Home » द्रष्टीकोण » क्यों फिसल रहा है विश्व व्यापार संगठन

क्यों फिसल रहा है विश्व व्यापार संगठन

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:2018-12-31T21:34:16+05:30
Share Post

वर्ष 2015 में भारत ने जापान से आयातित कुछ विशेष प्रकार के स्टील पर आयात कर बढ़ा दिए थे। भारत का कहना था कि अपने घरेलू स्टील उद्योगों को बचाने के लिए जापान से हो रहे स्टील के आयात पर आयात कर बढ़ाना जरूरी था। हाल में विश्व व्यापार संगठन यानि डब्ल्यूटीओ ने निर्णय दिया है कि भारत द्वारा लगाए गए ये आयात कर अनुचित थे।

डब्ल्यूटीओ का कहना है कि घरेलू उद्योगों को बचाने के लिए अयात कर तभी बढ़ाए जा सकते हैं जब आयातों में तीव्र वृद्धि हो जोकि घरेलू उद्योग के लिए कठिनाई पैदा करे। घरेलू उद्योगों को हानि हो तो भी सामान्य रूप से बढ़ रहे आयातों पर आयात कर नहीं बढ़ाए जा सकते हैं। इसी प्रकार कुछ वर्ष पूर्व अमेरिका ने भारत से आयातित स्टील पर भी आयात कर बढ़ा दिए थे। तब भी डब्ल्यूटीओ ने निर्णय दिया कि था कि अमेरिका द्वारा लगाए गए आयात कर अनुचित हैं।

इसी क्रम में चीन और अमेरिका में चल रहा ट्रेड वार को भी देखा जाना चाहिए। अमेरिका का कहना है कि चीन के सस्ते आयात उसके अपने घेरेलू उद्योगों को नष्ट कर रहे हैं। इसलिए राष्ट्रपति ट्रंप ने चीन से आयातित माल पर आयात कर बढ़ा दिए हैं। इन प्रकरणों से स्पष्ट होता है कि प्रमुख देशों के लिए मुक्त व्यापर अब लाभ का सौदा नहीं रह गया है। अब इससे उन्हें हानि दिखने लग गई है। इसलिए तमाम देश मुक्त व्यापार से पीछे हट रहे हैं। वर्ष 1995 में जब डब्ल्यूटीओ की संधि पर दस्तखत किए गए थे उस समय अमेरिका मुक्त व्यापार का पुरजोर समर्थन कर रहा था। आज वही अमेरिका उसी मुक्त व्यापार का विरोध कर रहा है। आज ऐसा क्या हो गया है कि अमेरिका के ही नहीं बल्कि तमाम प्रमुख देशों की चाल में परिवर्तन ला रहा है?

विषय को समझने के लिए मुक्त व्यापार के सिद्धांत को समझना होगा। मुक्त व्यापर का सिद्धांत कहता है कि जो देश जिस माल को सस्ता बनाता है उसे उसी माल को बनाना चाहिए और दूसरे देशों से शेष माल का आयात करना चाहिए। जैसे मन लीजिए अमेरिका में सेब का उत्पादन सस्ता होता है और भारत में चीनी का। ऐसे में अमेरिका को सेब का उत्पादन करना चाहिए और चीनी का आयात करना चाहिए जबकि भारत को चीनी का उत्पादन चाहिए और सेब का आयात करना चाहिए। ऐसा करने से अमेरिकी सस्ते सेब और भारतीय सस्ती चीनी भारत और अमेरिका दोनों के उपभोक्ताओं को मिल जाएगी। ऐसा मुक्त व्यापार दोनों देशों के लिए लाभप्रद है।

अब इसमें थोड़ी अलग परिस्थिति पर विचार करें। मान लीजिए अमेरिका कंप्यूटर सस्ते बनता है और भारत चीनी सस्ती उद्पादित करता है। मुक्त व्यापार के सिद्धांत के अनुसार भारत को अमेरिका से कंप्यूटर खरीदने चाहिए और चीनी का निर्यात करना चाहिए। लेकिन अमेरिका विश्व में अकेला कंप्यूटर का निर्माता है जैसे आज अमेरिका की माइक्रोसॉफ्ट कंपनी विश्व में अकेली विंडोज सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम की निर्माता है। ऐसे में माइक्रोसॉफ्ट के लिए विंडो सॉफ्टवेयर को मनचाहे ऊंचे दाम पर बेचना संभव होता है चूंकि उसका बाजार पर एकाधिकार अथवा मोनोपोली है। इस परिस्थति में मुक्त व्यापार का चरित्र बदल जाता है। अमेरिका विंडोज सॉफ्टवेयर को पूरे विश्व को महंगा बेच सकता है और भारत से चीनी, बंगलादेश से चावल, वियतनाम से काफी आदि सस्ते माल का आयात कर सकता है। ऐसा मुक्त व्यपार अमेरिका के लिए दोहरे लाभ का सौदा है।

एक तरफ उसे विंडोज सॉफ्टवेयर के निर्यात से भारी आय होगी तो दूसरी तरफ चीनी, चावल और काफी सस्ती उपलब्ध हो जाएंगे। ऐसी परिस्थिति में विश्व व्यापार उन्हीं देशों के लिए लाभप्रद होता है जिनके पास एकाधिकार वाले कुछ उत्पाद हैं जिन्हें वे मनचाहे दाम पर निर्यात कर सकें।

1995 में जब डब्ल्यूटीओ संधि बनाई गई उस समय अमेरिका में तमाम एकाधिकार वाले उत्पादों का आविष्कार हो रहा था। विंडोज सॉफ्टवेयर उसी समय की देन है। इसके आलावा इंटरनेट के राउटर, बिजली से चलने वाली कारें तथा अन्य तमाम नये हाई टेक उत्पाद अमेरिका में बन रहे थे। इनका अमेरिका ऊंचे दामों में निर्यात कर रहा था और विश्व से सस्ते माल आयात कर रहा था। अमेरिका उस समय मुक्त व्यापार को बढ़ावा दे रहा था। उस समय हमारे नेता मुक्त व्यापार के इस पक्ष को भूल गए कि मुक्त व्यापार के अंतर्गत एकाधिकार वाले माल का आयात करके वे घाटा खाएंगे।

अब अमेरिका की परिस्थिति बदल गई है। वर्तमान में अमेरिका में नए आविष्कार नहीं हो रहे हैं। इसलिए अमेरिका और भारत की परिस्थिति सेब और चीनी जैसी बराबरी की हो गई है। साथ-साथ अमेरिका में श्रमिकों के वेतन अधिक और भारत में श्रमिकों का वेतन कम है। भारत में बना माल अमेरिका की तुलना में सस्ता पड़ता है। इसलिए अमेरिकी उद्योग भारत जैसे देशों के सामने खड़े नहीं हो पा रहे। यही कारण है कि अमेरिका आज मुक्त विश्व व्यापार से पीछे हट रहा है।

सारांश यह है कि मुक्त व्यापार का सिद्धांत तभी तक सफल होता है जब हर माल के तमाम उत्पादक हों और इनकी प्रतिस्पर्धा से विश्व बाजार में सभी माल का दाम न्यून बना रहे जैसे सेब और चीनी के। वही मुक्त व्यापार उस परिस्थिति में सफल नहीं होता जहां कुछ माल को विशेष देश मनचाहे दाम पर बेच सकें। तब मुक्त व्यापार ऐसे देशों के लिए लाभप्रद होता है और जो देश सामान्य माल जैसे चीनी और काफी उत्पादन करते हैं उनके लिए वह घाटे का सौदा हो जाता है। वर्तमान में अमेरिका समेत संपूर्ण विश्व की परिस्थिति इसी प्रकार की हो गई है। विश्व के किसी भी देश के पास कोई विशेष तकनीकी आविष्कार नहीं है जिनको वे ऊंचे दाम में बेचकर लगातार भारी मुनाफा कमा सकें। इसलिए विश्व के सभी प्रमुख देश मुक्त व्यापार से पीछे हट रहे हैं। इनमें उन देशों के लिए विशेष संकट है जिनके वर्तमान में वेतन अधिक हैं जैसे अमेरिका और जापान के।

इन देशों के लिए अपने माल को विश्व बाजार में बेचना कठिन होता जा रहा है क्योंकि वही माल भारत और वियतनाम सस्ता बनाकर विश्व बाजार में बेच रहें हैं। हमें समझ लेना चाहिए कि मुक्त व्यापार का तार्पिक परिणाम होता है कि विश्व के सभी देशों में श्रमिक के वेतन बराबरी पर आएंगे।

चूंकि अमेरिका और जापान अपने श्रमिकों के वेतन विश्व के एक स्तर पर लाने को तैयार नहीं हैं, वे अपने श्रमिकों का वेतन ऊंचा बनाए रखना चाहते हैं, इसलिए अमेरिका और जापान जैसे विकसित देश विशेष रूप से मुक्त व्यापार से पीछे हटेंगे और आने वाले समय में हम मुक्त व्यापार का विघटन देखेंगे। भारत को भी समय रहते मुक्त व्यापार से पीछे हटने की तैयारी करनी चाहिए और अपने घरेलू उद्योगों को संरक्षण देकर अपनी जनता का हित हासिल करना चाहिए।

डॉ. भरत झुनझुनवाला

Share it
Top