Top
Home » देश » नौसेना ने श्रीलंका में फंसे 685 भारतीयों को स्वदेश पहुंचाया

नौसेना ने श्रीलंका में फंसे 685 भारतीयों को स्वदेश पहुंचाया

👤 Veer Arjun | Updated on:2 Jun 2020 9:01 AM GMT

नौसेना ने श्रीलंका में फंसे 685 भारतीयों को स्वदेश पहुंचाया

Share Post

नई दिल्ली । ​​ऑपरेशन 'समुद्र सेतु' के तहत भारतीय नौसेना का जहाज ​​आईएनएस ​जलाश्व मंगलवार को ​सुबह 11 बजे के करीब श्रीलंका की राजधानी ​कोलम्बो से ​685 ​​भारतीयों को लेकर​ तमिलनाडु के ​​​तूतीकोरिन बंदरगाह पर पहुंच गया। बंदरगाह पर पहुंचने से पहले ​​आईएनएस ​जलाश्व का ​​नौसेना के जहाजों ने स्वागत किया और फ्लीट में शामिल होकर ​तूतीकोरिन हार्बर में प्रवेश ​करा​या​​।

कोलंबो, श्रीलंका ​से सोमवार की शाम को 685 भारतीय नागरिकों ​को लेकर आईएनएस ​जलाश्व तमिलनाडु में ​​​​​​तूतीकोरिन बंदरगाह के लिए​ रवाना हुआ था।​ भारत सरकार ​के 'मिशन वंदे भारत​'​ के तत्वावधान में भारतीय नौसेना ​ने 'ऑपरेशन समुद्र सेतु​' शुरू किया था, जिसका यह तीसरा चरण है। ​​इसके पहले के दो चरणों में मालदीव से 1488 भारतीय नागरिकों ​की समुद्री मार्ग से ​'​घर ​वापसी' की जा चुकी है।​ आईएनएस ​जलाश्व ​सोमवार ​सुबह कोलंबो के बंदरगाह ​पर पहुंचा था। ​दोपहर बाद उन भारतीय नागरिकों को ​ईस्ट कंटेनर टर्मिनल पर​​ ​​निकालने का काम शुरू किया गया जो पहले से ही कोलंबो ​स्थित भारतीय दूतावास ​में पंजीकृत थे।​ सभी ​यात्रियों के स्वास्थ्य की जांच​ की गई। ​​जहाज पर चढ़ने से पहले आईडी और उनका सामान आवंटित किया गया​​।

तूतीकोरिन बंदरगाह​ पर ​मंगलवार को जिन 685 ​भारतीयों को ​वापस लाया गया है, उनमें 553 पुरुष, 125 महिलाएं और सात बच्चे शामिल हैं। ​संगरोध का पालन कराने के ​लिए ​यात्रियों को जहाज पर विशेष रूप से चिन्हित क्षेत्रों ​में बिठाया गया। जहाज के चालक दल ​ने भी सामाजिक दूरी, कीटाणुशोधन और सुरक्षा प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन किया।​​ ​तूतीकोरिन बंदरगा​ह पर जब आईएनएस ​जलाश्व ने अवरोहण किया तो सबसे पहले महिलाओं को क्रूज से बाहर आने दिया गया​​। ​एक बुजुर्ग को बीमार हालत में व्हील चेयर से जहाज से बाहर लाया गया​​​।​ पोर्ट ट्रस्ट की तरफ से टर्मिनल पर एम्बुलेंस की भी व्यवस्था की गई थी ताकि जरूरत पड़ने पर किसी भी यात्रियों को चिकित्सा सुविधा दी जा सके​​​।​​​ बंदरगाह से बाहर आने के बाद बसों से सभी यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया गया​।

 नेपाल में हुए भूस्खलन में अभी भी लापता हैं 19 लोग

नेपाल में हुए भूस्खलन में अभी भी लापता हैं 19 लोग

नई दिल्ली। पश्चिमी नेपाल में लगातार हो रही बारिश के कारण विभिन्न स्थानों में हुए भूस्खलन के कारण कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई है। साथ ही 19 लोग...

 कोरोना के बाद कजाक वायरस से दुनिया को एक और खतरा

कोरोना के बाद कजाक वायरस से दुनिया को एक और खतरा

नई दिल्ली। कजाकिस्तान के वायरस को लेकर दुनिया में एक नया डर उत्पन्न हो रहा है। चीनी दूतावास ने कहा है कि यह कोरोना से भी खतरनाक वायरस है, इससे अब तक...

 शिक्षा मंत्रियों की राय, पाकिस्तान में सितम्बर से फिर से खुलने चाहिए स्कूल

शिक्षा मंत्रियों की राय, पाकिस्तान में सितम्बर से फिर से खुलने चाहिए स्कूल

नई दिल्ली । पाकिस्तान के प्रांतीय शिक्षा मंत्रियों का कहना है कि सितम्बर में देश में स्कूल फिर से खुलने चाहिए। इसके लिए अब राष्ट्रीय समन्वय समिति...

 नेपाल में बरपने लगा बाढ़ का कहर

नेपाल में बरपने लगा बाढ़ का कहर

नई दिल्ली। नेपाल के सिंधुपालचौक जिले में बाढ़ आने से 2 लोगों की मौत हो गई है और 18 लोग लापता हो गए हैं। पुलिस ने गुरुवार को इसकी पुष्टि की है। बाढ़...

 भारत और यूरोपीय संघ के बीच 15 जुलाई को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगा समिट

भारत और यूरोपीय संघ के बीच 15 जुलाई को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगा समिट

नई दिल्ली । भारत और यूरोपीय संघ के बीच 15 जुलाई को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए समिट होगा। इस दौरान क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा हो सकती...

Share it
Top