Top
Home » साहित्य » कोरोना को लेकर चीन ने दुनिया को किया भ्रमित

कोरोना को लेकर चीन ने दुनिया को किया भ्रमित

👤 manish kumar | Updated on:31 March 2020 4:57 AM GMT

कोरोना को लेकर चीन ने दुनिया को किया भ्रमित

Share Post

- अनिल नरेंद्र

चीन के वुहान शहर से पैला कोरोना वायरस अब पूरी दुनिया में पैल चुका है। आज करीब 196 देशों में कोरोना के मामले सामने आए हैं।दरअसल चीन ने इस पूरे मामले में कईं अहम जानकारी छिपाईं जिससे यह महामारी बन गईं। कोरोना वायरस के कहर से लगभग पूरी दुनिया में जिदगी ठहर-सी गईं है। चीन के वुहान से शुरू हुए इस किलर वायरस से अब तक हजारों लोग मारे गए हैं। यही नहीं, करीब 150 से अधिक देशों पर कोरोना वायरस का बहुत बुरा असर पड़ा है। चीन ने अगर शुरुआत में और ज्यादा पारदर्शिता बरती होती तो कोरोना को शायद रोका जा सकता था। कम से कम इसके इतने बड़े प्राकोप से बचा जा सकता था। अमेरिका की पत्रिका नेशनल रिव्यू में छपे लेख के मुताबिक चीन ने आंकड़े दुनिया से छिपाकर रखे जिससे यह लड़ाईं अब बहुत मुश्किल हो गईं है। शुरुआत वुहान के जंगली जानवरों के बाजार से शुरू हुईं। दिसम्बर 2019 को पहले मरीज में कोरोना वायरस के लक्षण सामने आए। पांच दिन बाद मरीज की पत्नी भी कोरोना से संव््रामित हो गईं। इस दौरान यह साफ संकेत सामने आया कि यह वायरस इंसान से इंसान में पैल रहा है।

31 दिसम्बर को वुहान के हैल्थ कमिशन ने यह घोषित कर दिया कि यह वायरस इंसान से इंसान में नहीं पैलता है। चीन ने इस तरह के मामले सामने आने के तीन हफ्ते बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन को इसके बारे में सूचना दी। आइए जानते हैं कि चीन ने किस तरह से इस पूरे मामले को दुनिया से छिपाए रखा। दिसम्बर 2019, इस दिन पहले मरीज में कोरोना के लक्षण सामने आए। पांच दिन बाद मरीज की पत्नी भी कोरोना वायरस से पीिड़त हो गईं और उसे भी अलग-थलग अस्पताल में भता कराया गया। दिसम्बर के दूसरे सप्ताह में वुहान के डॉक्टर उन लोगों की तलाश कर रहे थे जिनमें यह वायरस पैला था।इस दौरान यह साफ संकेत सामने आया कि वायरस इंसान से इंसान में पैल रहा है। 25 दिसम्बर को वुहान के दो चीनी मेडिकल स्टॉफ में भी कोरोना का लक्षण पाया गया और उन्हें अलग-थलग कर दिया गया।

इस पूरे मामले का खुलासा करने वाले डॉक्टर ली वेनलियांग ने डॉक्टरों के एक समूह को चेतावनी दी कि यह सार्स हो सकता है। 31 दिसम्बर को वुहान के हैल्थ कमिशन ने यह घोषित कर दिया कि यह वायरस इंसान से इंसान में नहीं पैलता है। यही नहीं, चीन ने इस तरह के मामले सामने आने के तीन सप्ताह बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन को इस बारे में बताया। इसके बाद डॉक्टरा ली को वुहान के पब्लिक सिक्यूरिटी में बुलाया गया और उन पर अफवाह पैलाने का आरोप लगाया। यही नहीं, चीन के नेशनल हैल्थ कमिशन ने आदेश दिया कि इस बीमारी के बारे में कोईं सूचना सार्वजनिक नहीं की जाए। उसी दिन हुबेईं के प्रांतीय स्वास्थ्य आयोग ने वुहान के सारे नमूनों को नष्ट कर दिया। न्यूयॉर्व टाइम्स ने छह जनवरी को अपनी एक रिपोर्ट में बताया कि 59 लोग वुहान में न्यूमोनिया जैसी बीमारी से पीिड़त हैं। इसके बाद जाकर चीन ने सेवन 1 की यात्रा निगरानी जारी की। चीन ने कहा कि लोग वुहान में जिदा या मरे हुए जानवरों, जानवरों के बाजार और बीमार लोगों से दूर रहे। चीन की इस देरी का नतीजा यह हुआ कि आज कोरोना वायरस पूरी दुनिया में फैल गया।

 पाकिस्तान में कोरोना वायरस के 3938 नए मामले दर्ज

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के 3938 नए मामले दर्ज

नई दिल्ली। । पाकिस्तान में कोरोना के अबतक 76,398 मामले दर्ज हुए है,वहीं इस वायरस से अब तक ठीक होने वाली की संख्या बढ़कर 27,110 हो गयी है। 1,621 लोगों...

 अमेरिका में ऑस्ट्रेलिया के पत्रकार पर हमले के बाद प्रधानमंत्री मौरिसन ने की जांच की मांग

अमेरिका में ऑस्ट्रेलिया के पत्रकार पर हमले के बाद प्रधानमंत्री मौरिसन ने की जांच की मांग

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मौरिसन ने अमेरिका पुलिस के द्वारा ऑस्ट्रेलिया के पत्रकार पर किए गए हमले पर जांच की मांग की है। 7 न्यूज...

 जॉर्ज की मौत के विरोध में अमेरिका में शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी

जॉर्ज की मौत के विरोध में अमेरिका में शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी

ह्यूस्टन । अमेरिका के टेक्सास प्रांत के ह्यूस्टन शहर में बुधवार को हजारों लोगों ने अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत के खिलाफ...

 अमेरिका में कम नहीं हो रहा कोरोना संक्रमण, 1.06 लाख लोगों की मौत

अमेरिका में कम नहीं हो रहा कोरोना संक्रमण, 1.06 लाख लोगों की मौत

वाशिंगटन । वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) से गंभीर रूप से जूझ रहे अमेरिका में इसके संक्रमण से 1.06 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।...

 राष्‍ट्रपति ट्रम्प पर मुकदमा, टि्वटर के खिलाफ कार्यकारी आदेश से जुड़ा है मामला

राष्‍ट्रपति ट्रम्प पर मुकदमा, टि्वटर के खिलाफ कार्यकारी आदेश से जुड़ा है मामला

वाशिंगटन । अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर संविधान के पहले संशोधन का उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए गैर-सरकारी संगठन लोकतंत्र एवं प्रौद्योगिकी...

Share it
Top