Top
Home » शिक्षा » विज्ञान से क्यों भागना

विज्ञान से क्यों भागना

👤 | Updated on:9 Oct 2013 12:23 AM GMT
Share Post

 महेश झा बहुत कुछ सीखने की जरूरत पड़ने के कारण स्कूली बच्चे अक्सर विज्ञान से दूर भागते हैं। ऐसे में अगर उन्हें यह अहसास हो जाए कि विज्ञान मस्ती के साथ बड़ा इनाम दिलाने वाला है तो वो इसे करियर बनाने से नहीं हिचकेंगे। किसी भी देश की अर्थव्यवस्था के लिए विज्ञान और तकनीक बहुत जरूरी है और इसलिए जरूरी है कि ज्यादा से ज्यादा प्रतिभाशाली दिमाग कम उम्र से ही विज्ञान के क्षेत्र में काम करने के लिए तैयार हों। इसके लिए बच्चों को यह बताना होगा कि विज्ञान बहुत मजेदार और बड़े फायदे दिलाने वाला होता है। इस साल यूरोपियन यूनियन कॉन्टेस्ट फॉर यंग साइंटिस्ट्स (ईयूसीवाईएस) का इनाम जीतने वाले यॉर्पशायर के पेड टर्नर कहते हैं, 'यह सचमुच बेहद जरूरी है कि जितना ज्यादा संभव हो सके युवा विज्ञान को लेकर रोमांचित हों। वे अगली पीढ़ी के वैज्ञानिक हैं। अगर आप उनमें इसके लिए जोश नहीं भरेंगे तो यूरोपीय संघ बाकी दुनिया से पीछे रह जाएगा।' घर में बना डीएनए फोटोकॉपियर ःपेड के मन में विज्ञान को लेकर बहुत रोमांच है। वह इसमें बहुत अच्छे भी हैं। पेड ईयूसीवाईएस में ब्रिटेन की तरफ से शामिल हुए। वह अपने साथ पॉलीमरेज चेन रिएक्शन यानी पीसीआर मशीन लेकर आए हैं। यह ऐसा यंत्र है जिसके जरिए वैज्ञानिक डीएनए के खास हिस्सों की नकल बना सकते हैं। पेड इस साल ऑक्सफोर्ड जा रहे हैं। वह लैब में रहने वाली मशीन नहीं खरीद सकते थे इसलिए उन्होंने घर में मौजूद कुछ धातुओं, माइाढाsप्रोसेसर और टचपैड के जरिए यह मशीन बना डाली। पेड ने बताया, 'मैं अपने घर के जेनेटिक्स लैब के लिए पीसीआर मशीन चाहता था जिससे कि मैं अलग अलग जीन्स का अध्ययन कर सपूं। मैं 3000 पाउंड की मशीन नहीं खरीद सकता था इसलिए मैंने उसे घर पर ही बनाने का फैसला किया। मेरी मशीन 250 पाउंड में बन गई।'प्रयोग को प्रोत्साहन ःइस मुकाबले का मकसद इस तरह के प्रयोगों को ही प्रोत्साहन और बढ़ावा देना है। हर साल यूरोपीय संघ के 27 और 10 दूसरे मेहमान देश अपने प्रतिभाशाली युवा वैज्ञानिकों को पुरस्कारों की दौड़ में शामिल होने के लिए भेजते हैं। इस साल चेक गणराज्य की राजधानी प्राग में मुकाबले के लिए 126 वैज्ञानिक आए। इन वैज्ञानिकों में कैंसर के इलाज पर रिसर्च कर रही तुर्की के सेकेंडरी स्कूल के छात्रों की एक जोड़ी, हंगरी का शौकिया पोकर खिलाड़ी जिसने पोकर खेलने वाला रोबोट बनाया है और लिथुएनिया का एक युवा वैज्ञानिक भी है जो जीन संवर्धित लिलि बनाने की कोशिश में हैं। ये लिलि बाल्टिक के वातावरण के लिए उपयुक्त होंगी। मैनेजरकैटरीनासोबोत्कोवा कहती हैं, 'असल मकसद युवा, अच्छे, प्रतिभाशाली वैज्ञानिकों को उनके काल्पनिक प्रोजेक्ट को पेश करने के लिए यहां लाना है। हम यह भी चाहते हैं कि लोग देखें कि ये इस उम्र में क्या कर सकते हैं, जो सचमुच हैरान करने वाला है। इसके साथ ही उनके साथ घुल मिल कर अंतरराष्ट्रीय दोस्ती को बढ़ावा और उनके प्रयोगों में साझीदार बनना है।' मुकाबले वाली जगह पर सफेद छोटे छोटे बूथ के पीछे से छात्र अपने विचार और प्रयोगों के बारे में जूरी के सदस्यों को बता रहे हैं। वहां से कुछ ही दूरी पर एक सार्वजनिक जगह है जहां चेक सेकेंडरी स्कूल के छात्र दूसरे लोगों से मिल रहे हैं। कई तकनीकी स्कूलों ने अपने स्टॉल लगाए हैं और तरह तरह के प्रयोग दिखा रहे हैं। कोई रसायनों की आवाज बदलने वाले गुणों को दिखा रहा है तो कहीं ऐसी आईपीम बन रही है जो सूखी हुई बर्प से बनी दिखती है। चेक टेक्निकल यूनिवर्सिटी की इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग फैकल्टी से जुड़े मार्टिन सामेक बताते हैं, 'इस वक्त समस्या यह है कि तकनीकी विज्ञान में ज्यादा युवा छात्र नहीं आ रहे हैं। ज्यादातर युवा अर्थशास्त्र, कानून और मेडिसिन को लक्ष्य बना रहे हैं।' उनके स्टॉल पर रोबोट हैं जो उनके छात्रों ने स्कूल में बनाए हैं और यहां खूब लोकप्रिय हो रहे हैं। सामेक का कहना है, 'मुझे लगता है कि छात्रों में इसे लेकर एक डर जैसा है। गणित और भौतिकी का डर और दूसरे कठिन तकनीकी विज्ञान और पाठ्पाम का डर। तो इन छोटे रोबोटों का यही काम है कि छात्रों का उनके विषय से मेलजोल बढ़ाना और डर दूर करना।' विस्टाविस्टे ट्रेड पैलेस में जहां यह स्टॉल लगे हुए हैं वहां डर जैसी कोई चीज नहीं दिखती और यह जगह रचनात्मक ऊर्जा से भरी हुई लगती है। चीन और भारत की उभरती अर्थव्यवस्थाओं ने वैज्ञानिक और तकनीकी मामलों में बड़ी छलांग लगाई है और यूरोपीय युवाओं को ज्यादा लुभा रहे हैं।

 कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

नई दिल्ली । कतर के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सोमवार को कोरोना के कारण 3 अन्य लोगों की मौत और 1751 नए संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं।इसके बाद...

 यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

नई दिल्ली। यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक ने चीन के प्रति 'अधिक मजबूत रणनीति' रखने का आह्वान किया है क्योंकि वह एशिया वैश्विक शक्ति के केंद्र के रूप में ...

 रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

नई दिल्ली । रूस में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 8,946 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 353,427 हो गई है।...

 अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को धोखा बताया

अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को 'धोखा' बताया

नई दिल्ली । हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने कहा कि चीन ने अर्ध-स्वायत्त क्षेत्र पर नियंत्रण कड़ा करके शहर को धोखा दिया है।क्रिस पैटन ने टाइम्स ऑफ...

 कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

नई दिल्ली । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कोरोनावायरस संकट शुरू होने के दो महीने बाद पहली बार गोल्फ खेलने के लिये गोल्फ क्लब पहुंचे। ट्रंप का...

Share it
Top