Top
Home » देश » मूडीज ने भारत की क्रेडिट रेटिंग घटाई, नेगेटिव आउटलुक रखा बरकरार

मूडीज ने भारत की क्रेडिट रेटिंग घटाई, नेगेटिव आउटलुक रखा बरकरार

👤 mukesh | Updated on:2 Jun 2020 5:05 AM GMT

मूडीज ने भारत की क्रेडिट रेटिंग घटाई, नेगेटिव आउटलुक रखा बरकरार

Share Post

नई दिल्‍ली। आखिरकार रेटिंग एजेंसी मूडीज इंवेस्‍टर्स सर्विस ने भारत की रेटिंग को घटाकर बीएए3 (BAA3) कर दिया है। इसके साथ ही भारत के आउटलुक को 'निगेटिव' बरकरार रखा है। मूडीज ने एक बयान में ये जानकारी दी है। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही एसएंडपी और फिच रेटिंग्स ने भी भारत की क्रेडिट रेटिंग को घटाया है।

रेटिंग एजेंसी मूडीज ने अपने बयान में कहा है कि हमने भारत के लोकल-करंसी-सीनियर अनसिक्योर्ड रेटिंग को बीएए2 (BAA2) से घटाकर बीएए3 (BAA3) कर दिया है। इसके साथी ही छोटी अवधि वाली लोकल-करंसी रेटिंग को भी पी-2 से घटाकर पी-3 कर दिया है।

मूडीज ने कहा कि भारत के सामने गंभीर आर्थिक सुस्ती का भारी खतरा है, जिसकी वजह से राजकोषीय लक्ष्य पर दबाव बढ़ रहा है। रेटिंग एजेंसी ने एक नकारात्मक दृष्टिकोण को बनाए रखते हुए जारी एक रिलीज में कहा कि सामान्य सरकार की वित्तीय स्थिति में महत्वपूर्ण गिरावट और तनाव में हैं।

एजेंसी ने कहा कि नवंबर 2017 में भारत की रेटिंग को बीएए3 (Baa2) में अपग्रेड किया गया था, जो कि इस उम्मीद पर आधारित था कि प्रमुख सुधारों के प्रभावी क्रिर्यान्‍वयन से आर्थिक, संस्थागत और राजकोषीय ताकत में एक क्रमिक बदलावा आएगा और लगातार सुधार के जरिए क्रेडिट प्रोफाइल को मजबूत किया जाएगा।

उल्‍लेखनीय है कि पिछले हफ्ते सरकार ने देश की सकल घरेलू उत्‍पाद (जीडीपी) वृद्धि दर के जो आंकड़ें जारी किए हैं। उसके मुताबिक वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान जीडीपी की बढ़ोतरी दर 4.2 फीसदी पर रही है, जो कि 11 वर्षों में सबसे कम रही है। लेकिन, वित्‍त वर्ष 2018-19 के दौरान विकास दर का यह आंकड़ा 6.1 फीसदी था। इससे पहले आरबीआई और अन्‍य रेटिंग्‍स एजेंसियों ने भी वित्‍त वर्ष 2020-21 में विकास दर निगेटिव में रहने का अनुमान जताया है। (एजेंसी, हि.स.)

Share it
Top