Home » उत्तर प्रदेश » मुस्लिम फोरम ने मुख्यमत्री को हापुड़ हत्याकाण्ड के विरोध में ज्ञापन सौंपा

मुस्लिम फोरम ने मुख्यमत्री को हापुड़ हत्याकाण्ड के विरोध में ज्ञापन सौंपा

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:2018-06-19 16:55:18.0
Share Post

अलीगढ़, (वीअ)। फोरम फॉर मुस्लिम स्टैडीज एण्ड एनालिसिस (एफ0एम0एस0ए0) अलीगढ़ ने उत्तर पदेष के मुख्यमत्री योगी आदित्य नाथ का ध्यान हिन्दुत्वा संग"नों की हिंसात्मक कार्यवाहियों और और रक्षा के नाम पर हत्याओं की ओर एक ज्ञापन के माध्यम से आकर्शित किया है जिसमें हापुड़ क्षेत्र के पिलखुआ पुलिस स्टेषन के अर्न्तगत बझैड़ा ग्राम मे दो मुस्लिम यूवकों पर हमला भी सम्मिलित है जिसके परिणाम स्वरूप एक युवक की मृत्यु हो गई।

इस सम्बन्ध मे फोरम फॉर मुस्लिम स्टैडीज एण्ड एलासिसिस (एफ0एम0एस0ए0) के निदेषक डॉ0 जसीम मोहम्मद ने बताया कि उत्तर पदेष मे तथाकथित गौ रक्षकों और हिन्दुत्वा संग"नों द्वारा गौ रक्षा के नाम पर बेगुनाह मुसलमानों की हत्या चिन्ताजनक है। उन्होंने कहा कि हापुड़ के पिलखुआ पुलिस स्टेषन के अर्न्तगत बझैड़ा ग्राम मे दो मुस्लिम यूवकों कासिम और समयउद्दीन पर तथाकथित गौ रक्षकों द्वाा हमला किया गया जब वे दो गाय और एक बछड़े को लेकर जा रहे थे। डॉ0 जसीम मोहम्मद ने बताया कि हमले के फलस्वरूप कासिम की मृत्यु हो गई जबकि समयउद्दीन गम्भीर रूप से घायल है। डॉ0 जसीम मोहम्मद ने कहा कि पधानमत्री नरेन्द मोदी ने अपनी नीति सबका साथ सबका विकास के अर्न्तगत देष को विकास के रास्ते पर आगे बढ़ा रहे है और आज भारत विष्व मे एक आर्थिक षक्ति के रूप मे उभर रहा है परन्तु तथाकथित गौ रक्षकों और हिन्दुवादी संग"नों की हिसांत्मक कार्यवाहियों तथा हत्यायों के कारण पधानमत्री नरेन्द मोदी का एजेन्डा विफल हो रहा है तथा विष्व पटल पर नकारात्मक सन्देष जा रहा है। डॉ0 जसीम मोहम्मद ने बताया कि मुस्लिम फोरम ने उत्तर पदेष के मुख्यमत्री योगी आदित्य नाथ को एक ज्ञापन भेजा है जिसमे हापुड़ क्षेत्र मे तथाकथित गौ रक्षकों द्वारा दो मुस्लिम यूवकों की पिटाई, एक युवक कासिक की हत्या तथा दूसरे यूवक समयउद्दीन के घायल होने की ओर दिलाया है। उन्होंने बताया कि मुस्ल्मि फोरम ने माँग की है कि मृतक क्aाढासिम के परिवार का पचास लाख रूपये और गम्भीर रूप से घायल समयउद्दीन को दो लाख का मुआवजा दिया जाए। मुस्लिम फोरम ने यह भी माँग की है कि सरकार पदेष सरकार पर सभी धर्मों के चिन्तकों, बुद्धिजीवियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं के एक सदभावना समिति ग"ित करें जो पदेष मे सदभावना और सहिश्णुता को बढ़ावा दें।

Share it
Top