Home » रविवारीय » मानवता के नायक

मानवता के नायक

👤 Veer Arjun Desk | Updated on:17 Sep 2018 3:52 PM GMT

मानवता के नायक

Share Post

राजेंद यादव

विगत दिनों केरल की बाढ़ के दृश्यों को टीवी पर देखते हुए कई बार बहुत घबराहट हुई, लेकिन जिस तरह लोगों को एक-दूसरे की मदद करते देखा उससे मानवता में आस्था भी मजबूत हुई। लगा कि अभी सब कुछ खत्म नहीं हुआ है। इंसानियत जिंदा है अभी। एक मनुष्य की पुकार पर दूसरा मनुष्य मदद के लिए हाथ बढ़ाता है।

केरल का राहतकार्य देखकर जीवन में विश्वास बढ़ा। यह भरोसा हुआ कि मनुष्य अपने जज्बे से तमाम मुसीबतें झेल लेगा। वह कभी अकेला नहीं पड़ेगा। बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए नैशनल डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स (एनडीआरएफ) और सुरक्षा बल तो बाद में आए, सबसे पहले मोर्चा संभाला मछुआरों ने। उन्होंने दिन-रात एक करके लोगों को बचाया। सरकार ने खुश होकर हर मछुआरे को 3000 रुपये देने का ऐलान किया, लेकिन उन्होंने पैसे लेने से इनकार कर दिया यह कहते हुए कि मानवता की भलाई की कीमत नहीं होती। सोशल मीडिया पर वायरल हुई 32 वर्षीय जैसल केपी नामक मछुआरे की तस्वीर भुलाए नहीं भूलती। जैसल कुछ महिलाओं और बच्चों को नाव से ले जा रहे थे। जब कुछ महिलाओं को नाव में चढ़ने में दिक्कत हुई तो जैसल ने लेटकर अपनी पीठ को सीढ़ी बना दिया।

सेना, एनडीआरएफ, इंडियन कोस्ट गार्ड और रैपिड ऐक्शन फोर्स के जवान दिन-रात हर तरह की मुसीबतें झेलकर लोगों को बचाते रहे। वे सिर्फ ड्यूटी नहीं कर रहे थे। वे `ड्यूटी'

से बहुत कुछ ज्यादा कर रहे थे। अगर एनडीआरएफ के कन्हैया कुमार सिर्फ ड्यूटी निभाने की जेहनियत में होते तो वह एक टूट रहे पुल से एक बच्ची को नहीं निकाल पाते। यह काम उन्होंने अपनी जान पर खेल कर किया। आखिर क्या जरूरत थी। कलेक्टर एनएसके उमेश को अपने कंधों पर चावल की बोरी ढोने की? जाहिर है वह महज सरकारी ड्यूटी नहीं कर रहे थे, इंसानियत के पति अपना फर्ज निभा रहे थे।

शौर्य चत्रढ विजेता कैप्टन पी राजकुमार ने एक ऐसे इलाके से 26 लोगों को एयरलिफ्ट किया जहां मौजूदा स्थिति में इंसान का जाना बेहद मुश्किल था। 62वीं वाहिनी स्थित बीएसएफ यूनिट ने बचाव अभियान के लिए मुख्यालय से अनुमति आने का इंतजार नहीं किया। उसके जवान बचाव में जी-जान से जुट गए। उन्होंने अपना राशन बाढ़ पीड़ितों में बांट दिया। उन्होंने अपनी जेब से तत्काल 1.80 लाख रुपये जमा कर पीड़ित को दे दिए। हमें अपने सिस्टम और उसकी एजेंसियों का सिर्फ दोष देखने की आदत सी हो गई है। बुराई की इतनी चर्चा होती है कि हमें लगता है कि हमारे चारों ओर सब कुछ बुरा ही है। असल में बुराई जोर-जोर से बोलती है और अच्छाई चुप रहकर अपना काम करती है।

 महाभियोग : ट्रंप ने कहा- मैने कुछ गलत नहीं किया

महाभियोग : ट्रंप ने कहा- मैने कुछ गलत नहीं किया

वाशिंगटन । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने विरुद्ध चल रही महाभियोग की कार्रवाई को देश के इतिहास में दोहरा मापदंड अपनाने वाला बताते हुए...

 संघर्ष विराम के बावजूद इजराइली और फिलिस्तीनियों में संघर्ष

संघर्ष विराम के बावजूद इजराइली और फिलिस्तीनियों में संघर्ष

गाजा सिटी । दो दिन पूर्व शुरू हुए संघर्ष विराम के बावजूद इजराइली सेना ने गाजा की फिलिस्तीनी बस्तियों पर रॉकेट दागे। सेना ने कहा कि पूर्व के अभियानों...

 श्रीलंका में मतदाताओं पर हमला, बस रोककर की गई गोलीबारी

श्रीलंका में मतदाताओं पर हमला, बस रोककर की गई गोलीबारी

कोलंबो । श्रीलंका में सुरक्षा के अभूतपूर्व प्रबंधों के बीच शनिवार राष्ट्रपित चुनाव के लिए हो रहे मतदान के बीच सुबह हथियारबंद कुछ अज्ञात हमलावरों ने...

 श्रीलंका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान जारी

श्रीलंका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान जारी

कोलंबो । श्रीलंका में शनिवार को कड़ी सुरक्षा के बीच राष्ट्रपति चुनाव के लिए सुबह सात बजे मतदान शुरू हो गया। लोग शाम पांच बजे तक अपने मताधिकार का...

 इंडोनेशिया में 7.1 तीव्रता का भूकंप

इंडोनेशिया में 7.1 तीव्रता का भूकंप

जकार्ता । इंडोनेशिया में गुरुवार देर रात उत्तरी मालुकु प्रांत के तटवर्ती क्षेत्र में शक्तिशाली भूकंप के झटके महसूस किए जाने के बाद सुनामी की चेतावनी...

Share it
Top