Top
Home » देश » दो माह बाद भी गेहूं की एक करोड़ की पैमेंट बकाया

दो माह बाद भी गेहूं की एक करोड़ की पैमेंट बकाया

👤 manish kumar | Updated on:7 July 2021 5:56 AM GMT

दो माह बाद भी गेहूं की एक करोड़ की पैमेंट बकाया

Share Post

जींद। गेहूं की पैमेंट को लेकर कभी किसान मार्केट कमेटी तो कभी खरीद एजेंसी के यहां चक्कर काट रहे है। गेहूं के की पेमेंट को लेकर चंडीगढ़ भी किसान संबंधित विभागों में जा चुके हैं, लेकिन कोई समाधान अब तक नहीं हो रहा है। एक अनुमान के अनुसार उचाना में अनेकोंं किसानों की 1 करोड़ के करीब गेहूं की पेमेंट आज भी बकाया है।

किसानों ने कहा कि 72 घंटे खरीद के बाद गेहूं की पेमेंट के दावे सरकार द्वारा किए गए थे लेकिन 72 घंटे नहीं 72 दिनों से अधिक समय हो चुका है उनकी पेमेंट नहीं आई है। किसान रोहताश अलीपूरा, पवन बड़ौदा, दिनेश काकड़ोद, अमित बद्दोवाला ने बताया कि 14 अप्रैल से लेकर 23 अप्रैल के बीच में गेहूं खाद्य आपूर्ति विभाग, हैफेड को बेची थी। ऐसे अनेकों किसान है जिनकी पेमेंट आज तक नहीं हुई है। 1 करोड़ के करीब की राशि की पेमेंट अब तक उचाना मंडी में गेहूं बेचने वाले किसानों की नहीं हुई है। कभी मार्केट कमेटी तो कभी संबंधित खरीद एजेंसी के यहां चक्कर काट चुके है। कई किसान तो चंडीगढ़ तक जा चुकी है लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ है। जब एक किसान द्वारा बेची गई गेहूं की पेमेंट खाते में आ चुकी है तो दोबारा बेची गई गेहूं में क्या खाता मैच नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि किसान पेमेंट न आने से परेशान है। बिना पेमेंट आए किसानों को जो रुपये खेती संबंधित कार्यों के लिए देने थे वो नहीं दे पा रहे है। घर का खर्च भी चलाना मुश्किल होता जा रहा है। 72 दिनों से अधिक समय किसानों को पेमेंट के लिए हो चुका है। ऑनलाइन किसानों के खाते में पेमेंट डाला जाना किसानों के लिए परेशानी बन गया है। दा फूड ग्रेन डीलर एसोसिएशन प्रधान वीरेंद्र संदलाना ने कहा कि कई दिन पहले किसानों की पेमेंट न आने परे डीसी जींद को ज्ञापन देने गए थे लेकिन डीसी जींद किसी कार्य से बाहर गए हुए थे।

Share it
Top