Top
Home » संपादकीय » जो सच बोलता है उसे देशद्रोही और गद्दार कहा जाता है

जो सच बोलता है उसे देशद्रोही और गद्दार कहा जाता है

👤 Veer Arjun | Updated on:9 Feb 2021 8:49 AM GMT

जो सच बोलता है उसे देशद्रोही और गद्दार कहा जाता है

Share Post

-अनिल नरेन्द्र

शिवसेना सांसद संजय राउत ने शुक्रवार को रिपब्लिक टीवी प्रामुख अर्नब गोस्वामी का मामला संसद में उठाया। संजय राउत ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद धन्यवाद प्रास्ताव पर बोलते हुए मामला उठाया। राउत ने राज्यसभा में वेंद्र सरकार पर सीधा हमला बोल दिया। राउत ने कहा कि धर्मेद्र प्राधान कह रहे हैं कि सच सुना करो उससे मोक्ष प्राप्ति होती है।

हम तो छह साल से सच सुन रहे हैं और झूठ को भी सच मान रहे हैं। लेकिन आज जो देश में माहौल है उसमें जो सच बोलता है उसे गद्दार और देशद्रोही कहा जाता है। जो सरकार से सवाल पूछता है उस पर देशद्रोह का मुकदमा लगा दिया जाता है। हमारे सदन के साथी संजय सिह पर देशद्रोह का मुकदमा है। जाने-माने पत्रकार राजदीप सरदेसाईं, जिसे सरकार ने पद्मश्री दिया है उस पर भी देशद्रोह का मुकदमा लगा दिया है। शशि थरूर, जिन्होंने यूएन में भारत के लिए काम किया, उन पर भी देशद्रोह का मुकदमा लगा दिया गया है। सिघु बॉर्डर पर रिपोर्टिग करने वाले पत्रकारों के साथ भी ऐसा ही किया गया है। संजय राउत ने कहा—हमारे कानून की किताब में आईंपीसी की सारी धाराएं खत्म कर दी गईं हैं और केवल देशद्रोह का कानून रखा गया है। मोदी को प्राचंड बहुमत मिला है। हम इस बात को मानते हैं। लेकिन बहुमत अहंकार से नहीं चलता है, बहुमत बड़ा चंचल होता है। हमारे मराठी के संत तुकाराम ने कहा है कि आपका जो निदक है उसे आसपास रखना चाहिए। लेकिन आज के वक्त में जो भी सरकार की आलोचना करता है उसे बदनाम कर दिया जाता है। 26 जनवरी को हमारे तिरंगे का अपमान हुआ और हमारे प्राधानमंत्री दुखी हुए। पूरा देश दुखी हो गया। लेकिन लाल किले पर तिरंगे का अपमान करने वाला किसका आदमी है? इस बात पर यह चुप रहते हैं। दीप सिद्धू अभी तक क्यों पकड़ा नहीं गया? 200 से ज्यादा किसानों को जेल में बंद कर दिया गया है।

हमारे देश में अभी देशप्रोमी केवल अर्नब गोस्वामी हैं, जिसकी वजह से एक निदरेष आदमी को महाराष्ट्र में आत्महत्या करनी पड़ी। वंगना रानौत देशप्रोमी हैं। अर्नब गोस्वामी ने बालाकोट की जानकारी सबको पहले ही बता दी और उसे सरकार की सुरक्षा मिली हुईं है। यही अर्नब गोस्वामी ने हमारे मंत्री प्राकाश जावड़ेकर के बारे में क्या नहीं लिखा है? प्राकाश के बारे में उसने जिस भाषा का इस्तेमाल किया है उस पर हम सबको शर्म आनी चाहिए। राउत ने कहा कि जब सिखों ने मुगलों से लड़ाईं की तो उन्हें देशभक्त कहा गया, अंग्रोजों से लड़ा तो देशभक्त कहा गया और अब अपने हकों के लिए लड़ रहे हैं तो उन्हें खालिस्तानी कहा जा रहा है। किसान आंदोलन के समर्थन में 75 पूर्व नौकरशाहों की चिट्ठी। पूर्व नौकरशाहों के एक समूह ने शुव््रावार को एक खुले पत्र में कहा कि नए वृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रादर्शन के प्राति वेंद्र सरकार का रवैया शुरुआत से ही प्रातिवूल और टकराव भरा है। जनसत्ता अखबार के मुताबिक दिल्ली के पूर्व एलजी नजीब जंग समेत 75 नौकरशाहों की ओर से हस्ताक्षरित पत्र में कहा गया है कि गैर-राजनीतिक किसानों को ऐसे गैर-जिम्मेदार प्रातिद्वंद्वी के रूप में देखा जा रहा है जिनका उपहास किया जाना चाहिए।

जिनकी छवि खराब की जानी चाहिए और इन्हें हटाया जाना चाहिए। यह सभी लोग कांस्टीट्यूशनल वंडक्ट ग्राुप के हिस्सा हैं। पत्र में कहा गया है कि ऐसे रवैये से कभी कोईं समाधान नहीं निकलेगा। उन्होंने कहा कि अगर भारत सरकार वाकईं मैत्रीपूर्ण समाधान चाहती है तो उसे आधे मन से कदम उठाने के बजाय कानूनों को वापस ले लेना चाहिए।

Share it
Top