Top
Home » धर्म संस्कृति » महाअष्टमी पर ऐसे करें मां महागौरी को प्रसन्न, जानें विधि

महाअष्टमी पर ऐसे करें मां महागौरी को प्रसन्न, जानें विधि

👤 Veer Arjun | Updated on:6 Oct 2019 3:43 AM GMT

महाअष्टमी पर ऐसे करें मां महागौरी को प्रसन्न, जानें विधि

Share Post

नवरात्रि के आठवें दिन यानि आज रविवार को दुर्गा के आठवें स्वरूप महागौरी देवी की उपासना की जायेगी। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन महागौरी की उपासना करने से व्यक्ति के धन-सम्पत्ति में वृद्धि होती है । महाअष्ठमी के दिन दुर्गासप्तशती के मध्यम चरित्र का पाठ करने से व्यक्ति को विशेष फल की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं मां को प्रसन्न करने के लिए किस शुभ मुहूर्त में करें उनकी पूजा-अर्चना।

महाअष्टमी का शुभ मुहूर्त-

5 अक्टूबर सुबह 09:53 बजे से अष्टमी आरम्भ

6 अक्टूबर सुबह 10:56 बजे अष्टमी समाप्त

संध्या पूजा मुहूर्त- सुबह 10:30 बजे से 11:18 बजे तक

मां गौरी को प्रसन्न करने की यह है सही पूजा विधि-

- सबसे पहले पीले वस्त्र पहनकर मां की पूजा आरंभ करें।

- मां के समक्ष दीपक जलाएं और मन में उनका ध्यान करें।

- पूजा में मां को श्वेत या पीले फूल अर्पित करें।

- मां की पूजा करते समय इस मंत्र का जाप करें-

श्वेते वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बरधरा शुचिः।

महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोदया॥

- अगर पूजा मध्य रात्रि में की जाय तो इसके परिणाम ज्यादा शुभ होते हैं।

ऐसा है मां का स्वरुप-

हिंदू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार महागौरी को शिवा नाम से भी पहचाना जाता है। महागौरी के एक हाथ में दुर्गा शक्ति का प्रतीक त्रिशूल तो दूसरे हाथ में भगवान शिव का प्रतीक डमरू है। बात अगर मां के सांसारिक रूप की करें तो महागौरी उज्ज्वल, कोमल, श्वेत वर्णी तथा श्वेत वस्त्रधारी और चतुर्भुजा हैं। इनके एक हाथ में त्रिशूल और दूसरे में डमरू है तो तीसरा हाथ वरमुद्रा में हैं और चौथा हाथ एक गृहस्थ महिला की शक्ति को दर्शाता हुआ है। महागौरी को गायन और संगीत बहुत पसंद है। ये सफेद वृषभ यानी बैल पर सवार रहती हैं। इनके समस्त आभूषण आदि भी श्वेत हैं। माना जाता है कि महागौरी की उपासना करने से पूर्वसंचित पाप भी नष्ट हो जाते हैं।

अष्टमी के दिन कन्या पूजन विधि-

अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना श्रेष्ठ माना जाता है। कन्या पूजन के दौरान कन्याओं की संख्या 9 होनी चाहिए अन्यथा 2 ही कन्याओं का पूजन करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कन्या पूजन करते समय कन्याओं की आयु 2 साल से ऊपर और 10 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए। कन्या पूजन के बाद उन्हें भोजन करवाकर दक्षिणा भी देनी चाहिए।

प्रसाद में लगाएं इन चीजों का भोग-

मां शक्ति के इस स्वरूप की पूजा में नारियल, हलवा, पूड़ी और सब्जी का भोग लगाया जाता जाता है। आज के दिन काले चने का प्रसाद विशेषरूप से बनाया जाता है।

 ग्रुप सात शिखर सम्मेलन की बैठक फ़िलहाल रद्द, मेज़बान ट्रम्प ने कहा पुनर्गठन ज़रूरी

ग्रुप सात शिखर सम्मेलन की बैठक फ़िलहाल रद्द, मेज़बान ट्रम्प ने कहा पुनर्गठन ज़रूरी

वाशिंगटन । राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कैम्प डेविड में अगले महीने होने वाली ग्रुप सात देशों के शिखर सम्मेलन की बैठक अनिश्चित काल के लिए टाल दी है।...

 काबुल शहर में एक विस्फोट में निजी टीवी चैनल के 2 कर्मचारी मारे गए

काबुल शहर में एक विस्फोट में निजी टीवी चैनल के 2 कर्मचारी मारे गए

नई दिल्ली। अफ़ग़ानिस्तान शहर की राजधानी में किसी अनजान समूह द्वारा एक टीवी चैनल पर हमला किया गया| सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि इस हमले में एक निजी...

 अमेरिकी अंतरिक्ष यान स्पेस x की सफलता को लेकर भारी उत्साह

अमेरिकी अंतरिक्ष यान स्पेस x की सफलता को लेकर भारी उत्साह

लॉस एंजेल्स। फ़्लोरिडा के जान एफ कनेडी सेंटर से स्पेस X के साथ दो अंतरिक्ष यात्रियों बॉब बेंकेन और ड़ाग हरली के अंतरिक्ष केंद्र की ओर प्रस्थान को ले...

 अमेरिकी अंतरिक्ष यान स्पेस x की सफलता को लेकर भारी उत्साह

अमेरिकी अंतरिक्ष यान स्पेस x की सफलता को लेकर भारी उत्साह

लॉस एंजेल्स । फ़्लोरिडा के जान एफ कनेडी सेंटर से स्पेस X के साथ दो अंतरिक्ष यात्रियों बॉब बेंकेन और ड़ाग हरली के अंतरिक्ष केंद्र की ओर प्रस्थान को ले...

 न्यूयॉर्क में 8 जून से लॉकडाउन खुलने की उम्मीद

न्यूयॉर्क में 8 जून से लॉकडाउन खुलने की उम्मीद

नई दिल्ली। न्यूयॉर्क शहर में 8 जून को लॉकडाउन खोलने के पहले चरण के लिए तैयारियां करीब-करीब पूरी कर ली गईं हैं। न्यूयॉर्क के गवर्नर क्युमो ने शुक्रवार...

Share it
Top