Top
Home » उत्तर प्रदेश » रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही ऊर्जा को बनाये रखने में भी सहायक है कटहल

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही ऊर्जा को बनाये रखने में भी सहायक है कटहल

👤 manish kumar | Updated on:6 March 2021 10:18 AM GMT

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ही ऊर्जा को बनाये रखने में भी सहायक है कटहल

Share Post

लखनऊ । बाजार में कटहल आ गया है। कच्चे स्थिति में सब्जी, कोफ्ता, अचार आदि के साथ ही पकने पर कोवा के रूप में खाया जाने वाला फल स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक है। इसको संतुलित रूप से खाने पर यह शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के साथ ही शरीर में ऊर्जा बनाये रखने में सहायक है। इसके साथ ही ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के साथ ही हडि्डयों को भी मजबूत बनाता है।

इस सम्बन्ध में आयुर्वेदाचार्य डॉ. एसके राय ने बताया कि यह विटामिन सी का उत्कृष्ट स्रोत है। सफेद रक्त कोशिकाओं के कामों को बल प्रदान करता है। यह स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली वायरल और बैक्टीरियल संक्रमणों के खिलाफ एक मजबूत प्रतिरोधक क्षमता बनाता है। इससे खांसी, सर्दी और फ्लू को रोकने में काफी मदद मिलती है। सौ ग्राम जैकफ्रूट से 13.8 मिग्रा विटामिन सी मिल जाती है।

उन्होंने बताया कि एंटी आक्सीडेंट गुण के कारण उच्च आक्सीकारक तनाव और प्रदूषण के कारण मुक्त कणों की क्षति को रोकते हैं। बदले में यह उम्र की प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं, जिससे झुर्रियां, फाइन लाइन्स और सूखेपन की उपस्थिति कम हो जाती है। इसके साथ ही लोहे की कमी कारण होने वाले एनीमिया में भी काफी फायदेमंद है। यह लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ाता है।

डॉ. राय के अनुसार कटहल हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में भी सहायक है। इसके हृदय के स्वास्थ्य में सुधार होता है। यह सोडियम स्तर को नियंत्रित करके रक्तचाप को विनियमित करता है। इसमें फैक्ट्रोज व सुक्रोज जैसे सरल शर्करा शामिल हैं। इससे शरीर को ऊर्जा मिलती है।

उन्होंने बताया कि कटहल में मौजूद विटमिन के कारण आंखों के लिए भी काफी फायदेमंद है। इससे मोतियाबिंद, रात का अंधापन, धब्बेदार अध: पतन को रोकने में सहायक है। विटामिन ए भी श्लेष्म झिल्ली को मजबूत करने में मदद करता है, जो कार्निया पर एक परत बनाता है। इससे आंखों की रक्षा होती है। एजेंसी/हिस

Share it
Top