Top
Home » संपादकीय » पठानकोट आमा कैंप पर आतंकी हमला

पठानकोट आमा कैंप पर आतंकी हमला

👤 Veer Arjun | Updated on:26 Nov 2021 5:21 AM GMT

पठानकोट आमा कैंप पर आतंकी हमला

Share Post

-अनिल नरेन्द्र

पंजाब के पठानकोट आमा कैंप में सोमवार तड़के ग्रोनेड से हमला किया गया। ग्रोनेड कैंप के त्रिवेणी गेट पर पेंका गया। हालांकि हमले में कोईं जानमाल का नुकसान नहीं हुआ, लेकिन पठानकोट में हाईं अलर्ट है। इसी बीच एक लावारिस आईं-20 कार भी बरामद हुईं है जिसके आगे-पीछे की नम्बर प्लेट को शातिर तरीके से बदला गया है। कार के आगे पीबी10जीजे 6781 और पीछे पीबी10जीएल6781 लगाया गया है। इसमें सिर्प बीच के जी के बाद और दो में ही अंतर रखा गया है। एसएसपी सुविदर लांबा ने संतरी से मिली जानकारी के आधार पर बताया कि रात को कैंप के सामने एक बाइक गुजरी थी। उस पर सवार लोगों ने गेट की तरफ ग्रोनेड पेंका, जिसमें ब्लास्ट हो गया। इलाके को तुरन्त सील करके चप्पे-चप्पे को खंगाला जा रहा है। बता दें कि पंजाब का पठानकोट जिला भारतीय सेना के सर्वाधिक ठिकानों में से एक है। यहां पर भारतीय वायुसेना का स्टेशन, सेना का गोला-बारूद डिपो और दो बख्तरबंद ब्रिगेड व बख्तरबंद इकाइयां हैं।

पठानकोट में वायुसेना के एयर बेस पर दो जनवरी 2016 को आतंकी हमला हुआ था। भारतीय सेना की वदा में आए हथियारबंद आतंकियों ने इसे अंजाम दिया था। इसमें सात जवान शहीद हुए थे। सभी आतंकी भारत- पाकिस्तान बॉर्डर पर रावी नदी के रास्ते आए थे। भारतीय इलाके में पहुंचकर आतंकियों ने वुछ गािड़यों को हाइजैक किया था और पठानकोट एयर बेस पहुंचे थे। दो दिन पहले ही फिरोजपुर जिले की तहसील जीरा के गांव सेखा से टिफिन बम मिला था। बम को टिफिन में बंद कर जमीन में दबाया गया था। पौधारोपण के दौरान यह बम मिला था। इससे पहले भी पंजाब में आधा दर्जन से ज्यादा टिफिन बम और हैंड ग्रोनेड मिल चुके हैं। यही नहीं पुलिस ने ऐसे तीन मॉड्यूल का भंडाफोड़ भी किया है, जिसमें लोग पैसे के लिए आतंकी वारदात करने को तैयार हुए हैं।

सुरक्षा से जुड़े सूत्रों का कहना है कि इस वारदात को पाकिस्तान के आतंकी संगठनों के ओवरग्राउंड वर्वर भी अंजाम दे सकते हैं। इस वारदात के पीछे खालिस्तान समर्थक आतंकी अथवा कश्मीरी आतंकी हो सकते हैं। इस वारदात को पंजाब में होने वाले चुनाव से पहले आतंकी हिसा को एक संकेत के तौर पर देखा जाना चाहिए और इससे सटे जम्मू-कश्मीर में भी आतंकी संगठन आने वाले दिनों में आतंकी साजिशों को अंजाम दे सकते हैं। पाकिस्तान की ओर से लंबे अरसे से पंजाब के पठानकोट तथा जम्मू-कश्मीर में आतंकी वारदातों को अंजाम देने की लगातार साजिशें हो रही हैं। इस प्राकार के लगातार इनपुट मिल रहे हैं कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईंएसआईं अपने पालतू आतंकी संगठनों जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा, अल बदर तथा हिजबुल मुजाहिद्दीन के जरिये सुरक्षा बलों के प्रातिष्ठानों पर बड़े हमलों की कोशिश कर रहे हैं, घाटी का माहौल खराब करने के लिए वहां हाईं ब्रिड आतंकियों के जरिये टारगेट किलिग की जा रही है।

याद हो कि पाकिस्तान की ओर से पिछले करीब डेढ़-दो साल से ड्रोन हमले लगातार पंजाब और जम्मू-कश्मीर में किए जा रहे हैं। इन सब घटनाओं से साफ जाहिर होता है कि पाकिस्तान पंजाब और जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ाने के लिए तमाम तरह के हथवंडे अपनाने में लगा है। पठानकोट की घटना से सुरक्षाकर्मियों के लिए चुनौतियां और बढ़ गईं हैं।

Share it
Top