Home » खेल खिलाड़ी » बल्लेबाजी में लचीलेपन और उत्कृष्टता का लक्ष्य विराट को अलग बनाता है : बांगड़

बल्लेबाजी में लचीलेपन और उत्कृष्टता का लक्ष्य विराट को अलग बनाता है : बांगड़

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:2018-08-03 14:42:41.0

बल्लेबाजी में लचीलेपन और उत्कृष्टता का लक्ष्य विराट को अलग बनाता है : बांगड़

Share Post

बर्मिंघम, (भाषा)।भारतीय क्रिकेट टीम के सहायक कोच संजय बांगड़ ने कहा कि बल्लेबाजी को लेकर विराट कोहली का लचीला रवैया और उत्कृष्टता का लक्ष्य भारतीय कप्तान को अलग बनाता है जिसके दम पर उन्होंने इंग्लैंड में पहला शतक जमाया।

पहले टेस्ट के दूसरे दिन इंग्लैंड ने भारतीय टीम को पहली पारी में 274 रन पर आउट करके 22 रन की बढत ले ली। कोहली ने यादगार 149 रन बनाये।

कोहली ने इस पारी से 2014 के इंग्लैंड दौरे पर नाकामी की टीस भी कम की होगी जिसमें 10 पारियों में वह सिर्फ 134 रन बना सके थे।

बांगड़ ने दूसरे दिन का खेल समाप्त होने के बाद कहा, उसने शानदार अनुशासन का प्रदर्शन किया। आजकल हर खिलाड़ी का वीडियो विश्लेषण उपलब्ध है और विरोधी टीम को आसानी से कमजोरी पता चल जाती है।आपको खुद भी अपनी कमजोरी पता होनी चाहिये ताकि उन्हें दूर करके एक कदम आगे बढ सके।विराट में उत्कृष्टता की ललक है और वह अपनी बल्लेबाजी पर काम करता रहता है।इस पारी से उसे काफी संतोष मिला होगा।

भारत के लिये दूसरा सर्वेच्च स्कोर शिखर धवन (26) का था। एक समय भारत के तीन विकेट पर 59 रन था जो पांच विकेट पर 100 और फिर सात विकेट पर 169 रन हो गया। कोहली ने मोहम्मद शमी, ईशांत शर्मा और उमेश यादव के साथ मिलकर टीम को 250 के पार पहुंचाया।

बांगड़ ने यह भी कहा कि कोहली को मिले तीन जीवनदान भारत के लिये फायदेमंद रहे।

उन्होंने कहा, अच्छी शुरूआत का हम फायदा नहीं उ"ा सके। सलामी बल्लेबाजों ने नई गेंद को बखूबी खेला। दोनों टीमों के बीच फर्क यह था कि इंग्लैंड को इन हालात में खेलने की आदत है और हम ऐसे हालात में ज्यादा नहीं खेलते। दोनों के बीच अंतर कुछ ही रन का था। एलेस्टेयेर कुक के विकेट से मुकाबला संतुलित हो गया।

यह पूछने पर कि कोहली ने श्रृंखला से पहले अपनी बल्लेबाजी के लिये क्या किया था, कोच ने कहा, वह बहुमुखी प्रतिभा का धनी है। अच्छे खिलाड़ी अपने खेल का आकलन करके उस पर काम करते रहते हैं। वह बेहतद अनुशासित है। इस पारी से उसे काफी संतोष मिला होगा।

Share it
Top