Top
Home » धर्म संस्कृति » मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु, किया दान पुण्य

मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु, किया दान पुण्य

👤 manish kumar | Updated on:16 Jan 2020 5:39 AM GMT

मंदिरों में उमड़े श्रद्धालु, किया दान पुण्य

Share Post

दान-पुण्य और धार्मिक क्रियाओं के लिहाज से खास माना जाने वाला मकर संक्रांति का पर्व उज्‍जैन सहित पूरे देश में बुधवार को मनाया गया। बड़ों के लिए यह दिन दान-पुण्य के लिहाज से खास है तो बच्चे गिल्ली-डंडे और पतंग में मस्त रहेे। सुबह जल्द स्नान कर तिल-गुड़, खिचड़ी दान करने और गायों को चारा डालने का सिलसिला शुरू हो गया। सुबह से ही मंदिरों में दर्शनार्थियों की भीड़ रही। यह भी मान्यता है कि अब तिल के समान रोजाना दिन बड़े होंगे और रात छोटी होगी। दिन-व-दिन सूर्य की ऊर्जा अधिक प्राप्त होगी।

पर्व पर युवाओं ने पतंगबाजी का आनंद लिया तों बच्चे गड्गडिय़ों में लड्डूओं को रखकर गली-गली घूमते दिखाई दे रहे थे। इसके साथ ही मैदानों पर गिल्ली-डंडा खेलने का सिलसिला भी लगातार जारी रहा और तो बड़े-बुजुर्गों को आशीर्वाद भी लिया। संक्रांति पर्व की खुशियों को मनाने के लिए लोग धार्मिक स्थलों पर पहुंचे जहां भगवान का आशीर्वाद लिया और अपने परिवार की सुख-समृद्धि की कामना की गई। वहीं शहर के आसपास प्राचीन गुफाओं पर लगे मेले का लोगों लुत्फ उठाने के लिए पहुंचे, हालांकि बुधवार को अचानक बदले मौसम ने त्यौहार मनाने में व्यवधान जरुर पैदा किया, किन्तु श्रद्धालुओं में उत्साह बना रहा।

हुआ मेले का आयोजन

मकर संक्रांति पर्व के तहत मालपुर की गुफाओं पर गणेश पूजन के साथ ही मेले का शुभारंभ हुआ। तीन दिवसीय सिद्धेश्वर महादेव मंदिर गुफा परिसर में स्थित कुण्ड में हजारों लोगों ने पर्व पर स्नान का आनंद लिया है। श्रद्धालुओं की भारी भीड़ गुफाओं पर लगने वाले मेले में एकत्रित हुईं। मालपुर, केदारनाथ, चांदोल आदि प्राचीन गुफाओं एवं तीर्थ स्थलों पर ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के हजारों लोग पर्व का स्नान करने पहुंचे। वहीं श्रद्धालुओं ने स्नान के बाद भगवान शिव के दर्शन का सुख-समृद्धि की कामना की। मेले में बच्चों ने खिलौनों को खरीदा और चाट का जमकर स्वाद रखा और जमकर लुत्फ उठाया।

यह है मकर संक्रांति का महत्व

मकर संक्रांति पर देवताओं का दिन प्रारंभ होता है और दैत्यों की रात। प्रत्येक माह सूर्य की गति अनुसार एक राशि से दूसरी में प्रवेश करता है। भ्रमण करते हुए मकर राशि में जब आता है तो सूर्य दक्षिण से उत्तर पक्ष की ओर क्रमश: धीरे-धीरे बढ़ता है। इसलिए इसे उत्तरायण भी कहा गया है। संक्रांति का महत्व इसलिए भी अधिक है क्योंकि महाभारत के वयोवृद्ध भीष्म पितामह बाण शैय्या पर ही सोए रहे और उत्तरायण आने पर प्राण त्यागे थे।


 बांग्लादेश में रोहिंग्या मुसलमान बने सरदर्द, अब तक 50 तस्करों का हुआ एनकाउंटर

बांग्लादेश में रोहिंग्या मुसलमान बने सरदर्द, अब तक 50 तस्करों का हुआ एनकाउंटर

नई दिल्ली। म्यांमार से भागकर बांग्लादेश आए रोहिंग्या मुसलमान अब शेख हसीना की सरकार के लिए मुसीबत बन गए हैं। 5 जुलाई को रात को बाॅर्डर गार्ड ऑफ़...

 चीनी कम्पनियों का नया ठिकाना बन रहा है वियतनाम

चीनी कम्पनियों का नया ठिकाना बन रहा है वियतनाम

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में रियल एस्टेट उद्योग पिट रहा है, लेकिन चीन के पड़ोसी देश वियतनाम में रियल एस्टेट जबर्दस्त उछाल पर है। सबसे अधिक डिमांड...

 अफ्रीकी देश इथियोपिया में भड़की हिंसा में अब तक 166 लोगों की मौत

अफ्रीकी देश इथियोपिया में भड़की हिंसा में अब तक 166 लोगों की मौत

नई दिल्ली। इथियोपिया में ओरोमिया क्षेत्र और राजधानी अदिस अबाबा में एक लोकप्रिय गायक की मौत के बाद हिंसक विरोध प्रदर्शन में कम से कम 166 लोग मारे गए है ...

 बगदाद में अमेरिकी दूतावास पर रॉकेट हमला, एक बच्चा घायल

बगदाद में अमेरिकी दूतावास पर रॉकेट हमला, एक बच्चा घायल

नई दिल्ली। इराक की राजधानी बगदाद स्थित अमेरिकी दूतावास पर रविवार तड़के रॉकेट हमला किया गया। अमेरिकी वायु रक्षा प्रणाली पेट्रियॉट ने इस हमले को नाकाम...

 कोरोना वायरस से प्रभावित देश जमीनी स्तर पर बरतें सजगता: डब्ल्यूएचओ

कोरोना वायरस से प्रभावित देश जमीनी स्तर पर बरतें सजगता: डब्ल्यूएचओ

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना वायरस (कोविड 19) से प्रभावित देशों से महामारी के प्रसार पर नियंत्रण लगाने और जमीनी स्तर पर...

Share it
Top