Top
Home » संपादकीय » पदक जीतने वाला चाय बेचने पर मजबूर

पदक जीतने वाला चाय बेचने पर मजबूर

👤 Veer Arjun Desk | Updated on:11 Sep 2018 6:36 PM GMT
Share Post

हमारे देश के प्रतिभावान व होनहार खिलाड़ियों को कितना सम्मान व सुविधाएं मिलती हैं यह किसी से छिपा नहीं। दूसरे देशों में यहां तक कि भारत से बहुत छोटे देशों में भी युवाओं को इतनी सुविधाएं दी जाती हैं ताकि वह एक दिन अपने देश के लिए अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में मैडल लाकर देश का झंडा ऊंचा करें। एक चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है। घरों पे नाम थे। नामों के साथ ओहदे थे, बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला। बशीर बद्र की यह शायरी इंडोनेशिया में हाल ही में सम्पन्न हुए एशियन गेम्स में सेपक टकरा में कांस्य पदक जीतने वाले 23 वर्षीय हरीश के हालात को बयां करती है। देश का नाम रोशन करने वाला यह होनहार खिलाड़ी मुफलिसी में जीवन बसर करने को मजबूर है, लेकिन बड़े-बड़े दावे करने वाला भारत सरकार का खेल मंत्रालय और दिल्ली सरकार इस खिलाड़ी के घर खुशियों का एक चिराग तक नहीं जला पा रही है। मजनू का टीला स्थित चाय स्टालों का शुक्रवार एकदम अलग नजारा था, वहां ग्राहक चाय की चुस्कियों के साथ-साथ चाय बेचने वाले युवक के संग सेल्फी भी ले रहे थे। यह युवक कोई और नहीं, बल्कि एशियन गेम्स में कांस्य पदक जीतने वाले हरीश कुमार थे। हरीश जकार्ता से लौटते ही हमेशा की तरह एक बार फिर अपने पिता की चाय की दुकान पर पहुंच गए हैं। मजनू का टीला स्थित चाय की दुकान पर ही उनके घर की आजीविका टिकी हुई है। सेपक टकरा खेल में देश के लिए कांस्य पदक जीतने वाले हरीश कुमार ने बताया कि उनका परिवार बड़ा है और आय के स्रोत कम हैं। 23 वर्षीय हरीश ने कहा कि वह चाय की दुकान पर अपने पिता की मदद करता है। इसके साथ ही रोजाना दोपहर दो बजे से शाम छह बजे तक चार घंटे खेल का अभ्यास करते हैं। हरीश ने बताया कि वर्ष 2011 में उन्होंने इस खेल को खेलना शुरू किया था। वह टायर के साथ खेला करता था। कोच हेमराज ने उन्हें देखा और वह उन्हें स्पोर्ट्स अथारिटी ऑफ इंडिया ले गए जहां उनके हुनर को तराशा गया। सेपक टकरा खेल को 1982 में दिल्ली एशियन गेम्स के दौरान मान्यता मिली थी। इसे बॉलीवाल की तरह खेलते हैं, बस फर्प इतना है कि इसमें हाथ की जगह पैरों का प्रयोग होता है। इससे पहले एशियन गेम्स में कुश्ती में कांस्य पदक जीतने वाली दिल्ली की दिव्या काकरान ने भी सुविधाओं को लेकर नाराजगी जताई थी। उन्होंने कहा था कि गरीब खिलाड़ियों की मदद नहीं की जाती। बस पदक मिलने पर ही उन्हें पूछा जाता है। हरीश ने कहा कि तमाम परिस्थितियों के बावजूद वह देश के लिए और अधिक पुरस्कार प्राप्त करने के लिए हर दिन अभ्यास करते रहेंगे। 2020 में टोक्यो ओलंपिक होने वाला है। सरकारों को इन पदक विजेताओं (संभावित) को पूर्व पूरी सुविधाएं देना चाहिए।

-अनिल नरेन्द्र

 कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

कतर में कोरोना के कारण 3 अन्य मौतें, 1751 नए मामले दर्ज

नई दिल्ली । कतर के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सोमवार को कोरोना के कारण 3 अन्य लोगों की मौत और 1751 नए संक्रमण के मामले दर्ज किए गए हैं।इसके बाद...

 यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक का चीन के प्रति मजबूत रणनीति का आग्रह

नई दिल्ली। यूरोपीय संघ के शीर्ष राजनयिक ने चीन के प्रति 'अधिक मजबूत रणनीति' रखने का आह्वान किया है क्योंकि वह एशिया वैश्विक शक्ति के केंद्र के रूप में ...

 रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

रूस में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 3,50,000 के पार हुई

नई दिल्ली । रूस में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 8,946 नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 353,427 हो गई है।...

 अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को धोखा बताया

अब हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने चीन के कदमों को 'धोखा' बताया

नई दिल्ली । हांगकांग के अंतिम ब्रिटिश गवर्नर ने कहा कि चीन ने अर्ध-स्वायत्त क्षेत्र पर नियंत्रण कड़ा करके शहर को धोखा दिया है।क्रिस पैटन ने टाइम्स ऑफ...

 कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

कोरोनावायरस संकट के बाद पहली बार ट्रम्प गोल्फ कोर्स पहुंचे

नई दिल्ली । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कोरोनावायरस संकट शुरू होने के दो महीने बाद पहली बार गोल्फ खेलने के लिये गोल्फ क्लब पहुंचे। ट्रंप का...

Share it
Top