Top
Home » हरियाणा » रक्तदान के लिए महामहिम ने किया डेरा को सम्मानित

रक्तदान के लिए महामहिम ने किया डेरा को सम्मानित

👤 | Updated on:9 May 2010 2:03 AM GMT
Share Post

वीर अर्जुन संवाददाता सिरसा। रक्पदान के क्षेत्र में अतुल्नीय योगदान देने के लिए पदेश के महामहिम राज्यपाल जगन्नाथ पहाड़िया ने डेरा सच्चा सौदा को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर डेरा सच्चा सौदा के वाइस चैयरमैन अभिजीत इन्सां ने सम्मान ग्रहण किया। इस मौके पर जिला उपायुक्प युद्धवीर सिंह ख्यालिया, अतिरिक्प उपायुक्प श्रीमति पंकज चौधरी सहित रेडकास सोसायटी के अधिकारी व पशासनिक अधिकारी उपस्थित थे। महामहिम राज्यपाल व उनकी धर्मपत्नी ने डेरा सच्चा सौदा के रक्पदान मुहिम की खुले दिल से सराहना की। महामहिम राज्यपाल ने इस मौके पर अनेक समाजसेवी संस्थाओं को भी सम्मानित किया गया। डेरा सच्चा सौदा के पवक्पा डा. पवन इन्सां ने रक्पदान के क्षेत्र में डेरा सच्चा सौदा की भूमिका पर पकाश डालते हुए बताया कि पूज्य संत गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन पेरणा पर चलते हुए आज डेरा सच्चा सौदा रक्पदान के क्षेत्र में विश्वभर में अपनी एक अलग पहचान बना चुका है। उन्होने बताया कि डेरा सच्चा सौदा को ब्लड की फैक्ट्री की संज्ञा दी जाने लगी है तथा डेरे के सेवादारें को चलता फिरता ब्लड पंप कहा जाने लगा है।  उन्होने बताया कि  एक दिन में सर्वाधिक रक्तदान करने का गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड व लिम्का बुक आफ रिकार्ड भी डेरा सच्चा सौदा के नाम है। उन्होने बताया कि  डेरा सच्चा सौदा के सेवादारें द्वारा 7 दिसम्बर 2003 को सिरसा में आयोजित विशाल रक्पदान शिविर में 15432 यूनिट रक्प एकत्रित किया गया था इसके पश्चात 10 अक्पूबर 2004 को श्रीगुरूसर मोडिया(श्रीगंगानगर, राजस्थान) में आयोजित विशाल रक्पदान शिविर में 17921 यूनिट रक्प एकत्रित किया गया था। डा. इन्सां ने बताया कि डेरा सच्चा सौदा के सेवादारें द्वारा 30 अपैल 2010 तक देशभर में 1 लाख 47 हजार 849 यूनिट ब्लड डोनेट किया चुका है, इसके अलावा विदेशों में भी डेरापेमियों द्वारा समय समय पर रक्पदान शिविर आयोजित किए जाते रहते है। उन्होने बताया कि चालू वर्ष में भी मात्र चार महीनों में डेरा श्रद्धालुओ द्वारा 18118 यूनिट रक्प दान किया जा चुका है। उन्होने बताया कि पूज्य गुरू जी के पावन वचनों पर अमल करते हुए रक्पदान को डेरा श्रद्धालु अपनी दिनचर्या में शामिल कर चुके है तथा सुख दुख की घड़ी में रक्पदान करते रहते है।  

Share it
Top