Top
Home » संपादकीय » चीनी सरकार के खिलाफ सैनिकों में गुस्सा, विद्रोह की स्थिति

चीनी सरकार के खिलाफ सैनिकों में गुस्सा, विद्रोह की स्थिति

👤 Veer Arjun | Updated on:4 July 2020 9:51 AM GMT

चीनी सरकार के खिलाफ सैनिकों में गुस्सा, विद्रोह की स्थिति

Share Post

-अन‍िल नरेन्‍द्र

लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों के साथ उलझना चीन की कम्युनिस्ट सरकार के लिए बहुत भारी पड़ रहा है। भारत ने जहां उसके खिलाफ आर्थिक मोच्रेबंदी शुरू कर दी है, वहीं उसे अपने देश के लोगों को भी गलवान घाटी की झड़प पर जवाब देते नहीं बन रहा है। सत्तारूढ़ चाइनीज कम्युनिस्ट पाटा (सीसीपी) सच्चाईं छिपा रही है, जिसमें पीपुल्स लिबरेशन आमा (पीएलए) के पूर्व दिग्गजों और मौजूदा जवानों के बीच इस कदर नाराजगी बढ़ती जा रही है कि वो कभी भी सरकार के खिलाफ सशस्त्र विद्रोह कर सकते हैं। यह कहना चीन के एक विद्रोही नेता और सीसीपी के एक पूर्व नेता के पुत्र जियानली यांग का है। सिटीजन पॉवर इनिशिएटिव फॉर चाइना नामक संगठन के संस्थापक व अध्यक्ष यांग ने वाशिंगटन पोस्ट में प्राकाशित अपने लेख में कहा है कि बीजिंग को डर है कि अगर वह यह मान लेता है कि विरोधी से ज्यादा उसके अपने सैनिक मारे गए थे तो देश में अशांति पैल सकती है और सीसीपी की सत्ता भी दांव पर लग सकती है।

यांग ने लिखा है—सीसीपी की सरकार के लिए पीएलए ने अब तक एक मजबूत स्तम्भ की तरह काम किया है। अगर पीएलए के मौजूदा सैनिकों की भावनाएं आहत होती हैं और वह लाखों दिग्गजों (इनमें पीएलए के वो सदस्य शामिल हैं जो शी से नाराज हैं.. जिनमें पीएलए को व्यवसायिक गतिविधियों से अलग करने की शी की मुहिम के विरोधी हैं) के साथ आ जाते हैं तो शी के नेतृत्व को मजबूती के साथ चुनौती दे सकते हैं। उन्होंने आगे लिखा है कि सीसीपी नेतृत्व सरकार के खिलाफ पूर्व सैनिकों की सामूहिक और सशस्त्र कार्रवाईं की क्षमता को हल्के में लेने की गलती नहीं कर सकता। दमनात्मक कार्रवाईं और नौकरशाही के उपायों के बावजूद सेना के पूर्व दिग्गजों का विरोध बढ़ रहा है। सीसीपी के डर को स्पष्ट करने के लिए यांग गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुईं हिसक झड़प का उदाहरण देते हैं। उन्होंने कहा कि चीनी विदेश मंत्रालय के प्रावक्ता झाओ लिजियान से जब पूछा गया कि इस झड़प में कितने सैनिक मारे गए तो उन्होंने साफ कह दिया कि इस बारे में उनके पास कोईं जानकारी नहीं है। अगले दिन जब उन्हें भारतीय मीडिया की खबरों का हवाला दिया जिसमें चीन के 40 सैनिकों से ज्यादा के मारे जाने की बात थी तो उन्होंने इसे गलत सूचना करार दे दिया। यांग लिखते हैं—चीन ने यह नहीं माना कि उसके कितने सैनिक मारे गए? जबकि भारत ने अपने सैनिकों के शहीद होने की बात सार्वजनिक रूप से स्वीकार की व सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया। गलवान में मारे गए चीनी सैनिकों की मरने वालों की संख्या बताना तो दूर रहा उनके शव भी परिजनों को नहीं लौटाए गए और न ही उनका अंतिम संस्कार हो सका।

Share it
Top