Home » आपके पत्र » हौंसला बुलंद हो तो हर काम आसान

हौंसला बुलंद हो तो हर काम आसान

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:22 April 2019 6:12 PM GMT
Share Post

कहावत है कि अगर हौंसला और हिम्मत हो तो जिंदगी को अपने मुताबिक जिया जा सकता है। अपने हाथों से किस्मत की लकीरें खुद बनाई जा सकती है। हालांकि इसमें कई मुश्किलें और रुकावटें आती हैं, कदम-कदम पर चुनौतियों का सामना भी करना पड़ता है। लेकिन जो इन्हें पार कर लेता है वही दुनिया में मिसाल कायम करता है। ऐसी ही एक मिसाल है बिहार के रोहतास जिला के अकबरपुर गांव की रहने वाली राजकुमारी देवी। जिन्होंने न केवल बाल विवाह का दंश झेला बल्कि बेटी पैदा होने पर पति के त्यागे जाने के बावजूद अपने हौसले और हिम्मत से उसकी परवरिश की। हमारे देश में जहां बेटियों के सम्मान और सुरक्षा के लिए बेटी बचाओ, बेटी पढाओ जैसी महत्वकांक्षी योजनाएं चलाई जा रही हैं वहीं दूसरी ओर विडंबना यह है कि 21वीं सदी के इस दौड़ में भी बेटी को अभिशाप और बोझ समझा जाता है। समाज लक्ष्मी, दुर्गा और मरियम को पूजता है, रानी लक्ष्मीबाई की वीरता का रसखान करता है, रजिया सुल्ताना के हौसले को सलाम करता है और कल्पना चावला जैसी बेटी पर गर्व करता है लेकिन दूसरी ओर स्वयं के घर जन्मी बेटी की खबर सुनकर न केवल अपमानित महसूस करता है।

-नीलम वर्मा,

विकासपुरी, दिल्ली।

मोदी मैजिक के बीच राहुल की वापसी

बड़ी जीत का दावा करने वाली भाजपा 5 राज्यों के चुनाव में औंधे मुंह गिरी है। भाजपा बिन पानी मछली की तरह अगर तड़प रही है तो कांग्रेस जीत के सरोवर में गोते लगा रही है। ऐसा पहली बार है जब बीते साढ़े चार सालों में 5 राज्यों में भाजपा ने चुनाव लडा हो और परिणाम सिफर रहे हों। राजस्थान और मध्य पदेश में हुए क्रमशः 200 व 230 विधानसभा सीटों के बीच कांटे की टक्कर भाजपा और कांग्रेस के बीच रही पर सत्ता को लेकर जो बड़े पैमाने पर सीट जीतने का सपना था वो भाजपा का पूरा नहीं हुआ। हालांकि राजस्थान में एक उम्मीदवार की मृत्यु के कारण चुनाव 199 सीटों पर ही हुए थे। 90 विधानसभा वाले छत्तीसगढ में जिस कदर भाजपा निस्तोनाबूत हुई उसकी उम्मीद न तो वहां के मुख्यमंत्री रमन सिंह को थी न तो पधानमंत्री मोदी को रही होगी और न ही राजनीतिक जानकार को यह संज्ञान रहा होगा। इतना ही नहीं 119 सीटों वाली तेलंगाना में जिस तरह का पदर्शन केसीआर की पार्टी टीआरएस ने की वह भी भारतीय राजनीति में बड़ा महत्व का है। जिसके पभाव से 2019 का लोकसभा चुनाव पभावित हुए बगैर शायद ही रह पाए। उत्तर पूर्व के राज्य मिजोरम में 40 सीटों के मुकाबले जिस तरह के नतीजे दिखे उसमें कांग्रेस का किला ढहा है और भाजपा की उम्मीदों पर कु"ाराघात हुआ है। हालांकि यहां भाजपा को खोने के लिए कुछ नहीं था पर कांग्रेस ने एमएनएफ के हाथों अपनी सत्ता गंवा दी। चुनावी समर को शिद्दत से समझा जाय तो यह आभास होगा कि इस चुनाव में सबसे ज्यादा भाजपा ने खोया है।

-मुकेश अग्रवाल,

आजादपुर, दिल्ली।

 अमेरिका : राष्ट्रपति ट्रम्प ने गर्भपात निषेध रैली में हिस्सा लिया

अमेरिका : राष्ट्रपति ट्रम्प ने गर्भपात निषेध रैली में हिस्सा लिया

वॉशिंगटन । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शुक्रवार को गर्भपात निषेध रैली में हिस्सा लेकर हजारों प्रदर्शनकारी महिलाओं का दिल जीत लिया। यह...

 कोरोनावायरस फ्रांस पहुंचा, दर्ज हुए दो मामले

कोरोनावायरस फ्रांस पहुंचा, दर्ज हुए दो मामले

पेरिस । फ्रांस में भी कोरोनावायरस के दो नए मामले सामने आए हैं। फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस बात की पुष्टि की है। दो लोगों में से एक वह व्यक्ति...

 चीन में कोरोना वायरस से 25 की मौत, 8 सौ से अधिक संक्रमित

चीन में कोरोना वायरस से 25 की मौत, 8 सौ से अधिक संक्रमित

जेनेवा । चीन के वुहान के हूबे में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 25 हो गई है। जबकि 830 लोग अब तक संक्रमित हो चुके हैं। वुहान के सभी...

 डोनाल्ड ट्रम्प ने एक ही दिन में ट्वीट का रिकार्ड बनाया

डोनाल्ड ट्रम्प ने एक ही दिन में ट्वीट का रिकार्ड बनाया

लॉस एंजेल्स । राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोशल मीडिया प्लेटफ़ार्म पर एक ही दिन बुद्धवार को 142 ट्वीट और रिट्वीट कर अपने ही पहले रिकार्ड को तोड़कर...

 नेपाल : कम्युनिस्ट पार्टी ने 16 सीटों पर हासिल की जीत

नेपाल : कम्युनिस्ट पार्टी ने 16 सीटों पर हासिल की जीत

काठमांडू । नेपाल में गुरुवार को नेशनल असेंबली के चुनाव के नतीजे घोषित हो गए। सत्ताधारी कम्यूनिस्ट पार्टी ने 18 में से 16 सीटों पर तो उसकी गठबंधन वाली...

Share it
Top