Top
Home » संपादकीय » केंद्र के प्रस्ताव से दिल्ली सरकार से टकराव बढ़ेगा

केंद्र के प्रस्ताव से दिल्ली सरकार से टकराव बढ़ेगा

👤 Veer Arjun | Updated on:9 Feb 2021 8:51 AM GMT

केंद्र के प्रस्ताव से दिल्ली सरकार से टकराव बढ़ेगा

Share Post

-अनिल नरेन्द्र

जब से दिल्ली में आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार बनी है अधिकारों को लेकर आए दिन टकराव की स्थिति बनी रहती है। उपराज्यपाल के बहाने वेंद्र और राज्य सरकार के अधिकारों का मामला जब बहुत बढ़ गया तो सुप्रीम कोर्ट को हस्तक्षेप करना पड़ा और कुछ समय तक फिर शांति हो गईं। लेकिन ऐसा वुछ नहीं हुआ जिससे अधिकारों का स्पष्ट बंटवारा हो। यही वजह है कि वुछ अंतराल के बाद कोईं ऐसा मुद्दा या बिन्दु सामने आ जाता है, जिस पर दिल्ली और वेंद्र सरकार के बीच खींचतान के तेवर तीखे दिखने लगते हैं।

गत बुधवार को वेंद्र सरकार ने जिस तरह उपराज्यपाल को ज्यादा शक्तियां देने के एक प्रास्ताव को कैैबिनेट ने मंजूरी दी है, उससे साफ है कि दिल्ली सरकार के बीच अधिकारों को लेकर चल रही जंग के बीच अब वेंद्रीय वैबिनेट ने एक प्रास्ताव को मंजूरी दी है, जिससे एलजी का अधिकार क्षेत्र और बढ़ेगा। प्रास्तावित विधेयक में एलजी को दिल्ली सरकार को तय सीमा में विधायी व प्राशासनिक प्रास्ताव 15 दिन पहले भेजना होगा। ऐसे मुद्दे जिस पर एलजी और दिल्ली सरकार के विचार एक जैसे नहीं होंगे, उसे आखिरी मंजूरी के लिए राष्ट्रपति के पास भेजने का प्रावधान तो है ही, नए प्रास्ताव में यह कहा गया है कि जब तक राष्ट्रपति पैसला नहीं लेते हैं, एलजी को पैसला लेने का अधिकार होगा। बशत्रे वह मामला ऐसा हो, जिस पर तत्काल पैसला करना जरूरी हो। सामान्य मामलों में एलजी को यह अधिकार नहीं होगा। यह प्रावधान इसलिए अहम होगा, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के हालिया पैसले में कहा गया था कि दिल्ली सरकार को हर मामले में एलजी से संस्तुति लेना जरूरी नहीं है, बल्कि उन्हें जानकारी दी जा सकती है। इस पैसले के बाद से एलजी की ताकत वुछ हद तक कमजोर हुईं थी। एलजी की शक्तियां बढ़ाने को लेकर वेंद्र सरकार की ओर से औपचारिक घोषणा नहीं की गईं है, लेकिन संसद के इसी सत्र में यह बिल पेश हो सकता है, जिस पर सत्तापक्ष व विपक्ष में रार बढ़ सकती है। हालांकि सूत्रों का कहना है कि इन संशोधनों से गवर्नेस में सुधार हो सकता है। अधिकारों के स्पष्ट विवरण को लेकर सुप्रीम कोर्ट के जनवरी 2019 में आए पैसले के बाद स्थितियों को साफ करने की जरूरत पड़ी है। जाहिर है कि इस ताजा प्रास्ताव से दिल्ली सरकार की ओर से सवाल उठना एक स्वाभाविक प्रतिक्रिया है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री ने आरोप लगाया है कि इस संशोधन के जरिये दिल्ली में जनता द्वारा चुनी हुईं सरकार के अधिकार छीनकर उपराज्यपाल को देने का काम किया गया है और अब दिल्ली सरकार के पास पैसले लेने की शक्ति नहीं रहेगी।

सवाल है कि अगर दिल्ली सरकार का यह आरोप सही है कि वेंद्र का यह पैसला लोकतंत्र और संविधान के खिलाफ किया गया है तो यह चिन्ता की बात है। क्या वेंद्रीय मंत्रिमंडल इस संशोधन के जरिये सचमुच दिल्ली सरकार के अधिकारों को सीमित करना चाहती है? निाित तौर पर दिल्ली में लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुईं सरकार है और अपनी सीमा में सरकार को काम करने का अधिकार होना चाहिए। लेकिन इसके साथ ही यह भी तथ्य हैं कि दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी भी है और इस नाते वेंद्र को संभवत: नीतिगत स्तर पर कईं मामलों का ध्यान रखने की जरूरत महसूस होती होगी। कहा जा रहा है कि ताजा संशोधन प्राशासन को बेहतर करने के साथ-साथ दिल्ली सरकार और एलजी के बीच टकराव के हालात कम करने के लिए किए जा रहे हैं। लेकिन विधायी और प्राशासनिक प्रास्ताव पर आगे कदम बढ़ाने के लिए एलजी के पास भेजने की जो शर्त रखी गईं है, क्या उससे आने वाले दिनों में वेंद्र और दिल्ली सरकार के बीच खींचतान और टकराव की स्थितियां और नहीं बढ़ेंगी? विधायी और प्राशासनिक कार्यो में अगर कोईं टकराव या गतिरोध पैदा होता है तो इससे किसी का हित नहीं होगा बल्कि टकराव जरूर होगा।

Share it
Top