Home » देश » पूर्वोत्तर को दक्षिण-पूर्व एशिया का प्रवेशद्वार बनाना चाहती है सरकार : मोदी

पूर्वोत्तर को दक्षिण-पूर्व एशिया का प्रवेशद्वार बनाना चाहती है सरकार : मोदी

👤 admin6 | Updated on:2017-05-07 18:18:06.0

पूर्वोत्तर को दक्षिण-पूर्व एशिया का प्रवेशद्वार बनाना चाहती है सरकार : मोदी

Share Post

नई दिल्ली/ शिलॉन्ग, (भाषा)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि पूर्वोत्तर को दक्षिण पूर्व एशिया का प्रवेशद्वार बनाने का लक्ष्य रखते हुये सरकार ने आज सात राज्यों में सड़कों और राजमार्गों को सुधारने के लिये 40 हजार करोड़ रूपये लागत की परियोजना समेत कई अहम आधारभूत परियोजनाओं की शुरुआत की।

उन्होंने हालांकि इस बात पर अफसोस भी जताया कि हाल के राष्ट्रव्यापी स्वच्छता सर्वेक्षण में

``50 सबसे स्वच्छ शहरों में सिर्फ गंगटोक ःपूर्वोत्तर सेः अपनी जगह बना पाया''

स्वच्छता को क्षेत्र में हर किसी के लिये बड़ी चुनौती करार देते हुये उन्होंने कहा कि स्वच्छता पैमाने पर 100 से 200 स्वच्छ शहरों के बीच पूर्वोत्तर के चार शहर है

, जबकि 200 से 300 स्वच्छ शहरों में पूर्वोत्तर के सात शहर आते है जिनमें शिलांग 276वें स्थान पर है।

वह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये शिलांग में प्रमुख स्वयंसेवी संग"न भारत सेवाश्रम संघ के शताब्दी समारोह को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा, ``हमें पूर्वोत्तर को दक्षिणपूर्व एशिया का प्रवेशद्वार बनाना होगा

'' और यह प्रवेश द्वार अगर गंदा होगा तो यह सपना पूरा नहीं होगा। उन्होंने लोगों और संघ जैसे संग"नों से स्वच्छता अभियान के लिये साथ आने को कहा। स्वतंत्रता के कई सालों बाद भी समूचे पूर्वोत्तर का संतुलित विकास नहीं होने का जिक्र करते हुये प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने ``
अपने सभी संसाधनों के साथ
'' यहां राज्यों के संपूर्ण और संतुलित विकास की योजना बनाई है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि ज्यादा जोर संपर्क सुधारने और समूचे क्षेत्र को पर्यटन के लिहाज से विकसित करने पर होगा।

उन्होंने कहा, ``इन सभी उपायों से पूर्वोत्तर को दक्षिणपूर्व एशिया का प्रवेशद्वार बनाने में मदद मिलेगी।

''उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर में सड़कों को सुधारने के लिये 40,000 करोड़ रूपये का प्रावधान किया जा रहा है, क्षेत्र में 19 बड़ी रेल परियोजनायें भी शुरू की गयी हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा, ``हम पूर्वोत्तर में बिजली की स्थिति में भी सुधार की कोशिश कर रहे हैं और क्षेत्र में और पर्यटकों को लाने की कवायद में भी जुटे हैं।

''प्रधानमंत्री ने ऐलान किया कि पूर्वोत्तर को जल्द ही `उड़ान' ःउड़े देश का आम नागरिकः योजना से जोड़ा जायेगा। क्षेत्र में छोटे हवाईअड्डे विकसित किये जायेंगे जबकि शिलांग हवाईअड्डे की हवाईपट्टी के विस्तार को भी मंजूरी दी गयी है।

Share it
Top