Top
Home » देश » अमित शाह की ऑनलाइन सभा पर बिफरी तृणमूल ने कहा : भाजपा का एकमात्र लक्ष्य चुनाव जीतना

अमित शाह की ऑनलाइन सभा पर बिफरी तृणमूल ने कहा : भाजपा का एकमात्र लक्ष्य चुनाव जीतना

👤 mukesh | Updated on:2 Jun 2020 5:31 AM GMT

अमित शाह की ऑनलाइन सभा पर बिफरी तृणमूल ने कहा : भाजपा का एकमात्र लक्ष्य चुनाव जीतना

Share Post

कोलकाता। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने आगामी आठ जून को भारतीय जनता पार्टी की पश्चिम बंगाल इकाई के नेताओं, कार्यकर्ताओं और आम जनों के साथ ऑनलाइन जनसभा करने की घोषणा की है। इसके लिए सारी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। इंटरनेट के जरिए अमित शाह की जनसभा को राज्यभर में असरदार बनाने के लिए भाजपा की ओर से जगह-जगह बड़े-बड़े प्रोजेक्टर लगाने की तैयारी की जा रही है ताकि ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर शाह संबोधन करना शुरू करें तो अधिकतर लोग देख सकें। इसके अलावा भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को सवाल पूछने हैं और आम कार्यकर्ताओं को इसमें शामिल होने का मौका भी दिया जा रहा है। इसे लेकर राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस और हमलावर हो गई है।

पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने आरोप लगाया है कि भाजपा का मुख्य लक्ष्य बंगाल में 2021 के विधानसभा चुनाव के समय अपनी स्थिति मजबूत करना है। इसी लक्ष्य के साथ पार्टी काम कर रही है। दरअसल दो दिन पहले ही राष्ट्रीय चैनलों को दिए अपने इंटरव्यू में केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल में अव्यवस्था का जिक्र किया था और आरोप लगाया था कि प्रवासी नागरिकों को वापस लौटाने समेत महामारी रोकथाम और बचाव के लिए पश्चिम बंगाल सरकार का रवैया काफी असंवेदनशील रहा है। इसके अलावा प्रवासी नागरिकों को घर पहुंचाने और महामारी पीड़ितों के बेहतर इलाज में भी सरकार ने लापरवाही बरती है। कई जगहों पर आंकड़े भी छिपाए गए हैं।

ममता बनर्जी नित सरकार को चेतावनी देते हुए अमित शाह ने कहा था कि बंगाल के लोग इसे याद रखेंगे। इसके बाद उन्होंने कहा था कि पश्चिम बंगाल और बिहार में विधानसभा चुनाव है जिसमें पार्टी जीतकर सरकार बनाएगी। इसी को आधार बनाकर ब्रायन हमलावर हो गए हैं। उन्होंने कहा कि अमित शाह ने अपने बयान से बता दिया कि उनकी पार्टी का मुख्य लक्ष्य चुनाव में जीत हासिल करना है जानलेवा महामारी कोरोना से पार पाने में उन्हें कोई दिलचस्पी नहीं है। केंद्र सरकार पर अव्यवस्था का आरोप लगाते हुए डेरेक ओ ब्रायन ने कहा है कि 21 दिनों के लॉकडाउन करने से पहले श्रमिकों को केवल चार घंटे का समय दिया गया और चार घंटे पहले लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई। मजदूर दाने-दाने को तरसते रहे। उसके बाद उन्हें जानवरों की तरह ट्रेनों में ठूसकर बिना खाना पानी दिए उनके गृह राज्य रवाना कर दिया गया। इस अव्यवस्था की वजह से 80 से ज्यादा मजदूरों की मौत हो गई है। इसके लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार है। डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि भाजपा का एकमात्र काम राजनीतिक लाभ लेना है और इसी लक्ष्य के साथ आगे बढ़ रही है।

उल्लेखनीय है कि हाल ही में पश्चिम बंगाल में अम्फन चक्रवात आया था, जिसे संभालने में पश्चिम बंगाल सरकार बहुत हद तक अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकी थी। चक्रवात के 15 दिन बीत जाने के बाद भी कई क्षेत्रों में जलजमाव है। बिजली आपूर्ति सामान्य नहीं हो सकी है और मोबाइल नेटवर्क व इंटरनेट सेवाएं भी बाधित हैं। इसे लेकर भी भाजपा राज्य सरकार पर विफलता का आरोप लगा रही है। (एजेंसी, हि.स.)

 नेपाल में हुए भूस्खलन में अभी भी लापता हैं 19 लोग

नेपाल में हुए भूस्खलन में अभी भी लापता हैं 19 लोग

नई दिल्ली। पश्चिमी नेपाल में लगातार हो रही बारिश के कारण विभिन्न स्थानों में हुए भूस्खलन के कारण कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई है। साथ ही 19 लोग...

 कोरोना के बाद कजाक वायरस से दुनिया को एक और खतरा

कोरोना के बाद कजाक वायरस से दुनिया को एक और खतरा

नई दिल्ली। कजाकिस्तान के वायरस को लेकर दुनिया में एक नया डर उत्पन्न हो रहा है। चीनी दूतावास ने कहा है कि यह कोरोना से भी खतरनाक वायरस है, इससे अब तक...

 शिक्षा मंत्रियों की राय, पाकिस्तान में सितम्बर से फिर से खुलने चाहिए स्कूल

शिक्षा मंत्रियों की राय, पाकिस्तान में सितम्बर से फिर से खुलने चाहिए स्कूल

नई दिल्ली । पाकिस्तान के प्रांतीय शिक्षा मंत्रियों का कहना है कि सितम्बर में देश में स्कूल फिर से खुलने चाहिए। इसके लिए अब राष्ट्रीय समन्वय समिति...

 नेपाल में बरपने लगा बाढ़ का कहर

नेपाल में बरपने लगा बाढ़ का कहर

नई दिल्ली। नेपाल के सिंधुपालचौक जिले में बाढ़ आने से 2 लोगों की मौत हो गई है और 18 लोग लापता हो गए हैं। पुलिस ने गुरुवार को इसकी पुष्टि की है। बाढ़...

 भारत और यूरोपीय संघ के बीच 15 जुलाई को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगा समिट

भारत और यूरोपीय संघ के बीच 15 जुलाई को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगा समिट

नई दिल्ली । भारत और यूरोपीय संघ के बीच 15 जुलाई को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए समिट होगा। इस दौरान क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा हो सकती...

Share it
Top