Top
Home » संपादकीय » हिटलर की तरह चीन भी कईं मोच्रे खोलने में लगा है

हिटलर की तरह चीन भी कईं मोच्रे खोलने में लगा है

👤 Veer Arjun | Updated on:8 July 2020 11:22 AM GMT

हिटलर की तरह चीन भी कईं मोच्रे खोलने में लगा है

Share Post

-अनिल नरेन्‍द्र

भारत-चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर पांच मईं से जारी गतिरोध अब भी बरकरार है। हालांकि अब तक भारत-चीन कमांडर स्तर पर तीन दौर की वार्ता सम्पन्न हो चुकी है। यह वार्ता पूवा लद्दाख में विभिन्न स्थानों पर चीन के अतिव््रामण पर हटने के तौर-तरीकों को तय करने के उद्देश्य को लेकर आयोजित की गईं थी। तीसरे दौर की वार्ता में टकराव वाले स्थानों से सेना घटाने के मुद्दे पर वुछ शर्ते तय की गईं थीं। भारत से 14 कॉप्र्स कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरमिदर सिह, जबकि चीन की तरफ से तिब्बत मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट मेजर जनरल लियुलिन शामिल हुए।

चीन-भारत के बीच सहमति बनने के बाद भी पैंगोंग त्सो से पीछे नहीं हटा चीन। यही नहीं कईं और स्थानों पर उसने अपनी सेनाएं और आगे बढ़ा लीं, पक्के निर्माण करने में लगा हुआ है। उपग्राह की तस्वीरों ने चीन की पोल खोल दी है। तस्वीरों में यह बात भी साफ होती है कि छह जून को बनी सहमति के बाद भी वह एलएसी पर निर्माण करता रहा है। सैटेलाइट वंपनी मैक्सर टेक्नोलॉजी द्वारा जारी तस्वीरों से स्पष्ट है कि चीन द्वारा गलवान घाटी के निकट उस क्षेत्र में लगातार निर्माण किए जा रहे हैं, जिस पर भारत का दावा है। यह निर्माण 22 मईं के बाद तेजी से किए गए। इस बीच छह जून को दोनों देशों के बीच पूर्व की स्थिति में लौटने पर सहमति बनी, लेकिन इसके बावजूद गलवान घाटी में चीन का निर्माण जारी रहा। मैक्सर की तरफ से 23 जून को जो तस्वीरें जारी की गईं हैं, उनमें गलवान नदी के तट पर बड़े पैमाने पर निर्माण दिखाया गया है जबकि 22 मईं में निर्माण शुरू होने के संकेत हैं।

अमेरिका के विदेश मंत्री का कहना है कि यूरोप से फौजें हटाकर एशिया में खासकर भारत के पक्ष में चीन पर अंवुश लगाने के लिए तैनात की जा सकती हैं, अच्छी खबर है। साउथ चाइना समुद्र में पहले ही अमेरिकी बेड़े तैनात हैं। अब देखना यह है कि रूस क्या भूमिका रखता है—खासकर जब भारत के अधिकांश हथियार रूसी हैं। चीन की विस्तारवादी नीति ने उन दोस्तों को भी नहीं छोड़ा जिन्होंने अमेरिका या भारत का पुराना साथ छोड़ चीन का दामन थामा था। जैसे फिलीपींस व नेपाल। मलेशिया, वियतनाम, इंडोनेशिया व ताइवान पहले से ही इसके शिकार हैं। चीनी नेतृत्व यह भी नहीं समझ पा रहा है कि एक साथ कईं मोच्रे खोलना विश्वयुद्ध का आगाज कर सकता है और वह भी तब जब दुनिया कोरोना से जूझ रही हो। बहरहाल आज कोरोना से वैश्विक अस्तित्व का संकट है। इसके दबाव में व्यक्ति, समूह व राष्ट्र गलत पैसले ले रहे हैं। जिस महामारी के छह महीने बाद भी वैक्सीन तो दूर, दवा भी नहीं बन सकी उससे लड़ने की जगह सीमा पर तनाव पैदा करना और वह भी आधा दर्जन मुल्कों के साथ, चीन की दहशत का दृाोतक है। वुछ ऐसा ही जैसा हिटलर ने द्वितीय विश्वयुद्ध में कईं मोच्रे खोलकर किया था। देखना होगा कि 3500 साल की मानव सयता के इतिहास से आज के मनुष्य ने क्या सबक लिया?

Share it
Top