Top
Home » देश » करवा चौथ पर्व: ब्यूटी पार्लर रविवार शाम तक के लिए बुक

करवा चौथ पर्व: ब्यूटी पार्लर रविवार शाम तक के लिए बुक

👤 Veer Arjun | Updated on:23 Oct 2021 9:32 AM GMT

करवा चौथ पर्व: ब्यूटी पार्लर रविवार शाम तक के लिए बुक

Share Post

उज्जैन। रविवार को करवा चौथ व्रत है। इस बार यह व्रत कुछ खास लेकर आया है। विवाहिताओं के अनुसार इस बार खास बात यह है कि यह पर्व रविवार को आया है। अवकाश का दिन होने के कारण व्रतवाले दिन चांद निकलने पर अपने चांद का दिदार करने के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा। वर्किंग डे पर अनेक बाद देर रात तक इंतजार करना पड़ता है। इधर शहर के ब्यूटी पार्लर रविवार शाम 6 बजे तक पूरी तरह से बुक हो चुके हैं। इसके बाद की बुकिंग ब्यूटी पार्लर संचालिकाओं द्वारा नहीं ली गई है, क्योंकि उन्हे भी तो सजना है 'सजना' के लिए।

कोरोनाकाल में कोई आई ब्रो बनवाने नहीं आए, अब बुकिंग का दौर

चर्चा में ब्यूटी पार्लर संचालिका मोनिशा छाबड़ा,सानिया सहगल, देविका ढालवानी ने बताया कि यूं तो फेशियल से लेकर आई ब्रो आदि का काम रोजाना चलता है, लेकिन करवा चौथ को लेकर महिलाओं में खासा उत्साह देखने को मिल रहा है। इस बार पर्ववाले दिन रविवार की शाम 6 बजे तक की बुकिंग है। इसके बाद की तो हमने ही मना कर दिया है। कारण बताया कि घर पर भी समय देना ही होगा। ब्यूटी पार्लर के रेट इस बार बढ़े हुए हैं। आई ब्रो से लेकर फेशियल तक,सम्पूर्ण मेकअप से लेकर ब्लीच या ग्लो पेक तक के भाव में 50 प्रतिशत तक की वृद्धि हुई है। इसका कारण उन्होंने महंगाई बढऩा बताया। उनके अनुसार कोरोनाकाल के दो वर्षो में महिलाओं से लेकर युवतियों तक ने अपने घरों पर ही आई ब्रो बनवा ली। फेसियल से लेकर मेकअप तो करवाया ही नहीं, क्योंकि हर किसी को कोरोना का भय था। इस बार उत्साह देखने को मिल रहा है।

गत वर्ष से महंगे बिक रहे करवे और छलनी

हाथ ठेले पर करवा और छलनी सजाकर बेचने बैठी गुडिय़ा को नहीं पता कि इस पर्व का क्या महत्व है। प्रायमरी स्कूल में पढऩेवाली गुडिय़ा को पिताजी ने इतना बताया है कि करवा और छलनी किस भाव में बेचना है। बस,उसी काम में वह जुटी है और आवाज देकर बुला भी रही है। चर्चा में उसने बताया कि वे बने बनाये करवे बेचने के लिए लाए हैं। करवे के भाव सुंदरता के आधार पर है। साधारण 15 रू. प्रति नग,पेंट किया हुआ 25 रू. प्रति नग और अलग से डेकोरेट किया हुआ 40 रू.प्रति नग। छलनी का भाव 40 रू.प्रति नग है। चर्चा में कमला प्रजापत ने बताया कि गत वर्ष से इस वर्ष रेट बढ़े हुए हैं। कमला के अनुसार इस बार काफी उत्साह देखने में आ रहा है। लोगों के मन से कोरोना का भय समाप्त हो गया है।

इस बार गिफ्ट पर अधिक जोर

अशोक गिफ्ट हाउस के विक्रेता सुंदर देवनानी के अनुसार करवा चौथ पर्व को लेकर बाजार में अच्छा उठाव है। इस बार गिफ्ट देने पर लोगों का जोर है। ग्राहकी अधिक चल रही है। सभी को मिडियम रेंज के आयटम चाहिए। न बहुत महंगा और न बहुत सस्ता।

उन्होने बताया कि चायना के माल पर रोक लगने के कारण भारत में बने गिफ्ट आर्टिकल का रेट इस बार 100 प्रतिशत तक बढ़ा हुआ है। माल दिल्ली और मुंबई से आ रहा है। क्रिश गिफ्ट गैलेरे के संचालक किशोर मुलावी ने बताया कि महंगाई की मार है,गिफ्ट के भाव भी 100 प्रतिशत तक बढ़ गए हैं। कोरोना के कारण दो साल से उठाव नहीं था। अब बाजार ने जोर पकड़ा है तो सस्ता माल नहीं मिलने से फिर उठाव पर असर गिरा है।

दोनों हाथ में मेंहदी लगवाने का खर्च 500 रू.

करवा चौथ पर्व हो और विवाहिताएं हाथों पर मेंहदी न रचाए,ऐसा हो नहीं सकता। इस बार भी पर्व को लेकर मेंहदी रचवाने की होड़ देखने को मिल रही है।

मेंहदी लगानेवाली प्रियल शर्मा, अनुराधा जायसवाल और काजल खान ने हिस से चर्चा में बताया कि घर पर आकर मेंहदी रचवाने का भाव है दोनों हाथ 500 रू. में सिम्पल डिजाईन। विशेष डिजाइन के साथ कोहनी तक बनवाने के 1000 रू.। पैर में भी लगवाने पर 1500 रू. में पूरा पैकेज। स्वयं अपने हाथ से मेंहदी रचने के लिए मेंहदी के कोन भी बिक रहे है। इनका भाव 10 से 20 रूपये प्रत नग है। रंग लाने के लिए मिलनेवाला तेल अलग से खरीदना होता है। इसका भाव 10 रू. शिशी है। हाथ रचवाने के लिए सबसे अधिक आर्डर आज शनिवार के हैं। रविवार को दोपहर बाद की बुकिंग फिलहाल नहीं है।

Share it
Top