Top
Home » द्रष्टीकोण » अतीत में न जकड़े रहें, आपको भविष्य में जीना है

अतीत में न जकड़े रहें, आपको भविष्य में जीना है

👤 veer arjun desk 5 | Updated on:4 May 2019 3:45 PM GMT
Share Post

हरीश बड़थ्वाल

'अब न रहे वे पीने वाले, अब न रही वह मधुशाला'। लोकप्रिय कवि हरिवंश राय बच्चन की इस पंक्ति में दो इशारे हैं। पहला इस सोच पर तिरछी नजर है कि गया जमाना हर मायने में आज के जमाने से बेहतर था। दूसरा अहंकार पर व्यंग्य हैöकोई था तो हम थे, किसी का वक्त था तो हमारा था। यह भाव दिमाग में "tंसे एक ढूंढोगे दस मिलेंगे, दूर ढूंढोगे पास मिलेंगे! कहीं भी, कहीं भी, बस मौका मिलना चाहिए। अपनी, अपने वक्त की, और अपने बच्चों की हेकड़ियों की पुड़ियों एक-दर-एक खोलना शुरू कर देंगे। इस बिरादर वालों की हर बात 'मैं' या 'मेरा' से शुरू होती है, 'मैं' से विस्तार पाती है और 'मैं' पर खत्म होती है।

क्यों सदा कोसते रहते रहते हैं कुछेक आज के लोगों और हालातों को? अतीत में लिपटे इनमें अधिसंख्य छिद्रान्वेषी हैं, जो प्रायः दूसरों में खोट ढूंढते हैं। उपलब्ध साधनों, परिस्थितियों और परिवेश में सब गड़बड़ दिखते रहना है एक मनोवृत्ति है। ऐसों को अपनी छोटी-सी दुनिया से परे कुछ भी दिखना, सूझना बंद हो जाता है। मन और दिल के दरवाजे सीलबंद कर चुके, दूसरों की प्रशंसा सुनने की इनकी क्षमता चुक गई होती है। कोई व्यक्ति कितनी खुली यानी प्रगतिशील सोच का है इसका एक पैमाना यह है कि उसे दूसरों की प्रशंसा कितना रास आती है।

सामने खड़ी समस्या या पशोपेश की परिस्थिति में आपके पास दो विकल्प रहते हैं, पहला समाधान तलाशने के लिए जूझें, इसके लिए मशक्कत करनी होगी। दूसरा विकल्प है, आंखें बंद कर ली जाएं, समस्या दिखेगी ही नहीं। घुटने टेकने वाले आश्वस्त रहते हैं कि कुछ करना उनके वश की नहीं है और जब ऐसी धारणा बना ली जाती है तो व्यक्ति भविष्य की चुनौतियों के आगे कुछ करने में वास्तव में अक्षम हो जाता है। इतना ही नहीं, आपके बेहतर वर्तमान से भयभीत वे आपके अतीत के अप्रिय उदाहरण पेश करेंगे, आपको गिराने की दृष्टि से।

परमार्थ भाव के अपने एक परिजन नियमित रूप से रक्तदान करते थे। उनकी प्रशंसा कर रहा था तो एक गृहस्वामिनी को सहन न हुआ। तपाक से बोलीं, मेरे फलां मामाजी तो प्रत्येक सप्ताह रक्तदान करते थे। जिनका उन्होंने उल्लेख किया उन लम्पट, निहायत खुदगर्ज मामा को मैं बाखूबी जानता था किंतु मैंने इतना ही कहा, 'उनकी यह उदारता का कहीं और किसी और से बखान नहीं करना।' मामा की प्रतिष्ठा पर तल्ख टिप्पणी उनकी बर्दाश्त के बाहर थी। तुरंत प्रतिक्रिया आई, 'क्यों न बताऊं, मैं तो सब को बताऊंगी।' उनके स्वर में आक्रोश, चेहरे पर तिलमिलाहट और हावभाव में अहंकार था। पत्नी को सिर-आंखों पर रखने के लिए बदनाम किंतु मेरे शब्दों को यूं ही नहीं खारिज करने वाले उस महिला के धैर्यशील पति ने शुद्ध जिज्ञासावश मेरी सलाह का कारण जानना चाहा। मैंने बताया, पैसे के लालच में नशैड़ी अकसर बार-बार, छद्म नामों से रक्तदान करते हैं, चूंकि तीन महीना पूरा होने से पहले अगला रक्तदान स्वीकार नहीं किया जाता, यह नशैड़ी यह नहीं बताते कि उन्होंने हालिया रक्तदान किया है।

भरमार है उनकी जो नए स्कूल-कॉलेज, दफ्तर या शहर में बरसों-दशकों रचने-पचने के बाद भी पुरानी जगह के तारीफों के पुल बांधते नहीं अघाते, साथ ही मौजूदा माहौल से असंतुष्टि जताते उसे कोसते रहते हैं। उनसे पूछा जाए, पिछली जगह इतनी शानदार, खुशनुमां थी तो यहां क्यों चले आए? या अभी भी वहीं वापस क्यों नहीं लौट जाते? हकीकत है, वहां भी उनका यही दुखड़ा रहता था।

अतीत में जकड़ी सोच की मुश्किलेंö व्यक्ति का मानसिक, बौद्धिक या सामाजिक स्तर जैसा भी हो, उसने जितना जिंदगी में देखा, जाना, समझा, पाया उससे बेहतर संभव ही न था, यह अतीत में उलझी तुच्छ सोच की विवशता है। उम्र की ढलान पर जब सुधार की गुंजाइश नहीं दिखती तो इस खुशफहमी में जीना शायद जरूरी है कि अध्यनकाल में उनके सरीखा कुशाग्र छात्र, और प्रौढ़ावस्था में उनकी टक्कर का कर्तव्यपरायण, साहसी और धांसू कोई अन्य नहीं रहा; उन जैसा व्यवहारकुशल, बुद्धिमान, दरियादिल, दूरदृष्टा और सर्वगुण सम्पन्न शख्स कोई दूसरा कैसे हो सकता है? उम्र के इस मोड़ पर उसे अहसास जगे, यह खयाल उनके जेहन में घुस जाए कि उसने ताउम्र झक्क मारी है, तो उसके जीवन में रिक्तता पसर जाएगी, मन-चित्त निवशा में डूब जाएगा, उनके पास जीने का सहारा नहीं बचेगा। वर्तमान वस्तुओं, उपभोग्य पदार्थों, नजारों में लुत्फ खत्म हो जाने की शिकायत करते संकुचित सोच के उम्रदारों के गले नहीं उतरता कि केला, जलेबी या अन्य खाद्य पदार्थ बेस्वाद नहीं हो गए हैं, बल्कि उनकी स्वाद ग्रहण करने की ग्रंथियां वक्त के साथ कमजोर पड़ रही हैं।

उनका यही नकारात्मक रवैया आज के टीवी सीरियलों, फिल्मों, गीतों, कलाकारों के प्रति झलकता है। उन्हें सुहाता है तो गए दौर की फिल्में, कथानक, पुराने गीत, गीतकार, जिनकी कं" खोल तारीफ करते वे नहीं थकते। वे नहीं समझना चाहते कि पहले भी बेसिर-पैर की कचरा फिल्में खूब बनती थीं।

ऐसे बेतुके गाने भी हुआ करते थे, 'ओ चल मेरे साथी, ओ मेरे हाथी...'। यह दूसरी बात है कि हर सौ फिल्मों में से दो एक ही इतनी उम्दा रहीं कि वे दशकों तक लोकमानस में छाईं रहीं, उनकी तुलना आज की औसत फिल्म से करना उचित न होगा। जैसे वर्ष 2019 के अंत तक एकाध एकाध फिल्म श्रेष्" रहती है तो तवोज्जो उसे दें। आज की फिल्मों, नाटकों आदि की इकतरफा भर्त्सना से आप अपनी मानसिक सेहत ही खराब करेंगे और मौजूदा हालातों का आनंद उ"ाने में असमर्थ हो जाएंगे। पीने वाले अब भी हैं, मधुशालों भी हैं, बस किरदार नए आ गए हैं, "wया भी बदल गए हैं।

अपने शहर, गांव या जन्मस्थान पर अभिमान होने में कोई बुराई नहीं, बल्कि यह अपना आत्मसम्मान बनाए रखने के लिए आवश्यक है। किंतु इनकी बड़ाई में सरोबार हो कर, दूसरों के शहर, गांव या जन्मस्थान को दोयम दर्जे का करार करना आपको खुशनुमां नहीं रखेगा, उनकी आलोचना-भर्त्सना का आपको अधिकार नहीं। आपके बच्चों द्वारा एकबारगी खेल या पढ़ाई में छक्के बनाने के गुणगान से, उन्हें ताड़ में चढ़ाने से उनका हित नहीं सधेगा; अहम है, उनके द्वारा वर्तमान में के जाते कार्य, इन्हीं से उनकी बेहतरी की राह खुलेगी। क्या यह आप सुनिश्चित कर सकेंगे?

दूर का सुनहरा दृश्य समीप आ कर बालू का मैदान हो जाता है। जो अपने पास नहीं है उसकी ख्वाहिश नहीं पालें, जो है उसकी कद्र करें। मार्सेल पैगनॉल के ने कहा, अधिसंख्य लोगों के दुख का कारण यह है कि उन्हें अतीत हमेशा वर्तमान से बेहतर दिखता है और भविष्य आंशकामय। जान लीजिए, आप जिस स्थिति, परिस्थिति या मुकाम में आज हैं वह बहुतेरों का स्वप्न है! जो आपके पास है उसकी कद्र करने की आदत बन जाएगी तो जिंदगी का सफर खुशनुमां बन जाएगा। जिंदगी की किताब के एक ही पन्ने पर अटके रहेंगे तो आगे नहीं बढ़ सकेंगे। अतीत की खुशफहमियों से बाहर आइए, ये आपके सुखमय वर्तमान में आड़े न आएं और फिर आपको अपना शेष जीवन भविष्य में गुजारना है, अतीत में नहीं। मानव जन्म आपको मौजूदा परिवेश में खिन्न, चिंताग्रस्त रहने के लिए नहीं मिला है।

 कुवैत में कोरोना से 752 नए मरीज हुए ठीक, अब तक की सबसे अधिक दैनिक वृद्धि

कुवैत में कोरोना से 752 नए मरीज हुए ठीक, अब तक की सबसे अधिक दैनिक वृद्धि

नई दिल्ली । कुवैत में पिछले 24 घंटों में कोरोना से 752 मरीज ठीक हो गए हैं जो अब तक ठीक हुए लोगों की सबसे अधिक दैनिक वृद्धि है। स्वास्थ्य मंत्रालय के...

 पाकिस्तान में कोरोना संक्रमित की संख्या 61 हजार के पार

पाकिस्तान में कोरोना संक्रमित की संख्या 61 हजार के पार

नई दिल्‍ली । पाकिस्तान में अबतक कोरोना वायरस के 61,227 मामले सामने आये हैं जिनमें 2076 नए मामले पिछले 24 घंटे में आये हैं । स्वास्थ्य मंत्रालय ने...

 ईरान में कोरोना संक्रमण के 2,258 नए मामले दर्ज

ईरान में कोरोना संक्रमण के 2,258 नए मामले दर्ज

नई दिल्ली । ईरान में गुरुवार को कोरोना संक्रमण के 2,258 नए मामले दर्ज किए गए हैं जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 143,849 हो गई है।...

 बैलिस्टिक मिसाइल अटैक में बाल बाल बचे यमन के रक्षा मंत्री

बैलिस्टिक मिसाइल अटैक में बाल बाल बचे यमन के रक्षा मंत्री

नई दिल्ली । यमन के सेंट्रल प्रांत मारीब में स्थित रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय में मंगलवार देर रात बैलिस्टिक मिसाइल से हमला किया गया। इस हमले में यमन के ...

 पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण से 3.5 लाख से अधिक लोगों की मौत

पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण से 3.5 लाख से अधिक लोगों की मौत

नई दिल्‍ली। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) से दुनिया भर में मरने वाले लोगों की संख्या साढ़े तीन लाख को पार गई है, जबकि संक्रमितों का आंकड़ा...

Share it
Top