Top
Home » संपादकीय » प्रधानमंत्री की सुरक्षा बहुत कड़ी और कईं घेरों वाली होती है

प्रधानमंत्री की सुरक्षा बहुत कड़ी और कईं घेरों वाली होती है

👤 Veer Arjun | Updated on:11 Jan 2022 5:00 AM GMT

प्रधानमंत्री की सुरक्षा बहुत कड़ी और कईं घेरों वाली होती है

Share Post

—अनिल नरेन्द्र

भारत के प्राधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर आजकल सियासी घमासान छिड़ा हुआ है। पंजाब सरकार कठघरे में खड़ी है। बता दें कि प्राधानमंत्री की सुरक्षा बहुत कड़ी और कईं घेरों वाली है। इसका प्रामुख दारोमदार एसपीजी पर होता है। अन्य एजेंसियों का सहयोग मिलता है। इनमें एनएसजी कमांडो, पुलिस, अर्धसैनिक बल की टुकड़ी और वेंद्र व राज्य की खुफिया एजेंसियों को भी शामिल किया जाता है। प्राधानमंत्री के काफिले में दो बख्तरबंद बीएमडब्ल्यू 7 सीरीज सेडान, छह बीएमडब्ल्यू एक्स 5 और एक मर्सिडीज बेंज एम्बुलेंस के साथ एक दर्जन से अधिक वाहन मौजूद होते हैं। इन सबके अलावा एक टाटा सफारी जैमर भी काफिले के साथ चलती है।

प्राधानमंत्री के काफिले में सबसे आगे और पीछे पुलिस के सुरक्षाकर्मियों की गािड़यां होती हैं। बाईं और दाईं ओर दो और वाहन होते हैं और बीच में प्राधानमंत्री का बुलैटप्राूफ वाहन होता है। रूट का प्राोटोकॉल भी तय है। हमेशा कम से कम दो रूट तय होते हैं। किसी को रूट की पहले जानकारी नहीं होती। अंतिम समय पर एसपीजी रूट तय करती है। किसी भी समय एसपीजी रूट बदल सकती है। एसपीजी और राज्य पुलिस में कोऑर्डिनेशन रहता है। राज्य पुलिस से रूट क्लियरेंस मांगी जाती है। पूरा रूट पहले ही साफ किया जाता है। प्राधानमंत्री कहीं भी जाते हैं, एसपीजी के सटीक निशानेबाजों को हर कदम पर तैनात किया जाता है। यह शूटर एक सैवेंड के अंदर आतंकियों को मार गिराने में सक्षम होते हैं। इन जवानों को अमेरिका की सीव््रोट सर्विस की गाइडलाइंस के मुताबिक ट्रेनिग दी जाती है। हमलावरों को गुमराह करने के लिए काफिले में प्राधानमंत्री के वाहन के समान दो डमी कारें शामिल होती हैं। जैमर वाहन के ऊपर कईं एंटीना होते हैं, जो सड़कों के दोनों ओर रखे गए बमों को 100 मीटर की दूरी पर डिफ्यूज करने में सक्षम होते हैं। इन सभी कारों पर एनएसजी के सटीक निशानेबाजों का कब्जा होता है। सुरक्षा के उद्देश्य से प्राधानमंत्री के साथ लगभग 100 लोगों का एक दल होता है। जब प्राधानमंत्री चलते हैं तब भी वह वदा के साथ सिविल ड्रेस में एनएसजी के कमांडो से घिरे होते हैं। इसलिए प्राधानमंत्री तक किसी भी आतंकी का पहुंचना लगभग असंभव है जब तक कि वीवीआईंपी खुद न सुरक्षा घेरे से बाहर निकलें।

Share it
Top