीन में कोरोना वायरस से मरनेवालों की संख्या बढ़कर 2663 हो गई है। साथ ही 77,658 मामले सामने आने की पुष्टि हुई है, जबकि 27,200 लोग रिकवर हो...

 राष्ट्रपति भवन में कोविंद और मोदी ने डोनाल्ड ट्रम्प का स्वागत किया, राजघाट पहुंचकर दी महात्‍मा गांधी को दी श्रद्धांजलि

राष्ट्रपति भवन में कोविंद और मोदी ने डोनाल्ड ट्रम्प का स्वागत किया, राजघाट पहुंचकर दी महात्‍मा गांधी को दी श्रद्धांजलि

नई दिल्‍ली। दो दिवसीय दौरे पर आए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का मंगलवार को राष्ट्रपति भवन में जोरदार स्वागत किया गया। उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर भी...

Share it
Top