Top
Home » दुनिया » सुरक्षा कारणों से न्यूजीलैंड का पाकिस्तान दौरा रद्द

सुरक्षा कारणों से न्यूजीलैंड का पाकिस्तान दौरा रद्द

👤 Veer Arjun | Updated on:18 Sep 2021 7:31 AM GMT

सुरक्षा कारणों से न्यूजीलैंड का पाकिस्तान दौरा रद्द

Share Post

रावलपिंडी । न्यूजीलैंड ने सुरक्षा कारणों से पाकिस्तान का दौरा रद्द कर दिया है। न्यूजीलैंड को पाकिस्तान दौरे पर आज से तीन एकदिवसीय और पांच मैचों की टी-20 श्रृंखला खेलनी थी लेकिन सुरक्षा कारणों के चलते न्यूजीलैंड ने खेलने से इनकार कर दिया। न्यूजीलैंड को वर्ष 2003 के बाद से पाकिस्तान की धरती पर अपना पहला मैच खेलना था।

दोनों टीमों के बीच रावलपिंडी में खेले जाने वाले पहले एकदिनी मुकाबले के शुरू होने में जब 20 मिनट का वक्त रह गया था, तब वहां उपद्रव की खबर आई सामने आई। इसके बाद खिलाड़ियों को स्टेडियम पहुंचने के बजाए होटल के कमरों में ही रहने की हिदायत दी गई। इसके अलावा क्रिकेट फैन्स को भी स्टेडियम में एंट्री नहीं करने दी गई।

न्यूजीलैंड क्रिकेट ने एक बयान में कहा कि न्यूजीलैंड सरकार की सलाह के बाद यह निर्णय लिया गया है कि और अब टीम के वतन वापसी की व्यवस्था की जा रही है। न्यूजीलैंड क्रिकेट के चीफ एग्जीक्यूटिव डेविड वाइट ने कहा कि हमें अपनी सरकार से मिली सलाह के बाद पाकिस्तान का दौरा जारी रखना संभव नहीं था। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि इससे पीसीबी को झटका लगा होगा, जो एक शानदार मेजबान है, लेकिन खिलाड़ियों की सुरक्षा हमारे लिए सर्वोपरि है और हम मानते हैं कि हमारे पास यही एक विकल्प बचा था।'

न्यूजीलैंड क्रिकेट प्लेयर्स एसोसिएशन के मुख्य कार्यकारी हीथ मिल्स ने वाइट की भावनाओं का समर्थन करते हुए, 'हम इस पूरी प्रक्रिया में रहे हैं और इस फैसले का पूरी तरह से समर्थन कर रहे हैं। खिलाड़ी अच्छे हाथों में हैं, वे सुरक्षित हैं और हर कोई अपने सर्वोत्तम हित में काम कर रहा है।'

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने अपने बयान में कहा, 'पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड और पाकिस्तान सरकार सभी मेहमान टीमों के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करती हैं। हमने न्यूजीलैंड क्रिकेट को भी इसका आश्वासन दिया था। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने व्यक्तिगत स्तर पर न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री से बात की और उन्हें बताया कि हमारे पास दुनिया की सर्वश्रेष्ठ खुफिया प्रणाली है और मेहमान टीम के लिए किसी भी तरह का कोई सुरक्षा खतरा नहीं है।'एजेंसी/हिस

Share it
Top