Home » देश » कांग्रेस की दुखती रग पर सैक्रेड गेम्स के 3 संवाद, नहीं पसंद करेंगे कांग्रेसी

कांग्रेस की दुखती रग पर सैक्रेड गेम्स के 3 संवाद, नहीं पसंद करेंगे कांग्रेसी

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:2018-07-12 18:23:19.0

कांग्रेस की दुखती रग पर सैक्रेड गेम्स के 3 संवाद, नहीं पसंद करेंगे कांग्रेसी

Share Post

वीर अर्जुन समाचार ब्यूरो

नई दिल्ली। नेटफ्लिक्स के लिए भारत की ओर से पहली आधिकारिक वेब सीरिज कही जा रही 'सैक्रेड गेम्स' खासे राजनीतिक विवाद की ओर है। फिल्म के तमाम सीन्स और संवाद पर लोगों की आपत्तियां आने लगी हैं। कोलकाता के बाद मुंबई में भी इसके खिलाफ शिकायत की गई है। बताते चलें कि 2006 में पाम चंद्रा ने इसी टाइटल से इंग्लिश में नॉवेल लिखी थी।

वेब सीरीज में सूत्रधार के जरिए तत्कालीन राजनीतिक बदलाव पर करारी टिप्पणी है। ये टिप्पणियां 70 के बाद उन सामाजिक राजनीतिक घटनाओं से जुड़ी हैं जिनकी आज भी चर्चा की जाती है। खासकर विपक्षी दल इन राजनीतिक घटनाओं का इस्तेमाल कर पिछले कई सालों से कांग्रेस पर निशाना साधते आए हैं। वेब सीरीज के जरिए जो विवाद ताजा हो रहे हैं उसे कांग्रेस या उसके नेता कतई पसंद नहीं करना चाहेंगे। दरअसल, टिप्पणियों में तमाम चीजों के लिए कांग्रेस को दोष दिया गया है। यह भी स्थापित करने की कोशिश की गई है कि कैसे राजनीतिक बदलाव से मुंबई में माफिया और धर्म की आड़ में अपराध जगत का ढांचा संगठित होता गया। सीरीज में वैसे तो बहुत सारे राजनीतिक कमेंट हैं, लेकिन मुख्य तौर पर तीन ऐसे कमेंट हैं जो कांग्रेस और उसके नेताओं को काफी परेशान करने वाले साबित हो सकते हैं। ये तीनों टिप्पणियां कांग्रेस की दुखती रग भी है।

आपातकाल ः '1977 में देश में इंदिरा गांधी की इमरजेंसी चालू थी। सरकार लोगों के '...ड' काटकर ले जा रही थी। मुंबई सबसे तेजी से भाग रही थी। यहां सबके लिए काम था। अपुन को ब्राह्मण होने का फायदा मिला।'

बोफोर्स घोटाला ः 'मां मरी तो बेटा पीएम बन गया। पीएम बन के बोफोर्स का घोटाला किया। अपुन सोचा जब देश के पीएम का कोई ईमान नहीं तो अपुन सीधे रास्ते चलकर क्या करेगा।'

शाहबानो केस ः '1986 में शाहबानो को तीन तलाक दिया उसका पति। वो कोर्ट में केस लड़ी और जीती। लेकिन वो प्रधानमंत्री राजीव गांधी। वो फट्टू बोला चुप बैठ औरत। कोर्ट का फैसला उलटा कर दिया और शाहबानो को मुल्लों के सामने फेंका। इसपे उसको हिंदुओं से बहुत गाली पड़ी और उनको खुश करने के लिए टीवी पर रामायण शुरू किया। हर सन्डे सुबह पूरा देश चिपक कर टीवी देखता था।'

धर्म और राजनीति के आधार पर सैक्रेड गेम्स की आलोचना पर अनुराग कश्यप ने कहा, ''ये वेब सीरीज किसी राजनेता को टारगेट करने के लिए नहीं बनाई गई है। ये सिर्फ हमारा नजरिया है जो उन दिनों हुए घटपाम को दर्शाता है, चाहे वो पॉलिटिकल हो या धार्मिक। अगर किसी को इससे आपत्ति है तो ये उनकी दिक्कत है।''

पोड गेम्स की कहानी के केंद्र में गणेश गायतोंडे (नवाजुद्दीन सिद्दीकी) नाम का एक गैंगस्टर, पुलिस इंस्पेक्टर सरताज सिंह (सैफ अली खान) है। धर्म गुरु, माफिया, राजनीति, सिनेमा जगत और कारोबारियों के रिश्ते को लेकर बुनी कहानी की काफी चर्चा हो रही है। वेब सीरिज के लिए कहानी वरुण ग्रोवर और उनकी टीम ने लिखी है। इसे दो निर्देशकों अनुराग कश्यप और पामादित्य मोटवानी ने मिलकर निर्देशित किया है। सैफ वाले हिस्से को पामादित्य ने जबकि नवाज वाले हिस्से को अनुराग कश्यप ने निर्देशित किया है। फिल्म में नवाज और सैफ के अलावा पंकज त्रिपाठी, राधिका आप्टे, कुब्रा सैत ने प्रमुख भूमिकाएं निभाई हैं।

Share it
Top