Top
Home » मध्य प्रदेश » पन्ना : मजदूर को मिला 15 लाख का उज्जवल किस्म का हीरा

पन्ना : मजदूर को मिला 15 लाख का उज्जवल किस्म का हीरा

👤 mukesh | Updated on:24 Nov 2021 8:17 PM GMT

पन्ना : मजदूर को मिला 15 लाख का उज्जवल किस्म का हीरा

Share Post

पन्ना। पन्ना की रत्नगर्भा नगरी आये दिन हीरा उगल रही है और कई लोग रंक से राजा बन रहे हैं। यह बात अलग है कि हीरा सिर्फ 10 प्रतिशत ही हीरा कार्यालय में जमा होता है शेष कालाबाजारी की भेंट चढ़ जाता है लेकिन कहीं न कहीं हीरों से जुड़े लोग माला माल अवश्य हो रहे हैं। बुधवार फिर एक मजदूर को लगभग 15 लाख कीमती हीरा मिला है, जिसे हीरा कार्यालय में जमा करा दिया गया है ।

इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार पन्ना शहर के आगरा मोहल्ला निवासी 33 वर्षीय समसेर खां को हीरापुर टपरियन उथली खदान क्षेत्र से जेम क्वालिटी वाला 6.66 कैरेट वजन का हीरा मिला है। इस हीरे की अनुमानित कीमत 12 से 15 लाख रुपए बताई जा रही है। हीरा धारक समसेर खां ने अपने परिजनों एवं मित्रों के साथ दोपहर में कलेक्ट्रेट स्थित हीरा कार्यालय पहुंचकर वहां विधिवत हीरा जमा कराा दिया है।

हीरा कार्यालय पन्ना के पारखी अनुपम सिंह ने बताया कि जमा हुए हीरे का वजन 6.66 कैरेट है जो उज्जवल किस्म का लेकिन हल्का पीलापन लिए हुए है। आगामी होने वाली नीलामी में इस हीरे को रखा जाएगा। नीलामी में हीरा बिकने पर रॉयल्टी काटने के बाद शेष राशि हीरा मालिक को प्रदान की जायेगी। उन्होंने बताया कि हीरापुर टपरियन उथली खदान क्षेत्र में इसके पूर्व 8.22 कैरेट वजन का हीरा पन्ना के ही बेनीसागर मोहल्ला निवासी रतन प्रजापति को मिला था। उज्जवल किस्म का यह हीरा विगत सितम्बर माह में हुई हीरों की खुली नीलामी में 37 लाख सात हजार 220 रुपये में बिका था।

हीरा कार्यालय में सिर्फ दो हवलदार

देश के इकलौतेे हीरा कार्यालय में कर्मचारियों की भारी कमी है, जिसके कारण जहाँ कामकाज प्रभावित होता है वहीँ हीरा खदान क्षेत्रों की समुचित निगरानी न हो पाने के कारण बहुत ही कम हीरों को कार्यालय में जमा कराया जाता है। उथली हीरा खदानों से निकलने वाले ज्यादातर हीरे चोरी - छिपे बिक जाते हैं। हीरा कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार मौजूदा समय यहाँ सिर्फ दो हवलदार बचे हैं जबकि पूर्व में हीरा खदानों की निगरानी के लिए 34 हवलदार पदस्थ थे। इसके अलावा हीरा कार्यालय में सिर्फ एक बाबू, एक वैल्युवर व एक चौकीदार है। हीरा अधिकारी का प्रभार भी खनिज अधिकारी को मिला हुआ है। पहले यहाँ जिला मुख्यालय स्थित हीरा कार्यालय के अलावा दो उप कार्यालय इटवां और पहाड़ीखेरा में थे लेकिन अब दोनों ही कार्यालय कर्मचारियों की कमी के चलते बंद हैं। (एजेंसी, हि.स.)

Share it
Top