Home » हरियाणा » श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव को मनाने के लिए विश्वविद्यालय तैयार करे शैड़यूल ः ढेसी

श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव को मनाने के लिए विश्वविद्यालय तैयार करे शैड़यूल ः ढेसी

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:30 April 2019 2:43 PM GMT
Share Post

राजकुमार कौशिक

थानेसर। हरियाणा के मुख्य सचिव डीएस ढेसी ने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी महाराज के 550वें प्रकाशोत्सव को लेकर प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों और शिक्षण संस्थानों में 12 नवम्बर 2019 तक अलग-अलग कार्पामों का आयोजन किया जाएगा। इन कार्पामों के आयोजन को लेकर सभी विश्वविद्यालय और शिक्षा विभाग के अधिकारी प्रकाशोत्सव के कार्पामों का शैडयूल तैयार करेंगे और इस शैडयूल को 15 मई तक सूचना, जन सम्पर्प एवं भाषा विभाग के पास भिजवाना सुनिश्चित करेंगे।

मुख्य सचिव डीएस ढेसी मंगलवार को एनआईसी कार्यालय में वीडियो कान्प्रेंसिंग के जरिए प्रदेश भर के उपायुक्तों और कुलपतियों को सम्बोधित कर रहे थे। इससे पहले सूचना, जन सम्पर्प एवं भाषा विभाग के महानिदेशक समीर पाल सरो ने 23 नवम्बर 2018 से 12 नवम्बर 2019 तक के प्रस्तावित कार्पामों पर विस्तृत प्रकाश डाला और सभी विश्वविद्यालयों को श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव और जीवन दर्शन को लेकर 19 बिंदूओं पर कार्पामों का आयोजन करने के सुझाव भी रखे। मुख्य सचिव डीएस ढेसी ने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव पर 1 जून से कार्पामों का आयोजन शुरु किया जाएगा। इसके लिए सभी विश्वविद्यालयों और शिक्षा विभाग के अधिकारियों को आपसी तालमेल के साथ काम करना होगा। इतना ही नहीं स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ परफोर्मिंग एंड विजुयल आर्ट रोहतक व वल्र्ड यूनिवर्सिटी ऑफ डिजाईन को इस प्रकाशोत्सव पर कुछ नया करने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस प्रकाशोत्सव को लेकर शैक्षणिक गतिविधियों के अंतर्गत सैमिनार व अन्य कार्पाम आयोजित किए जा सकते है। इस कड़ी के तहत करनाल में एक उच्चस्तर का कार्पाम आयोजित किया जा चुका है। इसके अलावा सभी विश्वविद्यालय अलग-अलग विषय पर कार्पाम और सैमिनार का कैलेंडर तैयार कर सकते है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों के संगीत विभाग शब्द कीर्तन जैसी प्रतियोगिताओं का भी आयोजन कर सकते है। लेकिन सभी विश्वविद्यालयों को इस विषय पर फोकस करना होगा कि कार्पामों का रिपिटेशन बहुत कम हो। विश्वविद्यालयों के नए शैक्षणिक सत्र के बाद सभी विश्वविद्यालय विद्यार्थियों पर पूरा फोकस रखेंगे और प्रकाशोत्सव के कार्पामों के साथ जोडने का प्रयास करेंगे। इस वीडियो कान्प्रेंसिंग के जरिए प्रदेश भर के सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से बातचीत की और सुझाव भी आमंत्रित किए। इस दौरान सभी विश्वविद्यालयों की तरफ से प्रकाशोत्सव को लेकर किए गए कार्पामों की रिपोर्ट प्रस्तुत की गई और प्रकाशोत्सव को लेकर होने वाले कार्पामों पर भी प्रकाश डाला। इस बीच कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलपति डा. केसी शर्मा द्वारा सुझाव दिया गया कि सितम्बर माह में कार्पाम का आयोजन किया जाएगा और सैमिनार के लिए विभिन्न राज्यों और यूके, कनाडा, यूएसए सहित 5 देशों से विषय विशेषज्ञों को आमंत्रित किया जाएगा। इसके अलावा रोस्टरम कार्पाम के तहत प्रकाशोत्सव पर विभाग स्तर, विश्वविद्यालय स्तर और फाईनल सहित 3 चरणों में प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा। विश्वविद्यालय के युवा एवं कार्पाम विभाग की तरफ से रत्नावली में गिद्दा प्रतियोगिता का आयोजन भी किया जाएगा।

मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजेश खुल्लर ने कहा कि प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में श्री गुरु नानक देव जी महाराज के 550वें प्रकाशोत्सव को लेकर कार्पाम का आयोजन किया जाना चाहिए। इस कार्पाम को लेकर सूचना, जन सम्पर्प एवं भाषा विभाग की तरफ से 19 विषयों पर सैमिनार और अन्य कार्पाम करने का सुझाव दिया गया है। इन सुझावों के अनुसार विश्वविद्यालय अपने स्तर पर अन्य विषयों के चुनाव करने के लिए स्वतंत्र है। उन्होंने कहा कि श्री गुरुनानक देव जी के जीवन दर्शन पर प्रदर्शनी, प्रश्नौतरी कार्पाम, भाषण प्रतियोगिता, शब्द कीर्तन प्रतियोगिता, कवि दरबार मुशायरा व ड्रामा-नाटक इत्यादि कार्पामों का भी आयोजन किया जा सकता है।

उन्होंने यह भी कहा कि गर्मियों की छुट्टिह्मयों के दौरान श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी और श्री गुरु नानक देव जी महाराज की वाणी पर गहन मंथन करने के लिए वर्पशाप का आयोजन किया जाना चाहिए ताकि शोधार्थी वाणी से कुछ नया ग्रहण कर सके। अतिरिक्त मुख्य सचिव धीरा खंडेलवाल ने कहा कि शिक्षा विभाग की तरफ से भी श्री गुरु नानक देव जी महाराज के जीवन को लेकर सभी स्कूलों में विभिन्न कार्पामों का आयोजन किया जाएगा।

सूचना, जन सम्पर्प एवं भाषा विभाग हरियाणा के महानिदेशक समीर पाल सरो ने कहा कि श्री गुरुनानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव को लेकर 23 नवम्बर 2018 से 12 नवम्बर 2019 तक अलग-अलग कार्पामों का आयोजन किया जा रहा है और इस प्रकाशोत्सव को लेकर 30 नवम्बर 2018 को एक बैठक का आयोजन किया जा चुका है, जिसमें 108 सदस्य आयोजन के लिए नियुक्त किए गए। इसके बाद 8 जनवरी 2019 को हरियाणा के मुख्य सचिव डीएस ढेसी की अध्यक्षता में एक कार्यकारी कमेटी की बैठक का आयोजन किया गया। उन्होंने कहा कि करनाल में एक सैमिनार का आयोजन किया जा चुका है। प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में इस प्रकाशोत्सव को लेकर कार्पामों का आयोजन किया जाएगा। इसके लिए विश्वविद्यालयों से एक्शन टेकन रिपोर्ट भी मांगी गई थी, लेकिन कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, एमडीयू विश्वविद्यालय रोहतक व चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय भिवानी के अलावा किसी विश्वविद्यालय ने एक्शन टेकन रिपोर्ट नहीं भेजी।

उन्होंने कहा कि इस प्रकाशोत्सव को लेकर सभी विश्वविद्यालय प्रत्येक कार्पाम के बाद फोटो सहित तमाम तथ्य जनसम्पर्प विभाग के पास समय से पंहुचना सुनिश्चित करेंगे ताकि 550वें प्रकाशोत्सव को लेकर एक डाक्यमेंटेशन तैयार किया जा सके। इसके अलावा विश्वविद्यालयों व सफाई अभियान, प्लास्टिक फी विश्वविद्यालय और श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी और गुरु नानक देव जी की वाणी को लेकर दूसरी भाषाओं में भी कार्पाम का आयोजन किया जाए। इस मौके पर उपायुक्त डा. एसएस फुलिया, आयुष विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डा. केके जाटियान, जिला सूचना एवं जन सम्पर्प अधिकारी सुरेश कंवर, जिला शिक्षा अधिकारी अरुण आश्री, एआईपीआरओ डा. नरेन्द्र सिंह, एआईपीआरओ बलराम शर्मा मौजूद थे।

Share it
Top