Home » शिक्षा » चांद पर पहुंचने को बेताब है ISRO, सिवन बोले- चांद पर कराकर रहेंगे सुरक्षित लैंडिंग

चांद पर पहुंचने को बेताब है ISRO, सिवन बोले- चांद पर कराकर रहेंगे सुरक्षित लैंडिंग

👤 manish kumar | Updated on:3 Nov 2019 6:47 AM GMT

चांद पर पहुंचने को बेताब है ISRO, सिवन बोले- चांद पर कराकर रहेंगे सुरक्षित लैंडिंग

Share Post

नई दिल्‍ली। चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग नहीं हो पाने के बावजूद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने हार नहीं मानी है. इसरो प्रमुख फिर से कोशिश करने की बात कही है.

ISRO के अध्यक्ष डॉ के. सिवन ने कहा कि चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम को सफलतापूर्वक चांद पर नहीं उतार पाने से वैज्ञानिकों का हौसला कम नहीं हुआ है. उन्होंने आश्वासन दिया कि भविष्य में एक दिन इसरो चंद्रमा पर भारत में बने विमान की सुरक्षित लैंडिंग कराकर रहेगा.

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) के 50वें दीक्षांत समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए डॉ सिवन ने कहा कि आप सभी चंद्रयान-2 मिशन से परिचित हैं.

उन्होंने कहा कि असल में इसके तकनीकी पहलू की बात करें तो यह बात बिल्कुल सही है कि हम विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग नहीं करा पाए. हालांकि चांद की सतह से 300 मीटर दूर तक इसका पूरा सिस्टम सही काम कर रहा था.

IIT-बॉम्बे के पूर्व छात्र सिवन ने अपने निजी अनुभवों का हवाला देते हुए कहा कि IIT भारत में तकनीकी शिक्षा के बेहद महत्वपूर्ण केंद्र हैं. उन्होंने कहा कि जब मैंने तीन दशक से अधिक समय पहले स्नातक किया था, तो नौकरी की स्थिति आज जैसी नहीं थी. उस समय विशेषज्ञता के क्षेत्र में करियर के सीमित विकल्प थे लेकिन आज पर्याप्त विकल्प मौजूद हैं.

वैश्विक अर्थव्यवस्था के दौर में एक अतिरिक्त अस्थिरता, अनिश्चितता, जटिलता और अस्पष्टता बढ़ी है. हालांकि आप सभी पुरानी पीढ़ी की तुलना में हालात से निपटने में सक्षम हैं. फिर भी आपको अपने दृष्टिकोण में व्यावहारिक होना होगा और पुरानी पीढ़ी के अनुभव से सीखना होगा.

IIT दिल्ली में इसरो की मदद से स्पेस टेक्नोलॉजी सेल स्थापित करने के लिए एक समझौता भी हुआ. इसरो के अध्यक्ष डॉ के. सिवन और IIT दिल्ली के निदेशक प्रो. वी. रामगोपाल राव ने आज इस संबंध में एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए. यह सेल अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी डोमेन में केंद्रित अनुसंधान परियोजनाओं को पूरा करने के लिए काम करेगा.

दीक्षांत समारोह में 1217 स्नातकोत्तर (PG) और 825 स्नातक (UG) इंजीनियरिंग विद्यार्थियों को डिग्रियां प्रदान की गई. प्रेसीडेंट गोल्ड मेडल, कंप्यूटर साइंस व इंजीनियरिंग (बीटेक) के छात्र के. प्रणीत, डायरेक्टर्स गोल्ड मेडल बायोकेमिकल की छात्रा मल्लिका सिंह और डॉ शंकर दयाल शर्मा गोल्ड मेडल केमिकल इंजीनियरिंग की छात्रा हिमाक्क्षी बारसीवाल को दिया गया.

 कल्याणकारी नीतियां लागू करने वाली सरकार बनाएंगे गोटबाया

कल्याणकारी नीतियां लागू करने वाली सरकार बनाएंगे गोटबाया

कोलंबो । राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद गोटबाया राजपक्षे ने सोमवार को कहा कि वह लोकहित की नीतियों को लागू करने वाली सरकार का गठन करेंगे, ताकि देश...

 ट्रम्प को राष्ट्रपति चुनाव में हराना आसान नहीं

ट्रम्प को राष्ट्रपति चुनाव में हराना आसान नहीं

लॉस एंजेल्स । अमेरिकी प्रांत लूजियाना में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के रिपब्लिकन उम्मीदवार एडी रिसपोने की लगातार दूसरी बार हार और डेमोक्रेट उम्मीदवार...

 श्रीलंका के अगले राष्ट्रपति होंगे गोताबाया राजपक्षे

श्रीलंका के अगले राष्ट्रपति होंगे गोताबाया राजपक्षे

कोलंबो । श्रीलंका के पूर्व रक्षा मंत्री एवं श्रीलंका पीपुल्स फ्रंट के उम्मीदवार गोताबाया राजपक्षे देश के अगले राष्ट्रपति होंगे। श्रीलंका में...

 श्रीलंका में राष्ट्रपति उम्मीदवार गोतबाया राजपाक्षे मतगणना में आगे

श्रीलंका में राष्ट्रपति उम्मीदवार गोतबाया राजपाक्षे मतगणना में आगे

कोलंबो । ईस्टर पर हुए आतंकी हमले के बाद श्रीलंका में हुए राष्ट्रपति चुनाव के लिए शनिवार को मतदान हुआ। मतों की गिनती रविवार सुबह शुरू हुई। प्राप्त...

 महाभियोग : ट्रंप ने कहा- मैने कुछ गलत नहीं किया

महाभियोग : ट्रंप ने कहा- मैने कुछ गलत नहीं किया

वाशिंगटन । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने विरुद्ध चल रही महाभियोग की कार्रवाई को देश के इतिहास में दोहरा मापदंड अपनाने वाला बताते हुए...

Share it
Top