Top
Home » देश » यूपी : नेपाल से विदेशी मटर तस्करी मामले में पांच पुलिसकर्मी निलंबित

यूपी : नेपाल से विदेशी मटर तस्करी मामले में पांच पुलिसकर्मी निलंबित

👤 Veer Arjun | Updated on:17 Nov 2021 6:09 AM GMT

यूपी : नेपाल से विदेशी मटर तस्करी मामले में पांच पुलिसकर्मी निलंबित

Share Post

महराजगंज । उत्तर प्रदेश के महराजगंज जिले (Maharajganj District) में नेपाल (Nepal) से विदेशी मटर तस्करी (foreign pea smuggling) को लेकर सिसवा क्षेत्र के पुलिसकर्मियों (policemen) की अंदरूनी लड़ाई के सामने आने पर एसपी ने बड़ी कार्रवाई की है. पहले सिसवा चौकी इंचार्ज समेत 12 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया. प्रकरण में जांच के लिए सीओ निचलौल को आदेश दिया.

फिर जांच रिपोर्ट मिलने के बाद मंगलवार की शाम पुलिस लाइन में एसपी प्रदीप गुप्ता ने सिसवा के चौकी इंचार्ज प्रवीण कुमार सिंह, कोठीभार थाने के मुख्य आरक्षी छोटेलाल यादव, आरक्षी शरद यादव, तुफान सिंह यादव व पृथ्वी सिंह चौहान को निलंबित कर दिया. क्राइम मीटिंग में एसपी की कार्रवाई यहीं तक सीमित नहीं रही. अपराधों की समीक्षा के दौरान गोकशी के मामले में प्रभावी कार्रवाई नहीं कर पाने पर चौक थानाध्यक्ष अमरेन्द्र कन्नौजिया से एसपी ने कहा कि अब आप यहीं रहिए. थाना से बोरिया बिस्तर मंगा लिजिए. इतना कहने के बाद एसपी ने चौक थानाध्यक्ष को लाइन हाजिर कर दिया.

सिपाही ने ऑडियो वायरल कर खोल दी पोल

सिसवा पुलिस चौकी पर तैनात एक सिपाही ने आडियो वायरल किया था. इसमें उसने कस्बा चौकी इंचार्ज प्रवीण कुमार सिंह पर आरोप लगाया कि उन्होंने तस्करी में पकड़ी गई गाड़ी को छोड़ दिया था. इस मामले में विरोध करने पर चौकी इंचार्ज ने सिपाही के खिलाफ रपट लिख दी थी. इसी से नाराज सिपाही ने चौकी प्रभारी की पूरी पोल खोल दी. इस मामले में सीओ की जांच सौंपी गई, लेकिन उसमें कहानी का क्लाइमेक्स बदल दिया गया. जांच में यह रिपोर्ट दी गई कि दरोगा ने तस्करी की गाड़ी पकड़ने के लिए सिपाही को बुलाया, लेकिन वह नहीं आया. इस वजह से उसके खिलाफ रपट लिखी गई. इस मामले को लेकर माहौल अभी गर्म ही था, इसी बीच एक और बातचीत का ऑडियो वायरल हो गया. इसमें थाने के दीवान कथित रूप से डिमांड कर रहे थे.

कोठीभार थाना में हर बोरी का रखा जाता था हिसाब-किताब

चौकी इंचार्ज सिसवा समेत पांच पुलिसकर्मियों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई से एक बार फिर नेपाल से विदेशी मटर तस्करी का मामला सुर्खियों में है. निलंबन की वजह बने वायरल ऑडियो ने पुलिस महकमे के अंदर भ्रष्टाचार को उजागर कर दिया था. कोठीभार थाना क्षेत्र से तस्करी के जरिए जाने वाले विदेशी मटर के प्रत्येक बोरी का हिसाब रखा जा रहा था. थानाक्षेत्र में पांच लाइन बांध विदेशी मटर की तस्करी हो रही थी. लाइन बांधने का मतलब सुरक्षा कर्मियों व तस्करों के गठजोड़ के बाद चर्चा में आया है.

विदेशी मटर तस्करी पर डीएम का तेवर सख्त

नेपाल से विदेशी मटर की बड़े पैमाने पर तस्करी के मामले को देख डीएम सत्येन्द्र कुमार बड़ी कार्रवाई की तैयारी में है. इसके लिए वह राजस्व टीम के अलावा एसएसबी, कस्टम व पुलिस विभाग से समीक्षा कर रहे हैं. बातचीत में डीएम तस्करी के मामले को लेकर अपनी मंशा जाहिर कर चुके हैं. इसमें बड़ी माफियाओं पर प्रशासन जल्द ही शिकंजा कस सकता है.

Share it
Top