Home » संपादकीय » जींद और रामगढ़ उपचुनाव के संदेश

जींद और रामगढ़ उपचुनाव के संदेश

👤 Veer Arjun Desk 4 | Updated on:2019-02-06T00:37:10+05:30
Share Post

आमतौर पर विधानसभा उपचुनावों का सीमित महत्व होता है लेकिन लोकसभा के आम चुनावों से ठीक पहले जींद और रामगढ़ का महत्व इसलिए बढ़ जाता है कि इसमें दोनों भाजपा और कांग्रेस के लिए संदेश और संकेत है। जींद में भाजपा के कृष्ण मिड्ढा 12,935 वोटों से जीते हैं। जींद में कृष्ण मिड्ढा ने जननायक जनता पार्टी (जजपा) के दिग्विजय चौटाला को हराया, कांग्रेस के रणदीप सिंह सुरजेवाला तीसरे नंबर पर रहे। भाजपा उम्मीदवार कृष्ण मिड्ढा को 50,566 वोट मिले, वहीं जननायक जनता पार्टी के उम्मीदवार दिग्विजय सिंह चौटाला को 37,631 वोट मिले। कांग्रेस के रणदीप सिंह सुरजेवाला को 22,740 वोट मिले। कांग्रेस व विपक्ष के लिए यह स्पष्ट संदेश है कि अगर मिलकर नहीं लड़ोगे तो हारोगे। अगर चौटाला और सुरजेवाला के वोट जोड़ लिए जाएं तो इनका योग बनता है 60,371 जबकि जीतने वाले भाजपा के मिड्ढा को 50,566 वोट मिले जो विपक्षी उम्मीदवारों से कम हैं। लोकसभा के आम चुनाव में विपक्ष का यही हाल रहा तो यह हार जाएंगे। अगर वन टू वन फाइट होती तो यह परिणाम कुछ और होता। स्थानीय निकाय चुनावों में बीजेपी की एकतरफा जीत के बाद जींद का चुनाव हरियाणा बीजेपी और सीएम खट्टर के लिए एनर्जी बूस्टर साबित होगा, जनता के साथ-साथ जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) भी एक मजबूत विकल्प के तौर पर उभरी है। जाहिर-सी बात है कि इन चुनावों का असर वहां आपसी गठबंधन और तालमेल पर दिखेगा। रोचक यह है कि इस चुनाव में जहां बीएसपी ने आईएनएलडी के हाथ मजबूत किए, वहीं आम आदमी पार्टी ने जेजेपी को समर्थन दिया। देखने वाली बात यह होगी कि क्या विपक्ष ने इससे कोई सबक लिया है? राजस्थान के अलवर जिले में दूसरे उपचुनाव में कांग्रेस की जीत हुई। यह जीत इसलिए महत्वपूर्ण है कि कांग्रेस अब 200 सदस्यों की विधानसभा में 100 के आंकड़े पर पहुंच गई है। रामगढ़ सीट पर कांग्रेस की शाफिया जुबैर खान ने भाजपा के सुखवंत सिंह को 12 हजार 228 वोटों के अंतर से हरा दिया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसे सरकार की कल्याणकारी नीतियों की जीत करार दिया है। बसपा ने पूर्व केन्द्राrय मंत्री नटवर सिंह के बेटे जगत सिंह को उम्मीदवार बनाया था जिसे करारी हार मिली और जगत सिंह की जमानत जब्त हो गई। पदेश भाजपा पवक्ता और विधायक सतीश पुनिया का कहना था कि भाजपा के बागी ने बसपा से चुनाव लड़कर वोटों का धुवीकरण किया और इससे कांग्रेस की जीत आसान हुई। जींद में तीसरे स्थान पर रहे कांग्रेस उम्मीदवार रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ईवीएम में गड़बड़ी का आरोप लगाया है। सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि करीब 24 ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की गई थी। मशीनों के नंबर आपस में मेल नहीं खा रहे थे। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि उम्मीद है कि सीएम खट्टर और नवनिर्वाचित विधायक मिड्ढा जनआकांक्षों पर खरे उतरेंगे।

-अनिल नरेन्द्र

Share it
Top