Home » द्रष्टीकोण » राष्ट्र-साधना का बीजमंत्र वंदेमातरम

राष्ट्र-साधना का बीजमंत्र वंदेमातरम

👤 veer arjun desk 5 | Updated on:2019-01-08T21:03:22+05:30
Share Post

पमोद दीक्षित `मलय'

मप के सरकारी कार्यालयों में पत्येक महीने की पहली तारीख को पूर्व मुख्यमंत्री बाबू लाल गौर के समय से चल रहे वंदेमातरम के सामूहिक गायन की परंपरा को नई सरकार द्वारा रोक देने की घटना को पूरे देश में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के रूप में देखा जा रहा है। आमजन के साथ ही राजनीतिक दलों, खासकर भाजपा ने इस कृत्य को विभाजनकारी मानसिकता बताते हुए मुखर विरोध किया है और अपने विधायकों एवं कार्यकर्ताओं के साथ सचिवालय के सामने वल्लभ मैदान में गायन किया। जबकि नाथ सरकार का कहना है कि गायन पर रोक नहीं लगाई गई बल्कि निलंबित किया गया है ताकि नए स्वरूप में पस्तुत किया जाएगा। तो अब यह समझना जरूरी हो गया है कि इस गीत में आखिर क्या है जो एक वर्ग विशेष के विरोध का कारण बनता रहा है और कुछ राजनीतिक दल इस मुद्दे पर उनके साथ जुड़ जाते हैं। क्यों संसद और विधानसभाओं में वंदेमातरम का बहिष्कार किया जाता है। क्या ऐसा नहीं लगता कि वोट बैंक की राजनीति से उबर कर सभी दल राष्ट्रहित के पथ का अनुसरण करते हुए देश एकता और अखंडता के लिए समान रूप से काम करें।

जब हम वंदेमातरम गीत की रचना की पृष्ठभूमि, इतिहास और स्वतंत्रता आंदोलन में उसकी महती भूमिका को देखते हैं तो स्पष्ट होता है कि वंदेमातरम न केवल नारा है न गीतांश और न है कोरे शब्दों का समुच्चय। इन शब्दों में भरी है असीम ऊर्जा, गति, पवाह, अमरत्व, राष्ट्रलय, आनंद बल्कि महाआनंद, महाराग। इन शब्दों ने हजारों-हजार युवकों को समाज और देश के लिए सर्वस्व अर्पण करने की पेरणा दी, शक्ति दी और संबल भी। वंदेमातरम केवल गीत नहीं है बल्कि भारत माता की वंदना को समर्पित राष्ट्र का समवेत अग्निस्वर है, एक ऋचा है, एक पुण्य श्लोक है। संस्कृत और बंग्ला की मिलीजुली भाषा में रचित इस राष्ट्रीय गीत में नारी शक्ति के उदात्त चरित्र की अर्चना एवं श्लाघा की गई है। सदानीरा सरिताओं के जल से सिंचित, उवर्रक कर्मभूमि में खड़े पुष्प और फलों से लदे हरे-भरे वृक्ष, शीतल मलय समीर के झोंकों से हिलडुल कर मां की वंदना कर रहे हैं। रिपुदल का मानमर्दन करने वाली अतिबला मां ही हमारा हृदय है, विद्या और धर्म है। वही पाण है, वही शक्ति और भक्ति है। मां की पतिमा ही गांव-गांव में वस्तुतः हम सभी के हृदय में विराजमान और सुशोभित है। ऐसी दुर्गास्वरूपा तेजोदीप्त मातृभूमि को सादर वंदन है, नमन है।

`वंदेमातरम' गीत ऋषि बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय द्वारा 1882 में लिखित कालजयी औचन्यासिक कृति `आनंदम"', जिसमें उनके पखर राष्ट्रपेम का उन्मेश हुआ है, का एक अंग है। वंदेमातरम गीत ने वर्ग, पंथ, धर्म और जातीय स्वार्थ के दल-दल में फंसे खंडित क्षेत्रीय समाज को मानवीय दुर्बलताओं से उबार कर राष्ट्रीय एकता के सूत्र में पिरोकर भारतमाता की स्वतंत्रता के लिए कंधे से कंधा, हृदय से हृदय, कदम से कदम मिलाकर अत्याचारी ब्रिटिश शासन सत्ता के विरुद्ध लड़ने-मरने की पेरणा दी। यह गीत आजादी के दीवानें का कं"हार बन अंग्रेजी सत्ता के विरुद्ध युद्ध का शंखनाद था। वास्तविकता तो यह है कि यह केवल गीत नहीं वरन राष्ट्रीय साधना का बीजमंत्र है, क्रांतिकारियों का पेरणास्रोत और पथप्रदर्शक है। वंदेमातरम गीत की रचना 26 अक्तूबर 1875 कार्तिक शुक्ल नवमी की पुनीत संध्या में स्वतंत्र रूप से हुई थी जिसे बाद में क्रांतिधर्मा उपन्यास `आनंदम"' में सम्मिलित कर लिया गया था। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के 1886 में कलकत्ता में सम्पन्न दूसरे अधिवेशन में हेमचन्द्र बंदोपाध्याय ने पथम बार वंदेमातरम गीत के कुछ पद गाए थे, जबकि 1896 के कलकत्ता अधिवेशन में रवीन्द्रनाथ टैगोर ने पूरा गीत गाया। 1901 के बाद कांग्रेस के पत्येक अधिवेशन में यह गीत गाया जाने लगा। लेकिन 1906 में मुस्लिम लीग की स्थापना के समय से ही इसका विरोध शुरू हो गया। 1923 में कांग्रेस के काकीनाड़ा अधिवेशन के अध्यक्ष मौलाना मुहम्मद अली ने वंदेमातरम गायन का विरोध करते हुए कहा कि यह गीत इस्लाम विरुद्ध है, अतः नहीं गाया जाएगा।

वंदेमातरम गीत देशभक्तों की सांसों में रच बस गया। इस गीत के पीछे सारा देश पागल हो उ"ा। 1905 में गवर्नर लयॉर्ड कर्जन द्वारा बंग-भंग की घोषणा के विरोध में 16 अक्तूबर 1905 के दिन उमड़े जन आंदोलन में इस गीत ने पाण पूंक दिए। विरोध की यह आंधी रुकी नहीं, थमी नहीं बल्कि तीव्र वेग से बढ़ती ही गई। अंततः अंग्रेज सरकार को घुटने टेकने पड़े और बंग-भंग का निर्णय रद्द हो गया। यह जीत वंदेमातरम की थी। इतिहास पसिद्ध बंगाल की `अनुशीलन समिति' नामक क्रांतिकारी संग"न में सम्मिलित होने वाले पत्येक युवक को `ओम वंदेमातरम' की शपथ लेनी पड़ती थी। गणेश दामोदर सावरकर की संस्था `अभिनव भारत'' की बै"कों में वंदेमातरम का जयघोष एक अनिवार्य हिस्सा होता था। 17 जनवरी 1883 को अदन की जेल में जब वासुदेव बलवंत फड़के को फांसी पर चढ़ाया गया तो वंदेमातरम के घोष से कारागार की दीवारें पतिध्वनित होती रहीं। कलकत्ता के जिला जज किंग्सफोर्ड पर बम फेंकने का आरोपी किशोर नायक खुदीराम बोस 11 अगस्त 1908 वंदेमातरम का घोष करता हुआ फांसी पर चढ़ गया। कर्जन वायली को एक जुलाई 1919 को मौत की नींद सुलाने वाले मां भारती के तपःपूत मदनलाल ढींगरा को जब 17 अगस्त 1909 को पैंटोन विले जेल में फांसी पर लटकाया गया तो उनके मुख से भी वंदेमातरम गीत का ही स्फुरण हो रहा था। गणेश दामोदर सावरकर के `लघु अभिनव भारत मेला' नामक कविता संग्रह को अंग्रेजी शासन के विरुद्ध विद्रोह और युद्ध छेड़ने वाला मानकर उनको काले पानी की सजा देने वाले जज जैक्सन को 21 दिसम्बर 1909 को मौत की नींद सुलाने वाले भारते मां के वीर पुत्रों अनंत लक्ष्मण कन्हेरे, विनायकराव देशपांडे और कृष्णगोपाल कर्वे ने भी 19 अपैल 1910 को वंदेमातरम गाते हुए फांसी के फंदे को पुष्पहार समझ स्वयं ही कं" में धारण कर मां भारती के चरणों में अपने पाण न्यौछावर कर दिए। दो आजीवन कारावास की सजा पाप्त वीर विनायक दामोदर सावरकर अंडमान के कैदियों को वंदेमातरम गीत गाकर उत्साह भरते रहे। मैडम भीकाजी कामा ने पेरिस में 10 सितम्बर 1909 को राष्ट्रीय विचार धारा का एक समाचार पत्र निकाला तो उसका नाम वंदेमातरम ही रखा। 14 अगस्त 1947 की मध्यरात्रि में जब देश ने स्वतंत्रता के पथ पर पहला कदम रखा तो श्रीमती सुचेता कृपलानी ने वंदेमातरम का गायन किया और उपस्थित लन समुदाय सम्मान में खड़ा रहा। वहीं 15 अगस्त की पहली सुबह को रेडियो पर पंडित ओंकारनाथ "ाकुर ने इस गीत का गायन किया।

वंदेमातरम गीत ने समस्त देशवासियों को आजादी की बलिवेदी पर सर्वस्व अर्पित करने के लिए अनुपाणित और अनुपेरित किया। वंदेमातरम जन साधारण में आम अभिवादन का माध्यम बन गया। उसके उच्चारण पर अंग्रेजी शासन ने पतिबंध लगा दिया। वंदेमातरम के उच्चारण पर बेंत से पीट-पीटकर लहूलुहान कर दिया जाता था, लेकिन यह गीत न तो बंद हो सका न दब सका। यत्र तत्र सर्वत्र वंदेमातरम की गूंज सुनाई देती और देश में ऊर्जा-उत्साह का संचार करती रही। बीबीसी लंदन ने अपनी 70वीं वर्षगां" पर 20वीं सदी के सर्वाधिक लोकपिय गीतों पर सर्वेक्षण किया जिसमें 153 देशों के चयनित डेढ़ लाख लोंगों ने मतदान में हिस्सा लिया और वंदेमातरम गीत को गत सदी के लोकपिय गीतों में दूसरा स्थान मिला। 24 जनवरी 1950 को लोकसभा के अधिवेशन में पार्थना गीत के रूप में स्वीकार किया गया। विश्वनाथ मुखर्जी ने अपनी पुस्तक `वंदेमातरम का इतिहास' में लिखा है कि जिस गीत के कारण सदियों से सुप्त देश जाग उ"ा, बंग-भंग आंदोलन के समय जो गीत धरती से आकाश तक गूंज उ"ा, बंगाल की खाड़ी से जिसकी लहरें इंग्लिश चैनल पारकर ब्रिटिश पार्लियामेंट तक पहुंच गईं, जिस गीत के कारण बंगाल का बंटवारा ना हो सका, उसी गीत को अल्पसंख्यकों की तुष्टि के लिए खंडित किया गया। जो गीत गंगा की तरह पवित्र, स्फटिक की तरह निर्मल और देवी की तरह पणम्य है, उसी गीत को स्वतंत्रता पाप्ति के बाद दूध की मक्खी की तरह निकाल दिया गया। भारतीय राजनीति का यह निर्मम परिहास कैसा है, इसका निर्णय भारत के भावी वंशधर करेंगे।

Share it
Top