Home » खेल खिलाड़ी » अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग पैरा खिलाड़ी ने उपेक्षा से आहत होकर लौटाए मैडल

अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग पैरा खिलाड़ी ने उपेक्षा से आहत होकर लौटाए मैडल

👤 Veer Arjun | Updated on:9 Sep 2019 2:15 PM GMT

अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग पैरा खिलाड़ी ने उपेक्षा से आहत होकर लौटाए मैडल

Share Post

मेरठ । करीब 10 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय मुकाबलों में मेडल जीतकर लाने वाले दिव्यांग ओलंपियन खिलाड़ी सचिन चैधरी उपेक्षा से आहत होकर सोमवार को सरकार को अपने मैडल वापस लौट आने पर मजबूर हो गए। कैलाश प्रकाश स्पोर्ट्स स्टेडियम पहुंचे सचिन ने क्षेत्रीय क्रीडा अधिकारी को अपने मैडल वापस लौटाते हुए प्रदेश की सरकार पर दिव्यांग खिलाड़ियों की उपेक्षा का आरोप लगाया।

सरधना रोड स्थित ओम नगर के रहने वाले सचिन चैधरी पैरा पावर लिफ्टिंग के दिव्यांग खिलाड़ी हैं। अपने हौसले और जज्बे के चलते सचिन वर्ष 2012 में लंदन पैरा ओलंपियन में भी भाग ले चुके हैं। सचिन के मुताबिक वह अब तक चार कॉमनवेल्थ गेम्स और वल्र्ड चैंपियनशिप सहित कई अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में शामिल होकर 10 गोल्ड मेडल जीत चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात कार्यक्रम में भी उनकी तारीफ कर चुके हैं। राष्ट्रपति से लेकर कई गणमान्य लोग ट्वीट के जरिए उनकी उपलब्धि पर कई बार उन्हें बधाई दे चुके हैं। इस दिव्यांग खिलाड़ी का दर्द है कि ट्वीट के सहारे पेट नहीं पाला जाता। सचिन का आरोप है कि वह पिछले 10 सालों से प्रदेश सरकार से अवार्ड और खेल कोटे में सरकारी नौकरी की मांग कर चुके हैं। इसके बावजूद आज तक उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई। शासन की उपेक्षा से आहत होकर सोमवार को सचिन अपने कई दिव्यांग खिलाड़ियों के साथ स्टेडियम पहुंचे और क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी आले हैदर की मेज पर अपने सारे मेडल और प्रमाण पत्र ले जाकर रख दिए।

सचिन का कहना है कि यह सब मैडल सरकार को वापस कर दिए जाएं। क्योंकि जिस सरकार में दिव्यांग खिलाड़ियों की इस प्रकार उपेक्षा हो वहां मेडल जीतने का क्या फायदा। अपना दर्द बयान करते हुए सचिन ने बताया कि उन्होंने वर्षों पहले कैलाश प्रकाश स्पोर्ट्स स्टेडियम से ही खेल की शुरुआत की थी। उन्होंने कहा कि उनकी कहानी की शुरुआत इसी स्टेडियम से भी और संघर्ष की लड़ाई लड़ते-लड़ते उनका खेल इसी स्टेडियम में शहीद हो जाएगा। क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी आले हैदर का तर्क है कि उनके पास आज से पहले कभी इस विषय में कोई प्रार्थना पत्र नहीं दिया गया। प्रार्थना पत्र मिलने पर वह आगे इसे शासन के लिए भेजते हुए खिलाड़ियों की समस्याओं से अवगत कराएंगे।

 अमेरिका : राष्ट्रपति ट्रम्प ने गर्भपात निषेध रैली में हिस्सा लिया

अमेरिका : राष्ट्रपति ट्रम्प ने गर्भपात निषेध रैली में हिस्सा लिया

वॉशिंगटन । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शुक्रवार को गर्भपात निषेध रैली में हिस्सा लेकर हजारों प्रदर्शनकारी महिलाओं का दिल जीत लिया। यह...

 कोरोनावायरस फ्रांस पहुंचा, दर्ज हुए दो मामले

कोरोनावायरस फ्रांस पहुंचा, दर्ज हुए दो मामले

पेरिस । फ्रांस में भी कोरोनावायरस के दो नए मामले सामने आए हैं। फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस बात की पुष्टि की है। दो लोगों में से एक वह व्यक्ति...

 चीन में कोरोना वायरस से 25 की मौत, 8 सौ से अधिक संक्रमित

चीन में कोरोना वायरस से 25 की मौत, 8 सौ से अधिक संक्रमित

जेनेवा । चीन के वुहान के हूबे में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 25 हो गई है। जबकि 830 लोग अब तक संक्रमित हो चुके हैं। वुहान के सभी...

 डोनाल्ड ट्रम्प ने एक ही दिन में ट्वीट का रिकार्ड बनाया

डोनाल्ड ट्रम्प ने एक ही दिन में ट्वीट का रिकार्ड बनाया

लॉस एंजेल्स । राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोशल मीडिया प्लेटफ़ार्म पर एक ही दिन बुद्धवार को 142 ट्वीट और रिट्वीट कर अपने ही पहले रिकार्ड को तोड़कर...

 नेपाल : कम्युनिस्ट पार्टी ने 16 सीटों पर हासिल की जीत

नेपाल : कम्युनिस्ट पार्टी ने 16 सीटों पर हासिल की जीत

काठमांडू । नेपाल में गुरुवार को नेशनल असेंबली के चुनाव के नतीजे घोषित हो गए। सत्ताधारी कम्यूनिस्ट पार्टी ने 18 में से 16 सीटों पर तो उसकी गठबंधन वाली...

Share it
Top