Top
Home » शिक्षा » सफलता के लिए कैरियर च्वाइस एमबीए या सीए

सफलता के लिए कैरियर च्वाइस एमबीए या सीए

👤 | Updated on:26 April 2013 12:38 AM GMT
Share Post

 राजकुमार सोनी आज ज्यादातर युवाओं की पसंद मैनेजमेंट के क्षेत्र में करियर बनाना है। लेकिन उनके पास सीए जैसा पॉवरफुल करियर ऑप्शन भी है। अब ऐसे में थोड़ा कन्फ्यूज होना लाजमी है, लेकिन फैसला तो करना ही होगा। हाँ यह बात अलग है कि दोनों ही क्षेत्रों में करियर की अच्छी संभावनाएं मौजूद हैं एवं आप इन क्षेत्रों में इनकम भी अच्छी कर सकते हैं। तो अब सोचिए नहीं, कर लीजिए किसी एक स्ट्रीम में करियर का निर्णय। हम यहां बता रहे हैं इन दोनों विषयों के बारे में जानकारी। जो युवा इन क्षेत्रों में करियर बनाने के बारे में सोच रहे हैं उनके लिए जरूरी है कि दोनों क्षेत्रों की पर्याप्त जानकारी हो,कि सीए केअलग फायदे हैं और एमबीए के अलग। सीए के पाठ्पाम में प्रवेश पाने की अपनी मुश्किलें हैं, तो एमबीए की अलग। यह अंतर्द्वंद्व आपको न सताए, इसके लिए जरूरी है कि आपको दोनों ही फील्ड्स के माइनस और प्लस प्वाइंट्स पता हों। सबसे पहले समझते हैं सीए को। करियर बाजार में आजकल सीए और एमबीए डिग्री का बोलबाला है। ये दोनों फील्ड्स इस समय छात्रों में उहापोह का कारण बन गए हैं। सीए ः सीए निसंदेह एक अच्छा और रिवॉर्डिंग करियर है। पर यह भी सच है कि जैसे मेडिकल के क्षेत्र में आपको डिग्री मिल जाने के बाद भी स्थापित होने में टाइम लगता है, वैसे ही सीए के काम में भी पहचान बनने में थोड़ा समय लगता है। हालांकि अब यह समस्या भी खत्म होने को है, क्योंकि आईसीएआई जैसे सीए के क्षेत्र के तीर्थ बने संस्थान कॉरपोरेट सेप्टर में भी प्लेसमेंट दे रहे हैं। फिर भी इस क्षेत्र की कार्यप्रकृति के अनुसार आप स्वयं सीए के तौर पर कार्य शुरू कर सकते हैं। सीए का कोर्स कर चुका व्यक्त कभी भी खाली नहीं बैठ सकता। नॉलेज प्रोसेस आउटसोर्सिंग (बीपीओ), इक्वटी एनालिसिस और एकाउंटिंग फर्म्स में सीए प्रोफेशनल्स की खूब डिमांड है और सैलरी भी अच्छी होती है। सीए के तौर पर काम करते हुए आपको नंबर्स पर खूब काम करना होगा, जो हो सकता है कि कुछ समय बाद बोरिंग लगने लगे। जो अकाउंटिंग के क्षेत्र में हैं, वे शायद इस बात से सहमत न हों, पर सच यही है कि एक शानदार और लाभदायक फील्ड होने के बावजूद प्रोफेशनल के तौर पर सीए का जुनून कम होता जा रहा है और एमबीए लोगों पर छाता जा रहा है। सीए या एमबीए ही आमतौर से देखा गया है कि युवा सीए या एमबीए इसलिए करने लगते हैं कि आजकलमल्टीनेशनल कंपनियों में कई ऐसे बड़े नाम हैं जो लाखों रुपए प्रतिमाह की कमाई कर रहे हैं और युवाओं का आकर्षण स्वाभाविक है कि ऐसे लोगों के प्रति रहेगा ही, इसलिए वे इन विषयों का चुनाव कर रहे हैं। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि सीए करने के अपने फायदे हैं और यह फील्ड हर कोई नहीं चुन सकता। जिन युवाओं को संख्याओं से खेलना अच्छा लगता है, ाsढडिट-डेबिट की उलझन समझने का चैलेंज अच्छा लगता है, उनके लिए कॉमर्स साइड से पढ़ते हुए सीए का फील्ड अच्छी सैलरी और भविष्य देता है, लेकिन अब कॉमर्स स्टूडेंट के लिए एमबीए की नई दिशा बन जाने से सीए के कोर्स की पॉपुलैरिटी को चैलेंज मिलने लगा है। कई ऐसे कॉमर्स स्टूडेंट हैं, जो सीए के बजाए एमबीए में अपना स्वर्णिम भविष्य देखते हैं। अक्सर एमबीए करने के लिए युवा साथी काफी लालायित रहते हैं और ऐसे संस्थानों में प्रवेश ले लेते हैं, जिनके माध्यम से नौकरी पाने की संभावना काफी क्षीण रहती है। कई छात्र काफी होशियार होते हैं, पर जानकारी के अभाव में वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पढ़ने की काबिलियत होने के बावजूद इंटरनेशनल एमबीए नहीं कर पाते। कुछ समय पूर्व इकॉनॉमिस्ट द्वारा विश्व के सर्वश्रेष्ठ एमबीए कॉलेज की सूची जारी की थी। इस सूची में भारतीय तो क्या एशिया के कॉलेज भी टॉप टेन में नहीं हैं। भारतीय प्रबंध संस्थान अहमदाबाद का नंबर 78 है और हांगकांग यूनिवर्सिटी का नंबर 36वां है। दरअसल यह सर्वे काफी सोच-विचार कर किया गया था, जिसमें सैलरी से लेकर फैकल्टी का एज्युकेशन क्वॉलिफिकेशन आदि का समावेश किया गया था। सर्वे में केवल यह नहीं देखा गया है कि कोर्स करने के बाद विद्यार्थियों को कितनी सेलरी मिली, बल्कि संपूर्ण विकास की बात भी देखी गई है। सबसे पहला नंबर अमेरिका के डार्टमाउथ बिजनेस स्कूल को मिला है। बेदम एमबीए के लिए समय व्यर्थ करना और बाद में अच्छी नौकरी न मिल पाने पर हताश होने की अपेक्षा दम वाले एमबीए की ओर पहले से नजर रखें। दुनियाभर में एमबीए कोर्स विभिन्न संस्थान चलाते हैं, पर हम दे रहे हैं ऐसे संस्थानों की जानकारी, जो सर्वश्रेष्ठ हैं। विश्व के सर्वश्रेष्ठ एमबीए संस्थान 1डार्टमाउथ बिजनेस स्कूल, अमेरिका 2शिकागो बूथ, अमेरिका 3आईएमडी, स्विट्जरलैंड 4वर्जिनिया यूनिवर्सिटी, अमेरिका 5हार्वर्ड बिजनेस स्कूल, अमेरिका भारत के सर्वश्रेष्ठ एमबीए संस्थान 1आईआईएम (इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट) 2आईएसबी (इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस), हैदराबाद 3एक्सएलआरआई (जेवियर लेवर रिसर्च इंस्टिट्यूट), जमशेदपुर 4एफएमएस (फेकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडी), दिल्लीयूनिवर्सिटी 5जेबीआईएमएस (जमनालाल बजाज इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडी), मुंबई।

 कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

नई दिल्ली । कतर के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सोमवार को कोरोना के कारण 3 अन्य लोगों की मौत और 1751 नए संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं।इसके बाद...

 यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

नई दिल्ली। यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक ने चीन के प्रति 'अधिक मजबूत रणनीति' रखने का आह्वान किया है क्योंकि वह एशिया वैश्विक शक्ति के केंद्र के रूप में ...

 रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

नई दिल्ली । रूस में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 8,946 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 353,427 हो गई है।...

 अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को धोखा बताया

अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को 'धोखा' बताया

नई दिल्ली । हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने कहा कि चीन ने अर्ध-स्वायत्त क्षेत्र पर नियंत्रण कड़ा करके शहर को धोखा दिया है।क्रिस पैटन ने टाइम्स ऑफ...

 कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

नई दिल्ली । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कोरोनावायरस संकट शुरू होने के दो महीने बाद पहली बार गोल्फ खेलने के लिये गोल्फ क्लब पहुंचे। ट्रंप का...

Share it
Top