Home » मध्य प्रदेश » दुर्घटनाओं का उद्योग बना ग्रेसिम, बीते कुछ समय में तीन ठेका श्रमिकों की हो चुकी मौत

दुर्घटनाओं का उद्योग बना ग्रेसिम, बीते कुछ समय में तीन ठेका श्रमिकों की हो चुकी मौत

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:2018-06-14 14:58:33.0
Share Post

नागदा, (मप, ब्यूरो)। आदित्य बिरला समुह के एशिया में अपनी साख रखने वाले ग्रेसिम उद्योग में विगत माह में लगातार तीन दुर्घटनाओं में हुए श्रमिकों की मौत ने उद्योग पबंधन को हिला कर रख दिया है। ऐसा ल?बे समय बाद हो रहा है कि लगातार तीन दुर्घटनाओं में श्रमिक की मौत हुई है। इनमें से दो दुर्घटनाऐं तो ऐसी है जिसमें वजनी सामान उपर से गिरने के कारण श्रमिक की मौत हुई है। ऐसे में उद्योग की सुरक्षा व्यवस्था एवं सेफ्टी की पोल खोल कर रख दी है।

गुरूवार को ग्रेसिम उद्योग के पल्प डिपार्टमें में ठेका श्रमिक के रूप में कार्यरत मुकेश कुवाल जिसकी आयु 43 वर्ष बताई गई है की उस पर पल्प की गठान गिर जाने से मौके पर ही मौत हो गई। बताया जाता है कि ठेका श्रमिक मुकेश सायं 3.30-4 बजे के लगभग पल्प डिपार्टमेंट में गठानों के उपर से तिरपाल हटा रहा था उसी दौरान उसके उपर एक गठन गिर गई। मुकेश मण्डी स्थित पुरानी नगर पालिका नानी की टंकी के सामने निवास करता था। घटना के बाद तत्काल ठेका श्रमिक को जनसेवा हॉस्पिटल ले जाया गया जहाँ चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया गया। उद्योग के पल्प विभाग में घटित घटना के बाद मुकेश की मौत हो जाने की सूचना परिजनों को लगते ही जनसेवा हॉस्पिटल में काफी भीड एकत्रित हो गई तथा परिजन घटना की निष्पक्ष जांच करते हुए उद्योग के खिलाफ नारेबाजी भी करने लगे। परिजनों के आत्रढाsश को देखते हुए तत्काल श्रम संगठनों के पदाधिकारी भी पहुँच गये थे तथा उन्होंने परिजनों से चर्चा कर श्रमिक को सभी हितलाभ दिलाये जाने की बात कही है।

Share it
Top