Top
Home » मध्य प्रदेश » मप्र: भोपाल सहित प्रदेश के 23 जिलों में बारिश, होशंगाबाद में फिर खुले तवा डैम के गेट

मप्र: भोपाल सहित प्रदेश के 23 जिलों में बारिश, होशंगाबाद में फिर खुले तवा डैम के गेट

👤 Veer Arjun | Updated on:26 Sep 2021 7:40 AM GMT

मप्र: भोपाल सहित प्रदेश के 23 जिलों में बारिश, होशंगाबाद में फिर खुले तवा डैम के गेट

Share Post

भोपाल। मध्यप्रदेश के 23 जिलों में बीते 24 घंटों में तेज बारिश दर्ज की गई है। खंडवा में सबसे ज्यादा 4 इंच बारिश दर्ज की गई। वहीं इंदौर-छिंदवाड़ा और सिवनी में 2-2 इंच पानी बरसा। भोपाल में रविवार सुबह से तेज बारिश शुरू हो गई। वहीं, लगातार बारिश के चलते होशंगाबाद में तवा डैम के गेट दूसरी बार खोल दिए गए हैं।

भोपाल स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार अगले 24 घंटे में मध्यप्रदेश के कई जिलों में तेज बारिश हो सकती है। बीते 24 घंटों में खंडवा में 4, इंदौर, छिंदवाड़ा एवं सिवनी में 2 इंच के करीब बारिश हुई। धार एवं नरसिंहपुर में 1.5 इंच, छतरपुर, रतलाम, दमोह एवं शाजापुर में बारिश का आंकड़ा 1 इंच के करीब पहुंच गया। होशंगाबाद के पचमढ़ी में पौन इंच पानी बरसा। वहीं होशंगाबाद जिले में एवरेज आधा इंच बारिश हुई है। भोपाल में रविवार सुबह 9 बजे से कई इलाकों में तेज बारिश हुई। रीवा, बैतूल, रायसेन, खरगोन, उमरिया, ग्वालियर, भोपाल, उज्जैन, जबलपुर, सागर, सतना और दतिया में भी बारिश दर्ज की गई। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो 27 सितंबर से कम दवाब का नया सिस्टम बन रहा है। इसके चलते प्रदेशभर में अक्टूबर के पहले सप्ताह तक हल्की एवं मध्यम बारिश होगी, लेकिन इससे पहले एक्टिव मानसून की वजह से प्रदेशभर में बारिश हो रही है।

होशंगाबाद के तवा डैम के पांच गेट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा। तवा डैम के कैचमेंट एरिया बैतूल, पचमढ़ी में अच्छी बारिश और सतपुड़ा डैम से छोड़े गए पानी से तवा बांध के जलस्तर में बढ़ोतरी बनी हुई है। इससे शनिवार रात 9 बजे 5 गेट को 5-5 फुट खोले गए। 44065 क्यूसेक पानी तवा बांध से छोड़ा जा रहा है। वहीं, शनिवार शाम से धार जिले में तेज बारिश होने से माही परियोजना के दोनों बांधों में अच्छी खासी जलवृद्धि हुई है। उपयंत्री केसी नीलकंठ ने बताया कि रात में 10 बजे एक गेट आधा मीटर तक खोला गया था। वहीं रात में 12 बजे दूसरा गेट भी आधा मीटर खोला गया था। वाटर लेवल को 474.30 मीटर पर मेंटेन किया जा रहा है। पानी बढ़ने से रविवार सुबह सात बजे फिर तीसरा गेट आधा मीटर तक खोला गया। बांध में चार गेट हैं।


Share it
Top