Top
Home » देश » उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देकर व्रती महिलाओं ने डाला छठ के कठिन व्रत का किया समापन

उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देकर व्रती महिलाओं ने डाला छठ के कठिन व्रत का किया समापन

👤 manish kumar | Updated on:21 Nov 2020 6:47 AM GMT

उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देकर व्रती महिलाओं ने डाला छठ के कठिन व्रत का किया समापन

Share Post

वाराणसी । लोक आस्था और संस्कार से जुड़े सूर्याेपासना के चार दिवसीय महापर्व डाला छठ के अंतिम दिन शनिवार को व्रती महिलाओं ने उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देकर कठिन व्रत का समापन किया। भोर से ही गंगा के विभिन्न घाटों पर ईख, दीपक व दउरा में अन्य पूजन सामग्री लिए व्रती महिलाओं के साथ उनके परिजन पहुंचने लगे। अलसुबह ही गंगा घाटों पर व्रती महिलाओं और उनके परिजनों की भीड़ इस कदर जमा हो गई। कहीं पांव रखने की जगह नहीं बची थी।

सर्वाधिक भीड़ दशाश्वमेध घाट, अस्सीघाट, पंचगंगा, सामनेघाट पर रही। इस दौरान घाटों पर एनडीआरफ की पूरी बटालियन, जल पुलिस भी चौकस नजर आई। सूर्योदय की प्रतीक्षा के दौरान व्रती महिलाएं उगा हो सुरूजमल, पुरूबे से उगेले नारायन, पछिमे होला उजियार' और 'उग हो सूरुज देव भईल अरघ के बेर' सरीखे छठ माई के पारम्परिक गीत गाकर भगवान सूर्य से उदय होने के लिए मनुहार करती रहीं। जैसे ही पूरब दिशा से भगवान सूर्य की लालिमा बिखरने लगी बच्चे जमकर आतिशबाजी करने लगे। वहीं, व्रती महिलाओं के साथ उनके परिजनों और रिश्तेदारों ने भगवान सूर्य को अर्घ्य देकर उनके प्रति आस्था जताई।

गंगा तट के अलावा वरुणा नदी के किनारे, शहर के अन्य सरोवरों, तालाबों, कुंडों के साथ जिले के ग्रामीण क्षेत्रों के जलाशयों पर व्रती महिलाओं ने विधि विधान से छठी मईया के पूजन अर्चन के बाद सूर्यदेव को अर्घ्य दिया। व्रती महिलाओं ने अर्घ्य देने के दौरान भगवान भाष्कर और छठी मइया से वंश वृद्धि और परिवार के मंगल की कामना की। अर्घ्य देने के साथ ही लोगों में प्रसाद लेने की होड़ मच गई।

पर्व पर गंगाघाटों, वरुणा किनारे शास्त्रीघाट पर सुरक्षा का व्यापक इंतजाम रहा। भोर से ही एसएसपी और अन्य अफसर मुस्तैद रहे। सूर्य को प्रातः अर्घ्य देने के दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने फोर्स के साथ शास्त्री घाट कचहरी, राजघाट, गाय घाट, भैसासुर घाट, प्रहलाद घाट, त्रिलोचन घाट, सिंधिया घाट, मणिकर्णिका आदि घाटों पर पैदल भ्रमण किया।

Share it
Top